shayarisms4lovers June18 240 - इश्क़ करने वाले आँखों की बात समझ लेते है – नशीली आँखों की शायरी

इश्क़ करने वाले आँखों की बात समझ लेते है – नशीली आँखों की शायरी

आँखों की बात इश्क़ करने वाले आँखों की बात समझ लेते है सपनो में यार आए तो उसे मुलाकात समझ लेते है रूठता तो आसमान भी है अपनी ज़मीन के लिए यह तो लोग ही उसे बरसात समझ लेते है Aankhon ki Baat Ishq karnewale Aankhon ki baat samajh lete hai Sapno mein yaar aaye Toh usse mulakat samajh lete hai Roota to aasman bhi hai Apni zameen ke liye Yeh to log hi usse barsaat samajh lete hai… नशीली ऑंखें नशीली आँखों से वो जब हमें देखते हैं हम घबराकर ऑंखें झुका लेते हैं कौन मिलाए उनकी आँखों से ऑंखें सुना है वो आँखों से अपना बना लेते है . Nashili Ankhen Nashili aankho se wo jab hamein dekhte hain, hum ghabraakar ankhen jhuka leite hain, kaun milaye unn ankhon se ankhen, suna hai wo ankho se apna bana leite hai… आँखों से बातें कोई आँखों से बातें करता हैं कोई आँखों से मुलाकाते करता हैं बड़ा मुश्किल होता हैं जवाब देना जब कोई चुप रह के सवाल करता हैं . Aankho se Batein Koi aankho se batein karta hain Koi aankhon se mulakate karta hain Bada mushkil hota hain jawab dena Jab koi chup raheke sawaal karta hain… […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 242 - Valentine’s Day – Romantic Shayari – इज़्हार-ऐ-मोहबत

Valentine’s Day – Romantic Shayari – इज़्हार-ऐ-मोहबत

लहर और याद लहर आती है किनारे से पलट जाती है , याद आती है दिल में समां जाती है , लहर और याद में फर्क सिर्फ इतना है , लहर बेवक़्त आती है और याद हर वक़्त आती है Lehar Aur Yaad Lehar aati hai kinare se palat jati hai, Yaad aati hai dil mein sama jati hai, Lehar aur yaad mein fark sirf itna hai, Lehar bewaqt aati hai aur yaad har waqt aati hai झुकी निगाह को इक़रार कहते हैं दिल की आवाज़ को इज़हार कहते हैं , झुकी निगाह को इक़रार कहते हैं , सिर्फ पाने का नाम इश्क़ नहीं , कुछ खोने को भी प्यार कहते हैं Jhuki Nigaah ko Iqraar Kehte Hain Dil ki aawaz ko izhaar kehte hain, Jhuki nigaah ko iqrar kehte hain, sirf paane ka naam ishq nahin, kuch khone ko bhi pyar kehte hain जिस ने मोहब्बत से मुझे चुना है आज इस क़दर राह में इश्क़ बिखरा पड़ा है , आज हर खुशबू फीकी , और गुमनाम हर दुआ है , इस अनजान दुनिया मैं आप कहाँ से आ गए कौन हो आप , जिस ने मोहब्बत से मुझे चुना है Jisne Mohabbat Say Mujhey Chunaa Hai Aaj is qdar […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 148 - तेरा रंग-ऐ-हिना – उर्दू हिना शायरी

