shayarisms4lovers June18 233 - Poem in Hindi | शायरी हिंदी में

Poem in Hindi | शायरी हिंदी में

Poem in Hindi | शायरी हिंदी में साथियों नमस्कार, Hindi Short Stories के इस नए अंक Poem in Hindi | शायरी हिंदी में आपका स्वागत है! इस अंक में हम आपको विभिन्न लेखकों द्वारा लिखी गई शायरियों और कविताओं से रूबरू करवाने जा रहें हैं ! Poem in Hindi | शायरी हिंदी में गुलज़ार सौंप गज़ल-ए-बहार […]

Continue Reading
आजादी पर 5 देश भक्ति गीत ( Desh Bhakti Geet in Hindi )

आजादी पर 5 देश भक्ति गीत ( Desh Bhakti Geet in Hindi )

ये देश भक्ति गीत उन शहीदों को समर्पित हैं जिन्होंने अपने लहू की बूंदों से आजाद भारत की धरती को सींचा है| इन लोकप्रिय Desh Bhakti Geet in Hindi और गानों के माध्यम से हम आजादी के उन दीवानों को नमन करते हैं जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा के लिए हँसते हँसते अपने प्राणों की आहुति […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - Best Hindi Shayari on Love , Life Download 2018

Best Hindi Shayari on Love , Life Download 2018

आज कल किसी को आजमाता नहीं हूँ मैं पास अपने भी किसी को बिठाता नहीं हूँ मैं ख्वाब में भी कहीं बेवफाई उसकी न दिखे इस लिए आँखों को कभी सुलाता नहीं हूँ मैं I O O O मुझे आईने की ज़रूरत नहीं है मैं तेरी निगाहों में रहना हूँ चाहता ना कर पाए कोई […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - देशभक्ति कविता इन हिंदी : चन्द्रशेखर आजाद! Desh Bhakti Poem

देशभक्ति कविता इन हिंदी : चन्द्रशेखर आजाद! Desh Bhakti Poem

देश प्रेम पर देशभक्ति कविता ये देशभक्ति कविता (Hindi Deshbhakti Kavita/Poem) महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद के बलिदान और उनके आजाद भारत के सपने पर आधारित है| इस हिंदी देशभक्ति कविता में कवि ने अपनी बातों से झकझोर कर रख दिया है| जिस आजादी के लिए चंद्रशेखर आजाद और भगत सिंह जैसे वीरों ने अपनी कुर्बानी […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - सृष्टि(Srishti) – Sumitranandan Pant (सुमित्रानंदन पंत)

सृष्टि(Srishti) – Sumitranandan Pant (सुमित्रानंदन पंत)

सृष्टि(Srishti) – Sumitranandan Pant (सुमित्रानंदन पंत) मिट्टी का गहरा अंधकार, डूबा है उस में एक बीज वह खो न गया, मिट्टी न बना कोदों, सरसों से शुद्र चीज! उस छोटे उर में छुपे हुए हैं डाल–पात औ’ स्कन्ध–मूल गहरी हरीतिमा की संसृति बहु रूप–रंग, फल और फूल! वह है मुट्ठी में बंद किये वट के […]

Continue Reading