Mahatma Gandhi Biography in Hindi, Essay of Mahatma Gandhi

महात्मा गांधी संक्षिप्त जीवन परिचय Mahatma Gandhi Brief Biography in Hindi, About Mahatma Gandhi नाम मोहन दास करम चन्द्र गांधी जन्म व स्थान 2 अक्टूबर 1869 ,गुजरात के पोरबंदर गांव में मृत्यु ३० जनवरी 1948 पिता करम चंद्र जी माता पुतली बाई पत्नी कस्तूरबा गांधी संतान हरिलाल, मणिलाल ,रामदास ,देवदास शिक्षा बैरिस्टर राष्ट्रीयता  भारतीय उपलब्धियां  भारत के राष्ट्रपिता, भारत को आजाद दिलवाने में अहम योगदान, सत्य और अहिंसा के प्रेरणा स्त्रोत, भारत के स्वतंत्रा संग्राम में महत्वपूर्ण योगदान भारत छोड़ो आंदोलन, स्वदेशी आंदोलन, असहयोग आंदोलन स्वदेशी आंदोलन आदि। महत्वपूर्ण कार्य  सत्या और अहिंसा का महत्व बताकर इसको लोगों तक पहुंचाया, छुआ-छूत जैसी बुराइयों को दूर किया महात्मा गांधी का प्रारंभिक जीवन (Early life of Mahatma Gandhi) महात्मा गाँधी का जन्म गुजरात के पोरबंदर गांव में हुआ था | इनके पिता जी श्री करम चंद्र गाँधी जी पोरबंदर के दीवान थे और माता जी (पुतली बाई) जो एक धार्मिक महिला थी| महात्मा गाँधी को ज्यादातर लोग बापू कह कर पुकारते थे| गांधी जी का विवाह 13 वर्ष की उम्र में कस्तूरबा बाई (14 वर्ष ) के साथ हुआ | गाँधी जी ने नवंबर सन 1887 में मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की थी और सन 1888 में भावनगर के समलदास कॉलेज में दाखिल […]

Continue Reading

Padmanabhaswamy Temple History In Hindi | पद्मनाभस्वामी मंदिर का रहस्य

नमस्कार दोस्तों “shayarisms4lovers.in” में आपका स्वागत है | दोस्तों वैसे तो केरला में कई सारे मंदिर है जिनकी कलाकृति अद्वितीय है और जिन्हे गिन पाना भी बहुत मुश्किल है, हर एक मंदिर अपने आप में एक अनोखी आस्था की छाप छोड़ता है और जिनके पीछे अपनी एक कहानी छिपी है आज हम ऐसे ही एक मदिर के बारे में बात करने जा रहे है जो भारत के केरल राज्य के तिरुअनन्तपुरम में स्थित, भगवान विष्णु का प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर, उस प्रसिद्ध मंदिर का नाम है पद्मनाभस्वामी मंदिर | यह भारत के प्रमुख वैष्णव मंदिरों में से एक है मंदिर के गर्भ गृह में भगवान विष्णु की विशाल मूर्ति है। इस प्रतिमा में भगवान विष्णु शेष नाग पर विराजमान है। यह ऐतिहासिक मंदिर तिरुअनंतपुरम के अनेक पर्यटन स्थलों में से एक है | यह मंदिर विश्व के धनवान मंदिरो में से एक है, यहाँ विश्व भर से लाखो लोग विष्णु भगवान् के दर्शन के लिए यहाँ पहुंचते है | पद्मनाभस्वामी मंदिर विष्णु-भक्तों की प्रख्यात आराधना-स्थली है। यहां केवल हिन्दू ही प्रवेश कर सकते है. इस मंदिर में प्रवेश के लिए पुरुषों को सिर्फ धोती, जबकि औरतों को साड़ी पहनना जरुरी होता है, यह बहुप्रतिस्थित मंदिर प्राचीन वास्तु शिल्प कारीगरी का एक […]

Continue Reading
SUMITRANANDAN PANT

Sumitranandan Pant Biography in Hindi, सुमित्रानंदन पंत जीवन परिचय, जीवनी

सुमित्रानंदन पन्त के जीवन पर निबंध, सुमित्रानंदन पन्त की प्रेरणादायक जीवनी, बायोग्राफी, हिस्ट्री, सुमित्रानंदन पंत जीवन परिचय हिंदी में SUMITRANANDAN PANT BIOGRAPHY IN HINDI, JIVANI, JIVAN PARICHAY, HISTORY, JIVNI, DOCUMENTARY नमस्कार दोस्तों “shayarisms4lovers.in” में आपका स्वागत है | दोस्तों आज हम बात करने जा रहे है हिंदी साहित्य के महान कवी सुमित्रानंदन पंत(Sumitranandan Pant) के बारे में, जिन्होंने सात वर्ष की छोटी सी उम्र में ही कविताएँ लिखना आरम्भ कर दी थी, सुमित्रानंदन पंत हिंदी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। और वह एक महान कवी के साथ साथ लेखक और स्वतंत्रता सेनानी भी थे। सुमित्रानंदन पंत नये युग के प्रवर्तक के रूप में आधुनिक हिन्दी साहित्य में उदित हुए। सुमित्रानंदन पंत ऐसे साहित्यकारों में गिने जाते हैं, जिनका प्रकृति चित्रण समकालीन कवियों में सबसे बेहतरीन था। इस युग को महादेवी वर्मा, जयशंकर प्रसाद, रामकुमार वर्मा और सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ जैसे प्रतिभावान कवियों का युग कहा जाता है। जीवन परिचय (जीवनी) / Biography / Documentary सुमित्रानंदन पंत जी का जन्म सुरम्य वातावरण में रविवार 20 मई 1900 को उत्तराखंड के कुमायूं की पहाड़ियों में स्थित बागेश्वर के एक गांव कौसानी में हुआ था, इनके जन्म के छह घंटे के भीतर ही उनकी माँ का […]

Continue Reading