तेरा रंग-ऐ-हिना – उर्दू हिना शायरी

हाथों की हिना चंद मासूम से पतों का लहू है ‘फाखिर’ जिस को महबूब के हाथों की हिना कहते हैं Haathon Ki Hina Chand Maasoom Se Patton Ka Lahoo Hai ‘Faakhir’ Jis Ko Mahaboob Ke Haathon Ki Hina Kahte Hain… मोहताज-ऐ-हिना खून है दिल ख़ाक में अहवाल-ऐ-बुतान पर यानी उन के नाखून हुए मोहताज -ऐ -हिना मेरे बाद Mohtaaj-AE-Hinaa Khoon Hai Dil Khaak Mein Ahvaal-AE-Butaan Par Yaani Un Ke Naakhoon Hue Mohtaaj-AE-Hinaa Mere Baad… पा बस्ता ऐ-ज़ंजीर ऐ-हिना मैं भी पलकों पे सजा लूँगा लहू की बूँदें तुम भी पा-बस्ता-ऐ-ज़ंजीर-ऐ-हिना हो जाना Paa Basta-AE-Zanjeer AE-Hina Main Bhi Palkon Pe Sajaa Loon Ga Lahoo Ki Boonden Tum Bhi Paa-Basta-AE-Zanjeer-AE-Hina Ho Jaanaa… तन्हाई में खुशबू-ऐ-हिना वो हाथ पराये हो भी गए अब दूर का रिश्ता है “कैसर ” आती है मेरी तन्हाई में खुशबू-ऐ-हिना धीरे धीरे Tanhaai Mein Khushboo-AE-Hina Vo Haath Paraaye Ho Bhi Gaye Ab Door Ka Rishta Hai “Qaisar” Aati Hai Meri Tanhaai Mein Khushboo-AE-Hina Dheere Dheere… मेहँदी के वास्ते मेहँदी के वास्ते वो लहू मांगते हैं रोज़ दिल देना उन को जान का बे-नामा हो गया Mehndi Ke Vaaste Mehndi Ke Vaaste Vo Lahoo Maangte Hain Roz Dil Dena Un Ko Jaan Ka Be-Naamaa Ho Gayaa… तेरी हिना में […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 239 - हुस्न और इश्क़ की शायरी – Valentine’s Day special – Romantic Shayari

हुस्न और इश्क़ की शायरी – Valentine’s Day special – Romantic Shayari

तुम्हारी चाहत हम भी मोहब्बत करके गुनेहगार हो गए पहले फूल थे अब खाक हो गए , जब से देखा है तुम्हारे हसीन चेहरे को , हम भी तुम्हारी चाहत के तलबगार हो गए . Tumhari Chahat Hum bhi mohabbat karke gunehgar ho gaye pehle phool the ab khak ho gaye, jab se dekha hai tumhare haseen chehre ko, hum bhi tumhari chahat ke talabgar ho gaye. मेरी आँखों में लोग समझते हैं हमने उनको भुला रखा है , वो क्या जाने की दिल में छुपा रखा है , देखे न कोई उसे मेरी आँखों में , इसलिए पलकों को हम ने झुका रखा है . Meri Aankhon Mein Log samajhte hain humne unko bhula rakha hai, wo kya jane ki dil me chupa rakha hai, dekhee na koi usay meri aankhon mein, isliye palkon ko hum ne jhuka rakha hai. वो चाँद का टुकड़ा लोग कहते है की जिस से हम ने मोहबत की है वो चाँद का टुकड़ा है हम कहते है की जिस से हम ने मोहबत की है चाँद उस का एक टुकड़ा है Wo Chand ka Tukda Log kahte hai ki jis se hum ne mohabbat ki hai wo chand ka tukda hai hum kehte […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 260 - कभी कभी मेरे दिल मैं ख्याल आता हैं – Bollywood Shayari

कभी कभी मेरे दिल मैं ख्याल आता हैं – Bollywood Shayari

कभी कभी मेरे दिल मैं ख्याल आता हैं कभी कभी मेरे दिल मैं ख्याल आता हैं कि ज़िंदगी तेरी जुल्फों कि नर्म छांव मैं गुजरने पाती तो शादाब हो भी सकती थी। यह रंज-ओ-ग़म कि सियाही जो दिल पे छाई हैं तेरी नज़र कि शुआओं मैं खो भी सकती थी। मगर यह हो न सका और अब ये आलम हैं कि तू नहीं, तेरा ग़म तेरी जुस्तजू भी नहीं। गुज़र रही हैं कुछ इस तरह ज़िंदगी जैसे, इससे किसी के सहारे कि आरझु भी नहीं. न कोई राह, न मंजिल, न रौशनी का सुराग भटक रहीं है अंधेरों मैं ज़िंदगी मेरी. इन्ही अंधेरों मैं रह जाऊँगा कभी खो कर मैं जानता हूँ मेरी हम-नफस, मगर यूंही कभी कभी मेरे दिल मैं ख्याल आता है… जब लोग वाह वाह करते है दिल के छालों को कोई शायरी कहे तो दर्द नहीं होता दर्द तो तब होता है जब लोग वाह वाह करते है… तेरा मुजरिम हूँ अपनी आँखों के समंदर में उतर जाने दे तेरा मुजरिम हूँ , मुझे ड़ूब के मर जाने दे ज़ख्म कितने तेरी चाहत से मिले है मुझको सोचता हूँ कहूँ तुझे , मगर जाने दे… ऐसे मौसम में ही तो प्यार जवां होता है फूल खिलते […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 209 - प्यार का इज़हार शायरी – Valentine’s Romantic Shayari

