shayarisms4lovers mar18 202 - ग़ज़ल – वो मेरा हमसफ़र हुआ भी तो लम्हा भर

ग़ज़ल – वो मेरा हमसफ़र हुआ भी तो लम्हा भर

हम तो अकेले रहे हमेशा रहेगा यह आलम कहाँ यह महफ़िल कहाँ और यह हमदम कहाँ सदा चोट पर चोट खाता रहा मुक़द्दर में इस दिल के मरहम कहाँ कहाँ अब्र कोई कड़ी धुप में झुलसते बयाबां में शबनम कहाँ ना मस्त आँखें होंगी ना ज़ुल्फे रसा हमेशा रहेगा यह मौसम कहाँ अकेले थे हम […]

Continue Reading

हर एक से कहते हैं क्या “दाग़ ” बेवफा निकला – “दाग़” उर्दू शायरी

हर एक से कहते हैं क्या “दाग़ ” बेवफा निकला  तुम्हारे खत मैं नया एक सलाम किस का था न था रक़ीब तो आखिर वो नाम किस का था वो क़त्ल कर के हर किसी से पूछते हैं यह काम किस ने किया है ये काम किस का था वफ़ा करेंगे निभाएंगे बात मानेंगे तुम्हें […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 12 - उर्दू ग़ज़लें

उर्दू ग़ज़लें

मैंने तेरे इंतज़ार से मोहब्बत की है तेरे इख्लास से मोहब्बत की है तेरे एहसास से मोहब्बत की है तू मेरे पास नहीं है फिर भी तेरी याद से मोहब्बत की है कभी तो तूने भी मुझे याद किया होगा मैंने उन्ही लम्हात से मोहब्बत की है जिन में हों तेरी मेरी बातें , मैंने […]

Continue Reading
pexels photo 701816 - दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं – जावेद अख्तर

दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं – जावेद अख्तर

दर्द के फूल  दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं ज़ख्म कैसे भी हों कुछ रोज़ में भर जाते हैं उस दरीचे में भी अब कोई नहीं और हम भी सर झुकाए हुए चुप -चाप गुज़र जाते हैं रास्ता रोके खडी है यही उलझन कब से कोई पूछे तो कहें क्या की किधर […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 79 - Sad Shayari - Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai

Sad Shayari – Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai

Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai, Zindagi baes-e-aazaar hui jaati hai, Hamara milna bhi ab khawab lagta hai, Hamaare darmiyaan judai deewar hui jaati hai, Na jaane vasal ki shab kab aayegi, Ab to saans bhi dushwaar hui jaati hai, Main isey kaise zindagi keh doon, Jo basar tere bagair hui jaati hai… – […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 80 - Aatish Haider Ali - Sun to sahi

Aatish Haider Ali – Sun to sahi

Sun to sahii jahaan main hai teraa fasaanaa kyaa, Kahti hai tujh se Khalq-e-Khudaa Gaibanaa kya. Zina saba kaa Dhundati hai apni musht-e-Khaak, Baam-e-baland yaar ka hai astana kya. Ati hai kis tarah se meri kabz-e-ruuh ko, Dekhun to maut dhund rahe hai bahana kya. Betab hai kamal hamara dil-e-aziim, Mahmaan saray-e-jism ka hoga ravana […]

Continue Reading
Bashir Badr - Aansuoon se dhuli khushi ki tarah

Bashir Badr – Aansuoon se dhuli khushi ki tarah

Aansuoon se dhuli khushi ki tarah, Rishtey hotey hain shayari ki tarah, Door reh kar bhi hoon issi ki tarah, Chaand se door chandni ki tarah, Khoobsurat, udaas, khaufzada, Woh bhi hai beesween sadi ki tarah, Jab bhi kabhi badlon mein ghirta hai, Chand lagta hai aadmi ki tarah, Hum khuda ban ke ayenge warna, […]

Continue Reading