shayarisms4lovers mar18 27 1 - यह इश्क़ नहीं आसां – Jigar Moradabadi – Urdu Shayar

यह इश्क़ नहीं आसां – Jigar Moradabadi – Urdu Shayar

यूं ही दिल के तड़पने का कुछ तो है सबब आखिर या दर्द ने करवट ली है या तुमने इधर देखा माथे पे पसीना क्यों आँखों में नमी सी क्यों कुछ खैर तो है , तुमने जो हाल -ऐ -जिगर देखा                                                            Jigar Moradabadi – Urdu Shayar यह इश्क़ नहीं आसां क्या हुस्न ने समझा है क्या इश्क़ ने जाना है हम ख़ाक-नाशिनो की ठोकर में ज़माना है वो हुस्न -ओ -जमाल उनका यह इश्क़ -ओ -शबाब अपना जीने की तम्मना है मरने का ज़माना है या वो थे खफा हम से या हम थे खफा उनसे कल उनका ज़माना था आज अपना ज़माना है यह इश्क़ नहीं आसां इतना तो समझ लीजिये एक आग का दरिया है और डूब के जाना है आँसू तो बहुत से हैं आँखों में “जिगर” लेकिन बन जाए सो मोती है बह जाए सो पानी है Yeh Ishq Nahin Aasaan kya husn ne samjha hai kya ishq ne jaana hai ham Khaak-nashinoo ki Thokar mein zamana hai wo husn-o-jamaal unkaa yeh ishq-o-shabaab apana jeene ki tamanaa […]

Continue Reading

इश्क़ में यह दूरियां – दूरियाँ शायरी

इन राहों की दूरियां निगाहों की दूरियां हम राहों की दूरियां फनाह हो सभी दूरियां तेरी नज़रों से ओझल हो जायेंगे तेरी नज़रों से ओझल हो जायेंगे हम दूर फ़िज़ाओं में कहीं खो जायेंगे हम हमारी यादों से लिपट कर रोते रहोगे जब ज़मीन की मट्टी में सो जायेंगे हम Teri Nazron Se Ozhal Ho Jayenge Hum Teri Nazron Se Ozhal Ho Jayenge Hum Dur Fizaoon Mein Kahain Kho Jayenge Hum Hamari Yaadon Se Lipat Kar Rote Rahoge Jab Zameen Ki Matti Mein So Jayenge Hum कुछ दूरियां तो कुछ फासले बाकी हैं अभी कुछ दूरियां तो कुछ फासले बाकी हैं पल पल सिमटती शाम से कुछ रौशनी बाकी हैं हमें यकीन है वो देखा हुआ कल आएगा ज़रूर अभी वो हौसले वो यकीन बाकी हैं Kuch Dooriyan To Kuch Faasle Baaki Hain Abhi Kuch Dooriyan To Kuch Faasle Baaki Hain Pal Pal Simatati Shaam Se Kuch Roshni Baaki Hain Hame Yakeen Hai Wo Dekha Hua Kal Aayega Zaroor Abhi Wo Housle Wo Ummedein Baaki Hain बहुत दूर निकल आये हैं चलते चलते हम बहुत दूर निकल आये हैं चलते चलते अब ठहर जाएँ कहीं शाम के ढलते ढलते रात के बाद सहर होगी मगर किस के लिए हम भी […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 45 1 - तुम वो दुआ हो – ईद शायरी

तुम वो दुआ हो – ईद शायरी

मेरी मुहब्बत अब तो मेरी मुहब्बत भी मुझसे खफा हो गयी अब तो जो होगा मेरी जान बस तमाशा होगा   Meri Mohabbat Ab to Meri Mohabbat bhi mujse khfa ho gayi Ab to Jo hoga meri jaan bas tamasha hoga     दिल से किसी को चाहा था अपनी फितरत बदली है मैंने तुम्हे अपना बनाने के लिए करेगें याद लोग सदियों तक किसी ने दिल से किसी को चाहा था   Dil Se kisi ko Chaha Tha Apni Fitrat Badli Hai meine Tumhe Apna Banane Ke liye Karegein Yaad log Sadiyun Tak Kisi Ne Dil Se kisi ko Chaha Tha     मेरे दिल को गिला रहा मेरे मुक़द्दर को भी यह गिला रहा मुझसे के किसी और का होता तो सँवर गया होता   Mere Dil ko Gila Raha Mere Muqaddar Ko Bhi Yeh Gila Raha Mujh Se Ke Kisi Aur Ka Hota To Sanwar Gaya Hota     तुम मुझे भूल जाओगी अपनी डायरी के किसी बर्क पे मुझे तहरीर कर लो न मैं डरता हूँ मैं नहीं रहूँगा तो तुम मुझे भूल जाओगी   Tum Mujhe Bhol Jaogi Apni Diary Ke Kisi Waqr Pe Mujhe Tehreer Kardo Na Mai Darta Hon Mai Nahi rahunga to […]

Continue Reading