Soldier Story | एक हमला वहां भी हुआ होगा

Soldier Story
साथियों, 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी आत्मघाती हमले में देश के 39 जवान शहीद हुए हैं! हर जवान का परिवार आज दुःख और गम के उस पड़ाव पर खड़ा है जिसकी भरपाई शायद ही कभी की जा सके, लेकिन इसी बिच देश के कोने-कोने से शहीदों के परिवारों की हमें कई ऐसी कहानियां (Soldier Story) मिल रही है जो दिल को झकझोर कर रख देने वाली है| इसी बिच हमें हमारे ही एक पाठक ने ऐसी कहानी हमें भेजी है जिसे पढ़कर हमें लगा की यह कहानी देश के हर उस व्यक्ति तक पहुंचना आवश्यक है जो देश से प्यार करता है और देश के लिए मर मिटने को तैयार है| आप सभी पाठकों से बस हमारा यही अनुरोध है की अगर आपके दिल को हमारी यह कहानी थोडा सा भी छु जाए तो कृपया इस कहानी को शेयर कर देश के घर-घर तक पहुँचाने का कष्ट करें!!

एक हमला वहां भी हुआ होगा | Soldier Story

“आज भी फोन नही किया! मैं बात ही नही करूंगी आज…!! फोन करेंगे तो भी नही… कम से कम वेलेंटाइन डे पे कोई फूल ही भेज देते वाट्सएप पर… पर नहीं इन्हें कहाँ समय है हमारे लिए… पिछली बार तो मेरे द्वारा कढाई करके दिल बनाया हुए रुमाल से बन्दूक को घूंघट ओढाकर उसे चूमते हुए फोटो भेजी थी”
इन्ही खयालो को सोचते हुए आज पूनम के होठों पर जरा सी मुस्कान उभर आई! अभी एक साल ही तो हुआ था पूनम और राजेश की शादी को| पूनम जब राजेश से पहली बार मिली थी तभी उसे अपने होने वाले पति के देशप्रेम की जलक साफ देखने को मिल गई थी| पहली मुलाकात में ही राजेश ने पूनम को कह दिया था की इस दुनिया में वह सबसे ज्यादा प्रेम अपनी भारत माता से करता है| शायद यही कारण था की पहली मुलाकात में ही पूनम ने राजेश से शादी के लिए हाँ कर दिया था|
शादी के 10 दिन बाद ही राजेश वापस सरहद पर अपना फ़र्ज़ पूरा करने चल पड़ा था| हालाँकि इन 10 दिनों में भी राजेश और पूनम केवल 3 दिन ही तो साथ रहे थे| लेकिन इन 3 दिनों में पूनम ने अपनी पूरी ज़िन्दगी राजेश के साथ जी ली थी| वापस आने का वादा करके राजेश चला तो गया लेकिन पूनम रोज राजेश के फ़ोन के इंतज़ार में घंटों फ़ोन के पास ही बेठी रहती|
आज भी वह सुबह से राजेश के फ़ोन का इंतज़ार …

Continue Reading