shayarisms4lovers June18 175 - Khud kiTalash Abhi baki hai – Chanchal

Khud kiTalash Abhi baki hai – Chanchal

खुद की तलाश मे भटकती सी “मैं ” अनगिनत, अनन्त, असीम सवालो के संग! न जाने किस अधूरे पन को भरती सी- मैं | कई रिश्ते, जज्बात, रास्ते, और मंजिलों से गुजरती सी मैं | न जाने कितने एहसासों मै संवरती बिखरती सी “मैं ” कहा किस डगर किधर जा रही हूँ | क्या है? मेरा, जिसे कभी खो रही हूँ | तो कभी पा रही हूँ। जीवन का छोर, न जाने कब कहां कैसा है? पर इस नामालूम “मैं ” को जीवन भटकाव की भूलभुलैया में इतना तो मालूम हो गया कि अच्छा – बुरा, काम – निश्चय ही जीवन है, और शायद यही जीवन-दिशा हूँ ” मैं “।

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 125 - Mai or meri Nishudi – Shiv Pandit

Mai or meri Nishudi – Shiv Pandit

Ek din hm dono nikle muhbbt ke chirag jlane…….. m or meri nishudi….. vo meri jindgi ki andheri raho me… diye hath me lekr rkh rhi h…. m roshni ka tlbkaar hokr,diye jlaye jata hu… Meri jindgi roshn hoti ja rhi h… or vo muskurati ja rhi h… kon???? m or meri nishudi….. vo mera hath pkd kr,mujhe rah ke patthro se bchati ja rhi h…. naye rng,nayi trng meri ankho me jhlkati ja rhi h… mere kdmo ke sath chl rhe h kdm uske… kdm dr kdm mera sath nibhati ja rhi h…. kon???? m or meri nishudi… mene tnhahi me kabhi dekhe the kuch khwab.. jo tdp rhe the pure hone ke liye.. Mere unhi adhe,adhure khwabo ko… Apne khwab smjhkr pure krti ja rhi h….. pta h kon????? are baba…m or meri nishudi… hm aksr bat krte h muhbbt ki to,, vo naye aayam dikhati h mujhe.. meri janudi manudi h nisha.. or januda manuda khkr bulati h mujhe… kon??? m or meri nishudi… uski hath ki vo ptli ptli ungliya,meri hatheli pr likhti h aksr… Rat ke andhere me… i love you… jo dikhta nahi h subah hatheli pr.. pr mhk aati h uski…. Kiski..??? meri […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 06 - Teri zaroorat nahi

Teri zaroorat nahi

Teri meri yaadein.. Maana ke tera khaab aankhon par sawaar hai.. Maana ke tujhse ki nafrat bhi pyaar hai.. Har saanjh bhale hi aankhon me tujhe banaaye… Magar tere vapas aane se aaj bhi inkaar hai.. Maana neendon ko tujh me kho jane ki ijazat hai.. Maana ke har subah teri salamati ki ibadat hai.. Har din bhale hi tere kisson ki khoobsurati dikhaaye… Lekin tere bina jeene ki shayad is pyaar ko aadat hai.. Maana teri muskurahat se dil ki galiyan aabaad hai.. Maana teri gehri aankhon se hua ishq aaj bhi yaad hai.. Lekin tujhe paane k liye tera hona zaroori nahi… Kyonki teri judaai ki dastaan seene me kahin barbaad hai.. Meri mohabbat ka daayera bas teri tasveer tak hai.. Mere naseeb ki raahein bas us gehre samandar tak hai.. Jo tere chaand ki parchhai ko aagosh me lekar kahe… Ke tera mere kinaaron ki seemaaon par kya haq hai.. Teri Meri yaadein.. Meri yaadein

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 260 - “दुनिया का सबसे बड़ा सत्य” – Ajay

“दुनिया का सबसे बड़ा सत्य” – Ajay

एक दिन वो मेरे पास आई और पूछी कि पापा माँ कहाँ है , तुम तो कहते हो वो सितारा हैं आसमाँ की , तो बताओ न आखिर वो आसमाँ कहाँ है … बेटी के इन प्रश्नों ने एक तीर दिल मे मारी थी , कैसे उसे बता दूं मैं उसकी माँ मृत्यु से हरी थी  .. एक दिन वो अपने माँ की साड़ी से लिपट के सोई थी , उसकी आँखें बता रहीं थी कि वो कितना रोइ थी , मैंने उसे अपनी गोद मे उठाया और उसके बालों को जैसे ही सहलाया, वो झट से उठी और बोल पड़ी की , ” पापा माँ सपने में आई थी , एक शमा साथ में लाई थी , उस रोशनी में मैंने माँ के चेहरे को साफ- साफ देखा था , उसने वही साड़ी पहनी थी जिसे तुमने मुझसे छुपा के फेका था “ इतना कहते ही उसकी आँखे फिर से भीग चुकी थी , लेकिन अपने आँसुओ को भी छुपाना वो सीख चुकी थी .. आज एक बार फिर मैं उसके सामने ख़ामोश खड़ा था , मानों अपना मृत शरीर लिए उसके पास पड़ा था , ना मुँह में ज़बान थी और न ही कोई शब्द था , एक […]

Continue Reading