shayarisms4lovers mar18 38 - जब भी तेरे रुखसार की तामीर हम करते है

जब भी तेरे रुखसार की तामीर हम करते है

जब भी तेरे रुखसार की तामीर हम करते है जब भी तेरे रुखसार की तामीर हम करते है हम उस वक़्त खुदा का शुक्रगुजार करते है पाया था तुझे इबादत में खुदा की रहमतों से न कर सके मुकमल उस फ़रियाद को याद करते है Jab Bhi Tere Rukhsar ki Tamir Hum Karte Hai Jab bhi tere rukhsar ki tamir hum karte hai hum us waqt khuda ka sukargujar karte hai paya tha tujhe ibadat mein khuda ki rehmton se na kar sake mukamal us fariyaad ko yaad karte hai.. दर -ओ -दीवार अब कोई नहीं है इस शहर बिरने में न कोई दर -ओ -दीवार है इस महखाने मैं हर कोई अजनबी सा मिलता है बीत गए वो दिन जब गुल थे गुलज़ार अब तो जीना भी एक सवाल लगता है Dar-o-Diwaar Ab koi nahi hai is shehar birane mein na koi dar-o-diwaar hai is mehkhane main har koi ajnabi sa milta hai beeat gaye wo din jab gul the gulzaar ab to jina bhi ek sawal lagta hai.. दूर रह कर भी तुम दिल से जुदा न होंगे न रहे कोई गम गिला इस क़दर वफ़ा देंगे तेरी एक ख़ुशी की खातिर हम सब कुछ लूटा देंगे कभी […]

Continue Reading

यादों का इक झोंका – तेरी यादें शायरी

सजा बन जाती है गुज़रे हुए वक़्त की यादें न जाने क्यों छोड़ जाने के लिए मेहरबान होते हैं लोग यादों का इक झोंका यादों का इक झोंका आया हम से मिलने बरसों बाद पहले इतना रोये न थे जितना रोये बरसों बाद लम्हा लम्हा उजड़ा तो ही हम को एहसास हुआ पत्थर आये बरसों पहले शीशे टूटे बरसों बाद Yaadon Ka Ik Jhonka Yaadon Ka Ik Jhonka Aaya Hum Se Milne Barson Baad Pehle Itna Roye Na The Jitna Roye Barson Baad Lamha Lamha Ujdaa To Hi Hum Ko Ihsaas Hua Pathar Aaye Barson Pehle Sheshe Tote Barson Baad इन यादों को ले जाना यादें तेरी रख दी है सँभालकर दूर कहीं इस दिल से निकाल कर सब कुछ तो वापिस ले लिया है तुमने दूर जाकर इन यादों को भी ले जाना किसी रोज़ आ कर In Yaadon Ko Le Jana Yaaden teri rakh di hai sambhalkar Dur kahin is dil se nikalkar Sab kuch to wapis le liya hai tumne dur jaakar In yaadon ko bhi le jana kisi roz aakar.. किसी की याद में बेकरार ऐ दिल किसी की याद में होता है बेकरार क्यों जिस ने भुला दिया तुझे , उस का है इंतज़ार क्यों […]

Continue Reading

इश्क़ में यह दूरियां – दूरियाँ शायरी

इन राहों की दूरियां निगाहों की दूरियां हम राहों की दूरियां फनाह हो सभी दूरियां तेरी नज़रों से ओझल हो जायेंगे तेरी नज़रों से ओझल हो जायेंगे हम दूर फ़िज़ाओं में कहीं खो जायेंगे हम हमारी यादों से लिपट कर रोते रहोगे जब ज़मीन की मट्टी में सो जायेंगे हम Teri Nazron Se Ozhal Ho Jayenge Hum Teri Nazron Se Ozhal Ho Jayenge Hum Dur Fizaoon Mein Kahain Kho Jayenge Hum Hamari Yaadon Se Lipat Kar Rote Rahoge Jab Zameen Ki Matti Mein So Jayenge Hum कुछ दूरियां तो कुछ फासले बाकी हैं अभी कुछ दूरियां तो कुछ फासले बाकी हैं पल पल सिमटती शाम से कुछ रौशनी बाकी हैं हमें यकीन है वो देखा हुआ कल आएगा ज़रूर अभी वो हौसले वो यकीन बाकी हैं Kuch Dooriyan To Kuch Faasle Baaki Hain Abhi Kuch Dooriyan To Kuch Faasle Baaki Hain Pal Pal Simatati Shaam Se Kuch Roshni Baaki Hain Hame Yakeen Hai Wo Dekha Hua Kal Aayega Zaroor Abhi Wo Housle Wo Ummedein Baaki Hain बहुत दूर निकल आये हैं चलते चलते हम बहुत दूर निकल आये हैं चलते चलते अब ठहर जाएँ कहीं शाम के ढलते ढलते रात के बाद सहर होगी मगर किस के लिए हम भी […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 215 - जिंदगी की रंग-ओ-बू – Shayari of Life

जिंदगी की रंग-ओ-बू – Shayari of Life

मंजूर कब थी हमको वतन से दूरियां आईना-ऐ-ख़ुलूस-ऐ-वफ़ा चूर हो गए जितने चिराग-ऐ-नूर थे बे नूर हो गए मालूम यह हुआ की वो रास्ते का साथ था मंज़िल करीब आई और हम दूर हो गए मंजूर कब थी हमको वतन से यह दूरियां हालात की जफ़ाओं से मजबूर हो गए कुछ आ गयी हमे एहले-ऐ-वफ़ा ऐ दोस्तों कुछ वो भी अपने हुस्न पे मगरूर हो गए चरागों की ऐसी इनायत हुई हफ़ीज़ के जो ज़ख़्म भर चले थे वो नासूर हो गए Manzoor Kab Thi Humko Watan Se Dooriyan Aaina-AE-Khuloos-E-Wafa Churr Ho Gaye Jitne Chirag-AE-Noor The Benoor Ho Gaye Malum Yeh Hua Ki Wo Raaste Ka Sath Tha Manzil Kareeb Aayi aur Hum Door Ho Gaye, Manzoor Kab Thi Humko Watan Se Yeh Dooriyan Haalaat Ki Jafaoon Se Majboor Ho Gaye Kuch Aa Gayi Hume Ahl-AE-Wafa Mein Ae dosto Kuch Wo Bhi Apne Husn Pe Magroor Ho Gaye Charagon Ki Aisi Inayaat Hui Hafeez Ke Jo Zakham Bhar Chale the Wo Nasoor Ho Gaye   ऐ इंसान जरा संभल के चल कल रात हम गुनगुनाते निकले दिल में कुछ अरमान थे एक तरफ थे जंगल , एक तरफ श्मशान थे रस्ते में एक हड्डी पैरो से टकराई , उस के […]

Continue Reading