गुरु नानक देव जी की कहानी Guru Nanak Dev Ji Stories in Hindi

गुरु नानक देव जी के जीवन की एक कहानी Guru Nanak Dev Ji Stories in Hindi बात उन दिनों की है, जब गुरु नानक अपने शिष्य बाला और मरदाना के साथ पैदल ही हर जगह यात्रा किया करते थे। एक बार वो किसी गाँव से गुजर रहे थे, रास्ते में मरदाना को बहुत तेज प्यास लगी, धूप बहुत तेज थी और वो लोग काफी देर से पैदल ही चल रहे थे, इस वजह से गुरु नानक को भी बहुत प्यास लगी थी। लेकिन दूर- दूर तक कुछ दिखाई नहीं दे रहा था ,चलते चलते उन्हें एक पहाड़ी दिखाई दी, जिसकी चोटी पर एक कुआं दिख रहा था। मरदाना को लगा कि चलो यहाँ पानी मिल ही जायेगा। उस कुएं का मालिक एक लालची और धनी व्यक्ति था, जो भी इंसान कुएं पर पानी पीने, नहाने या कपड़े धोने आता वो उससे पानी के बदले धन लिया करता था। Guru Nanak Dev Jiगुरु नानक ने मरदाना को थोड़ा पानी लाने के लिए भेजा। मरदाना गर्मी से बेहाल पहाड़ी के शिखर पर गया और कुएं के मालिक से बोला- मैं बहुत प्यासा हूँ, क्या आप मुझे थोड़ा पानी देंगे? आदमी बोला- आपको पानी के बदले धन देना पड़ेगा, मरदाना- मित्र हमांरे पास धन […]

Continue Reading