लालची राजा | Hindi Kahaniya for Kids

पाठकों नमस्कार, कहा गया है बच्चों को अगर उनकी ही भाषा में कोई बात समझाई जाए तो वे बेखुभी समझते हैं| लेकिन अब हर बच्चे के साथ बच्चा तो नहीं बना जा सकता| इसलिए अगर बच्चों को कोई शिक्षाप्रद बात बताना है तो उन्हें कहानी के माध्यम से बताई जा सकती है| इसीलिए आज हम आपके लिए ऐसी कहानियां (Hindi Kahaniya for Kids) लेकर आएं हैं जिन्हें आप अपने बच्चो को सुनाकर उन्हें ज़िन्दगी के बारे में बता सकते हैं! लीजिये पेश है आज की कहानी……… लालची राजा | Hindi Kahaniya for Kids यूनान देश के एक राज्य में एक लालची राजा रहता था| राजा इतना लालची था की उसे अपनी पुत्री के सिवा इस दुनियां में अगर कोई दूसरी चीज प्यारी थी तो वह बस सोना ही था| उसने इतना सोना इच्क्ट्हा कर लिया था की पूरा राज्य भी अगर बैठकर खाए तो सोना ख़त्म न हो, लेकिन फिर भी वह रात-दिन सोना इक्कठा करने के स्वप्न देखा करता था| ऐसे ही एक दिन राजा अपने खजाने में बैठा सोने की इटे और अशर्फियाँ  गिन रहा था तभी वहां पर एक देवदूत प्रकट हुए| उन्होंने राजा को असरफियन और सोने की इटें गिनते देखा तो आश्चर्य से बोले, “आप […]

Continue Reading

हिंदी कहानी : श्रेष्ठ कौन | Hindi Story : Shrestha Kaun

श्रेष्ठ कौन – Shrestha Kaun हिंदी कहानी : श्रेष्ठ कौन | Hindi Story : Shrestha Kaun : काशी के राजा वेनुगुप्त के गर्वदत्त, महादत्त और कोमलदत्त नामक तीन पुत्र थे। राजा वेनुगुप्त उन तीनों युवराज में से किसी एक को राजा बनाना चाहते थे। एक दिन राजा वेनुगुप्त ने तीनों पुत्रों को बुलाया और कहा किसी श्रेष्ठ व्यक्ति को खोज कर लाओ ? तीनों राजकुमार श्रेष्ठ व्यक्तिको खोजने निकल पड़े। कुछ समय बाद बड़ा राजकुमार गर्वदत्त एक राईस गोल-मटोल आदमी को लाया। उसने राजा से कहा, ‘ये सेठजी बहुत ही दान-पुण्य करते हैं। इन्होने कई मंदिर, तालाबों का निर्माण कराया है। यह सुनकर राजा वेनुगुप्त ने सेठ का स्वागत किया और धन देकर उन्हें सम्मान पूर्वक विदा किया।’ दूसरा राजकुमार महादत्त एक गरीब साधु को लेकर लौटा ।उसने राजा से कहा, ‘इन साधु को चारों वेद और पुराणों का पूरा ज्ञान है। इन्होंने चारों धामों की यात्रा पैदल ही की है। ये तप भी करते हैं और सात-सात दिनों तक निर्जल भी रहते हैं इसलिए ये श्रेष्ठ व्यक्ति हैं। राजा वेनुगुप्त ने ठीक उस सेठ की तरह ही साधु को भी धन का दान देकर सम्मान पूर्वक विदा किया।  Shrestha Kaun – Hindi Story आखिर में छोटा राजकुमार कोमलदत्त आया, वह अपने […]

Continue Reading