प्यार का इज़हार शायरी – Valentine’s Romantic Shayari

“उन्हें ये ख्वाहिश के हम ज़ुबाँ से इज़हार करे हमें यह आरज़ू के वो दिल की ज़ुबाँ समझ लें“ प्यार का इज़हार उन को चाहना मेरी मोहब्बत है उन्हें कह न पाना मेरी मजबूरी है वो खुद क्यों नही समझता मेरे दिल की बात को क्या प्यार का इज़हार करना ज़रूरी है Pyar Ka Izhaar Un ko chahna meri mohabbat hai Unhe keh na pana meri majboori hai Wo khud kyon nhi samjhta mere dil ki baat ko Kya pyar ka izhaar karna zaroori hai मोहब्बत का इज़हार दिल यह मेरा तुमसे प्यार करना चाहता हैं अपनी मोहब्बत का इज़हार करना चाहता है देखा हैं जब से तुम्हे ऐ मेरे हमदम सिर्फ तुम्हारा ही दीदार करना चाहता है Mohabbat Ka Izhaar Dil yeh mera Tumse Pyar karna chahta hain Apni Mohabbat ka izhaar karna chahta hai Dekha hain jab se Tumhe ae mere humdam Sirf tumhara hi Dedaar karna chahta hai.. दिल की आवाज़ दिल की आवाज़ को इज़हार कहते है झुकी निगाह को इकरार कहते है सिर्फ पाने का नाम मोहब्बत नहीं है यारो कुछ खो कर पाने को भी प्यार कहते है Dil Ki Awaaz Dil ki awaaz ko izhaar kehte hai Jhuki nigaah ko ikarar kehte hai […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 72 - यादों का आईना – Unique Collection of Pakistani Urdu Shayari and Poetry

यादों का आईना – Unique Collection of Pakistani Urdu Shayari and Poetry

तेरे शोख तासुबर में ख़ामोश थे लव और मैं गुफ़्तार में गुम थी पलके न झमकती थी के मैं दीदार में गुम थी तन मन ने सजाये है तेरे शोख तासुबर में यादों का आईना था मैं सिंगार में गुम थी   Tere Shokh Tasubur Mein khamosh the luv aur main guftar mein gum thi palke na Jhamkti thi ke main didar mein ghum thi tan man ne sajaye hai tere shokh tasubur mein yadon ka aiina tha main shingar mein gum thi   जुदाई के मौसम जुदाई के मौसम सताने लगे है वो फिर टूट कर याद आने लगे है तख़्युल के परवाज़ को कैसे रोकू वो गोया मेरे घर फिर आने लगे है निशो रोक लो वो जाने लगे है मनाने में जिन को ज़माने लगे है   Judai ke Mausam judai ke mausam satane lage hai wo phir toot kar yaad ane lage hai takhayul ke parwaz ko kaise roku wo goya mere ghar phir ane lage hai nisho rok lo wo jane lage hai manane main jin ko jamane lage hai   ज़िन्दगी-ऐ-ज़िन्दगी हम तेरी धुन मैं परेशान ज़िन्दगी-ऐ-ज़िन्दगी और तू हम से गुरेजा ज़िन्दगी-ऐ-ज़िन्दगी तू कहीं साकी गली में खो गयी है और यहाँ डंस […]

Continue Reading