shayarisms4lovers mar18 16 - Urdu Shayari - Gham hotein hain jahaan zannat hoti hai

Urdu Shayari – Gham hotein hain jahaan zannat hoti hai

Gham hotein hain jahaan zannat hoti hai, Duniya mein har shay ki keemat hoti hai, Aksar vo kehte hain voh bas mere hain, Aksar kyun kehte hain hairat hoti hai, Tab hum dono waqt chura kar laate the, Ab milte hain jab bhi fursat hoti hai, Apni mehbooba mein apni maa dekhein, Bin maa ke ladkon ki fitrat hoti hai, Ik kashti mein ek kadam hi rakhtein hain, Kuch logon ki aisi aadat hoti hai… – Javed Akhtar ग़म होतें हैं जहाँ ज़न्नत होती है, दुनिया में हर शे की कीमत होती है, अक्सर वो कहते हैं वो बस मेरे हैं, अक्सर क्यूँ कहते हैं हैरत होती है, तब हम दोनो वक़्त चुरा कर लाते थे, अब मिलते हैं जब भी फ़ुर्सत होती है, अपनी महबूबा में अपनी माँ देखें, बिन माँ के लड़कों की फ़ितरत होती है, इक कश्ती में एक कदम ही रखतें हैं, कुछ लोगों की ऐसी आदत होती है… – जावेद अख़्तर

Continue Reading
pexels photo 701816 - दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं – जावेद अख्तर

दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं – जावेद अख्तर

दर्द के फूल  दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं ज़ख्म कैसे भी हों कुछ रोज़ में भर जाते हैं उस दरीचे में भी अब कोई नहीं और हम भी सर झुकाए हुए चुप -चाप गुज़र जाते हैं रास्ता रोके खडी है यही उलझन कब से कोई पूछे तो कहें क्या की किधर जाते हैं नरम आवाज़ भली बातें मोहज़्ज़ब लहजे पहली बारिश में ही यह रंग उतर जाते हैं Dard ke Phool  – Javed Akhtar dard ke phool bhi khilate hain bikhar jaate hain zaKhm kaise bhii hoon kuchh roz mein bhar jaate hain us dariiche mein bhii ab koi nahin aur ham bhii sar jhukaae hue chup-chaap guzar jaate hain raastaa roke khaadi hai yahii ulajhan kab se koi puuchhe to kahen kyaa ki kidhar jaate hain narm aavaaz bhalii baate.n mohazzab lahaje pahalii baarish mein hii ye rang utar jaate hain…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 142 - Urdu Shayari - Khwab ke gawon mein pale hain hum

Urdu Shayari – Khwab ke gawon mein pale hain hum

Khwab ke gawon mein pale hain hum Paani chalni mein le chale hain hum Chaach foonkein ki apne bachpan mein Doodh se ki trah jale hain hum Khud hain apne safar ki dushwaari Apne pairon ke aable hain hum Tu to mat keh humein bura duniya Tune dhala hain aur dhale hain hum Kyun hain kab tak hain kiski khatir hain Bade sanjeeda mass-ale hain hum… – Javed Akhtar ख्वाब के गावों में पले हैं हम पानी छलनी में ले चले हैं हम छाछ फूँकें की अपने बचपन में दूध से की तरह जले हैं हम खुद हैं अपने सफ़र की दुश्वारी अपने पैरों के आब्ले हैं हम तू तो मत कह हमें बुरा दुनिया तूने ढाला हैं और ढले हैं हम क्यूँ हैं कब तक हैं किसकी ख़ातिर हैं बड़े संजीदा मास-अले हैं हम… – जावेद अख़्तर

Continue Reading