shayarisms4lovers June18 271 - वक़्त की क़ैद में ज़िन्दगी – फैयाज़ शायरी

वक़्त की क़ैद में ज़िन्दगी – फैयाज़ शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

तुझसे मिलकर


तुझसे मिलकर हमें रोना था बहुत रोना था,
तंगी-ए-वक़्त-ए-मुलाक़ात ने रोने न दिया.

हिंदी और उर्दू शायरी – वक़्त शायरी – तुझसे मिलकर हमें रोना था बहुत रोना था

Tujhase Milakar

Tujhase milakar hamene ronaa thaa bahut ronaa thaa
tangii-ae-waqt-ae-mulaaqaat ne rone na diyaa

Hindi and urdu shayari – Waqt Shayari – tujhase milakar hamene ronaa thaa bahut

वक़्त की क़ैद में ज़िन्दगी

वक़्त की क़ैद में ज़िन्दगी है मगर,
चंद घड़ियाँ यही हैं जो आज़ाद हैं,
इन को खो कर अभी जान-ए-जाँ,
उम्र भर न तरसते रहो.

– फैयाज़
हिंदी और उर्दू शायरी – वक़्त शायरी – वक़्त की क़ैद में ज़िन्दगी है मगर

Waqt ki Qaid Mein Zindagi

waqt ki qaid mein zindagi hai magar
chand ghadiyaan yahi hain jo aazaad hai
In ko khoo kar abhi jaan-e-jaaN
umar bhar na taraste raho –

–Faiyaz
Hindi and urdu shayari – Waqt Shayari – waqt ki qaid mein zindagi hai magar
Continue Reading
shayarisms4lovers June18 176 - Ahmad Faraz Shayari – Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The

Ahmad Faraz Shayari – Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

अकेले तो हम पहले भी जी रहे थे “फराज़
क्यों तन्हा हो गए तेरे जाने के बाद

प्यार में एक ही मौसम है बहारों का  “फ़राज़
लोग कैसे मौसमो की तरह बदल जाते है

वहां से एक पानी की बूँद न निकल सकी
तमाम उम्र जिन आँखों को हम झील देखते रहे

जिसे भी चाहा है शिदद्त से चाहा है
सिलसिला टुटा नहीं दर्द की ज़ंज़ीर का

वो जो शख्स कहता रहा तू न मिला तो मर जाऊंगा
वो जिन्दा है यही बात किसी और से कहने के लिए

कुछ ऐसे हादसे भी ज़िन्दगी में होते है  “फ़राज़
इंसान तो बच जाता है पर ज़िंदा नहीं रहता

 

ऐसा डूबा हूँ तेरी याद के समंदर में
दिल का धड़कना भी अब तेरे कदमो की सदा लगती है

एक ही ज़ख्म नहीं सारा बदन ज़ख़्मी है
दर्द हैरान है की उठूँ तो कहाँ से उठूँ

तुम्हारी दुनिया में हम जैसे हज़ारों है
हम ही पागल थे की तुम को पा के इतराने लगे

तमाम उम्र मुझे टूटना बिखरना था  “फ़राज़
वो मेहरबाँ भी कहाँ तक समेटा मुझे

शायरी – अहमद फ़राज़

Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The “Fazar
Kyon Tanhaa Ho Gaye Tere Jane Ke Baad

Pyar Mein Ek Hi Mausaam Hai Bharoon Ka “Faraz
Log Kaise Mausmoo Ki Tarah Badal Jate Hai

Wahan Se Ek Pani Ki Boond Na Nikal Ski
Tamaam Umar Jin Ankhon Ko Hum Jheel Dekhte Rahe

Jiso Bhi Chaha Hai Chidaadt Se Chaha Hai
Silsila Tuta Nahi Dard Ki Zanzeer Ka

Wo Jo Shakhs Kehta Raha Tu Na Mila To Maar Jaunga
Wo Jinda Hai Yahi Baat Kisi Aur Se Kehne Ke Liye

Kush Aise Hadse Bhi Zindagi Mein Hote Hai “Fazar”
Insan To Bach Jata Hai Par Zindaa Nahi Rehta

Aissa Duba Hun Teri Yaad Ke Samandar Mein
Dil Ka Dhadkna Bhi Ab Tere Kadmoo Ki Sadaa Lagti Hai

Ek Hi Zakham Nahi Saara Badan Zakhmi Hai
Dard Hairan Hai Ki Uutun To Khan Se Uutun

Tumhari Duniya Mein Hum Jaise Hazaron Hai
Hum Hi Pagal The Ki Tum Ko Pa Ke Itrane Lage

Tamam Umar Mujhe Tootna Bikhrna Tha “Faraz
Wo Mehrban Bhi Kahan Tak Sameta Mujhe

Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe Hai “Fazar
Kyon Tanha Ho Gaye Tere Jane Ke Baad

Shayari By- : Ahmad Faraz

Continue Reading