shayarisms4lovers June18 292 - यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

शाम-ऐ-तन्हाई

शाम से है मुझ को सुबह-ऐ-ग़म की फ़िक्र
सुबह से ग़म शाम-ऐ-तन्हाई का है

Shaam-ae-Tanhai

Sham se hai mujh ko subha-ae-gham ki fikar
Subha se gham shaam-ae-tanhai ka hai


शाम के बाद

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दर्द
तू किसी रोज़ मेरे घर में उतर शाम के बाद
लौट आये न किसी रोज़ वो आवारा मिज़ाज
खोल रखते हैं इसी आस पर दर शाम के बाद

Shaam ke Baad

Tu hai suraj tujhe maloom kahan raat ka dard
Tu kisi roz mere ghar mein utar sham ke baad
Laut aaye na kisi roz wo aavara mizaaj
Khol rakhte hain isi aas par dar shaam ke baad


शाम की दहलीज़

भीगी हुई एक शाम की दहलीज़ पे बैठा हूँ
मैं दिल के सुलगने का सबब सोच रहा हूँ
दुनिया की तो आदत है बदल लेती है आंखें
में उस के बदलने का सबब सोच रहा हूँ

Shaam Ki Dehleez

Bheegi hui ek Shaam Ki Dehleez Pe Baitha hoon
Main dil Ke Sulagne Ka Sabab Soch Raha Hoon
Duniya Ki to Aadat Hai Badal leeti Hai Ankhain
Mein us Ke Badlaney Ka Sabab Soch Raha Hoon


ज़रा सी शाम होने दो

अभी सूरज नहीं डूबा ज़रा सी शाम होने दो
मैं खुद ही लौट जाऊंगा मुझे नाकाम होने दो
मुझे बदनाम करने के बहाने ढूँढ़ते हो क्यों
मैं खुद ही हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम तो होने दो

Zara si Shaam Hone Do

Abhi suraj nahi dooba zara si shaam hone do
Main khud hi laut jaounga mujhe nakaam hone do
Mujhe badnaam karne ke bahane dhoondte ho kyon
Main khud hi ho jaunga badnaam pehle naam to hone do


हमें मालूम था उस शाम भी

जुस्तुजू ख्वावों की उम्र भर करते रहे
चाँद के हमराह हम हर शब् सफर करते रहे
वो न आएगा हमें मालूम था उस शाम भी
इंतज़ार उसका मगर कुछ सोच कर करते रहे

Humein Maaloom Tha us Shaam Bhi

Justuju khwawon ki umar bhar karte rahe
Chand ke humraah hum har shab safar karte rahay
Wo na aayega Humein maaloom tha us shaam bhi
Intezaar uska magar kuch soch kar karte rahay


शाम की पलकों पे लरज़ते रहना

आंसुओं शाम की पलकों पे लरज़ते रहना
डूब जाये जो यह मंज़र तो बरसते रहना
उस की आदत न बदली हर बात अधूरी करना
और फिर बात का मफ़हूम बदलते रहना

Shaam Ki Palkon Pe Larazty Rehna

Ansuoon Shaam Ki Palkon Pe Larazty Rehna…

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 292 - ख्वाब टूटें या बिक जाएँ – ग़मगीन शायरी

ख्वाब टूटें या बिक जाएँ – ग़मगीन शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मेरे दिल में

घर बना कर वो मेरे दिल में छोड़ गया है
न खुद रहता है न किसी और को बसने देता है

Mere Dil Mein

Ghar bana kar wo mere dil mein chod gaya hai
Na khud rehta hai na kisi aur ko basne deta hai


ज़रा ठहर जाओ

थकी थकी सी फ़िज़ाएं , बुझे बुझे से तारे
बड़ी उदास गहरी रातें है , ज़रा ठहर जाओ

Zara Tehar Jao

Thaki thaki si fizaayen, bujhey bujhey se taare
Badi udaas gehri ratein hai, zara tehar jao


दस्तक की तमन्ना

उजड़े हुए घर का मैं वो दरवाज़ा हूँ “मोहसिन”
दीमक की तरह खा गयी जिसे तेरी दस्तक की तमन्ना

Dastak ki Tamanna

Ujde hue ghar ka main wo darwaaza hoon “Mohsin”
Deemak ki tarah kha gayi jise teri dastak ki tamanna


वो कितना मेहरबान था

वो कितना मेहरबान था के हज़ारों ग़म दे गया “मोहसिन”
हम कितने खुदगर्ज निकले कुछ न दे सके “मुहब्बत ” के सिवा

Wo Kitna Mehrban Tha

Wo Kitna Mehrban Tha Ke Hazaron Ghum De Gaya “Mohsin”
Hum Kitne Khudgaraz Nikle Kuch Na De Sake “MUHABBAT” Ke siva


बहलाया था दिल

मौजूद थी उदासी अभी पिछली रात की
बहलाया था दिल ज़रा सा के फिर रात हो गयी

Behlaya Tha Dil

Mojood thi udaasi abhi pichli raat ki
behlaya tha dil zara sa ke phir raat ho gayi


यकीन दिल दो

तुम मेरे हो इस बात में कोई शक नहीं
तुम किसी और के नहीं होंगे इस बात का यकीन दिल दो

Yakeen Dila Do

Tum Mere Ho Is Baat Me Koi Shak Nahi
Tum kisi Aur Ke Nahi Hoge is Baat Ka Yakeen Dila Do


पैग़ाम -ऐ -शौक

पैग़ाम -ऐ -शौक को इतना तवील मत करना ऐ “क़ासिद”
बस मुकतसर उन से कहना के आँखें तरस गयी हैं

Paigham-ae-Sauk

Paigham-ae-Sauk Ko Itna Taveel Mat Karna Ae “Qasid”
Bas Muqtasar Un Se Kehna Ke Aankhein Taras Gayi Hain


फितरत -ऐ -इंसान

गुफ़्तुगू कीजिये के यह फितरत -ऐ -इंसान है “शाकेब”
जाले लग जाते हैं जब बंद मकान होता है

Fitrat-ae-Insan

Guftugu kijiye ke yeh fitrat-ae-insan hai “Shakeb”
Jaalay lag jatay hain jab band makaan hota hai

Continue Reading