shayarisms4lovers mar18 108 - यह जरूरी तो नहीं – इश्क़-ऐ-गम

यह जरूरी तो नहीं – इश्क़-ऐ-गम

उम्र जलवो में बसर हो यह जरूरी तो नहीं हर शबे-ऐ-गम की सेहर हो यह जरूरी तो नहीं नींद तो दर्द के बिस्तर पर भी आ जाती है उसके आगोश में सर हो यह जरूरी तो नहीं आग को खेल पतंगों ने समझ रखा है सब को अंजाम का डर  हो यह जरूरी तो नहीं वो करता है जो मस्जिद में खुदा को सजदे उसके सजदों में असर हो यह जरूरी तो नहीं सब की शाकी पे नज़र हो यह जरूरी है मगर सब पे शाकी की नज़र हो यह जरूरी तो नहीं शायरी तो वो शक्श लिखते है यह शायरी लिखना उनका काम नहीं जिनके दिल आँखों में बसा करते है शायरी तो वो शक्श लिखते है जो शराब से नहीं , दर्द का नशा करते है मिट गयी उम्मीद किसी की शिकवा किसी का न फ़रियाद किसी की होनी थी यूँही जिंदगी बर्बाद किसी की एहसास मिटा, तलाश मिटी,मिट गयी उम्मीद किसी की सब मिट गए ,पर न मिटा सके, याद उसकी कहा था मोहबत करो क्यों कोसते है मोहबत को हर बार लोग क्या मोहबत के कहा था मोहबत करो

Continue Reading

यादों का इक झोंका – तेरी यादें शायरी

सजा बन जाती है गुज़रे हुए वक़्त की यादें न जाने क्यों छोड़ जाने के लिए मेहरबान होते हैं लोग यादों का इक झोंका यादों का इक झोंका आया हम से मिलने बरसों बाद पहले इतना रोये न थे जितना रोये बरसों बाद लम्हा लम्हा उजड़ा तो ही हम को एहसास हुआ पत्थर आये बरसों पहले शीशे टूटे बरसों बाद Yaadon Ka Ik Jhonka Yaadon Ka Ik Jhonka Aaya Hum Se Milne Barson Baad Pehle Itna Roye Na The Jitna Roye Barson Baad Lamha Lamha Ujdaa To Hi Hum Ko Ihsaas Hua Pathar Aaye Barson Pehle Sheshe Tote Barson Baad इन यादों को ले जाना यादें तेरी रख दी है सँभालकर दूर कहीं इस दिल से निकाल कर सब कुछ तो वापिस ले लिया है तुमने दूर जाकर इन यादों को भी ले जाना किसी रोज़ आ कर In Yaadon Ko Le Jana Yaaden teri rakh di hai sambhalkar Dur kahin is dil se nikalkar Sab kuch to wapis le liya hai tumne dur jaakar In yaadon ko bhi le jana kisi roz aakar.. किसी की याद में बेकरार ऐ दिल किसी की याद में होता है बेकरार क्यों जिस ने भुला दिया तुझे , उस का है इंतज़ार क्यों […]

Continue Reading