garden rose red pink 56866 - याद-ऐ-गम

याद-ऐ-गम

एक अजनबी चले आओ फिर से एक अजनबी हो कर मिलने तुम मेरा नाम पूछो में तुम्हारा हाल पुछू तेरी एक झलक तेरी एक झलक को दिल तरस जाता है मेरा किस्मत वाले है वो लोग जो रोज़ तेरा दीदार करते है , तुझसे बात करते है उससे इतना कहना वो लड़की नज़र आये कभी तो उससे इतना कहना जिन को आदि कर दिया है आपने वो लोग बहुत याद करते है आपको किस्मत से गिला कोई न मिले तो किस्मत से गिला नहीं करते अक्सर लोग मिल के भी मिला नहीं करते हर शाख पर बहार आती है जरूर पर हर  शाख पर फूल खिला नहीं करते प्यास मिलन की  गिरा दे जितना पानी है तेरे पास ऐ बादल यह प्यास किसी के मिलने से बुझेगी तेरे बरसने से नहीं दर्दे दिल की दबा नहीं दूर रह कर करीब कितने है फासले भी अजीब कितने है दर्दे दिल की दुआ नहीं वरना इस जहाँ में तबीब कितने थे उम्र भर जो साथ रहा जो तेरे उसके अशे नसीब कितने थे क्यों न आउूं में तेरे सपनो में मेरे शिकबे अजीब कितने है

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 87 - जो सुनाई अंजुमन में शब-ऐ-ग़म की आपबीती

जो सुनाई अंजुमन में शब-ऐ-ग़म की आपबीती

पहली नज़र उस से कहो इक बार और देख कर आज़ाद कर दे मुझे के मैं आज भी उस की पहली नज़र की क़ैद में हूँ Pehli Nazar Us se kaho ik baar aur dekh kar AAZAAD kar de mujhe Ke main aaj bhi us ki pehli nazar ki qaid main hoon.. तेरी बेवफ़ाइयों पर मुझे अजमाने वाले मुझे अजमा के रोये मेरी दस्ताने हसरत सुना सुना के रोये तेरी बेवफ़ाइयों पर , तेरी कज आदइयों पर कभी सर छुपा के रोये , कभी मुँह छुपा के रोये जो सुनाई अंजुमन में शब -ऐ -ग़म की आपबीती कभी रो के मुस्कराए , कभी मुस्करा के रोये!! मैं हूँ बे -वतन मुसाफिर , मेरा नाम बेकसी है मेरा कोई भी नहीं है जो गले लगा के रोये मेरे पास से गुज़र कर मेरा हाल तक न पुछा मैं यह कैसे मान जाऊं के वो दूर जा के रोये Teri Bewafaiyon Par Mujhe Azmane Wale Mujhe Azmaa ke Roye Meri Dastane Hasrat Suna Suna ke Roye Teri Bewafaiyon Par, Teri Kaj Adaiyon Par Kabhi Sar chupa Ke Roye, Kabi Munh Chupa Ke Roye Jo Sunai Anjuman Men Shab-ae-Gham Ki Apbiti Kabhi Ro ke Muskaraye, Kabhi Muskara Ke Roye Main Hoon Be-Watan Musafir, […]

Continue Reading

होंठो की जुबान यह आँसू कहते है – आँसू और दर्द की शायरी

जो दर्द न होता जो आंसू न होते आँखों में तो ऑंखें इतनी खूबसूरत न होती जो दर्द न होता इस दिल में तो ख़ुशी की कीमत पता न होती जो बेवफाई न की होती वक़्त ने हमसे तो जुदाई में जीने की आदत न होती   Jo Dard Na Hota Jo aansu na hote ankhon mein To ankhen itni khobsurat na hoti Jo dard na hota dil mein To khushi ki kimat pata na hoti Jo bewfayee na ki hoti waqt ne humse To judai main jine ki aadat na hoti न रोये कोई हमे देख कर काँटों की सेज पर चलने की हमें अब आदत हो गई है न रोये कोई हमे देख कर, हमें अब आँसू बहाने की आदत हो गई है Na Roye Koi Hamein Dekh kar Kanton ki seej par chalne ki hamein ab aadat ho gai hai Na roye koi hamein dekh kar , hume ab aansu bahane ki aadat ho gai hai आँसू की किस्मत होंठो की जुबान यह आँसू कहते है जो चुप रहते है फिर भी बहते है और इन आँसू की किस्मत तो देखिये यह उनके लिए बहते है जो इन आँखों में रहते है   Aansu ki Kismat Honto […]

Continue Reading