shayarisms4lovers June18 116 - हमे तो प्यार की गहराइयाँ मालूम करनी थी “फ़राज़”

हमे तो प्यार की गहराइयाँ मालूम करनी थी “फ़राज़”

प्यार की गहराइयाँ हमे तो प्यार की गहराइयाँ मालूम करनी थी “फ़राज़” यहाँ नहीं डूबता तो कहीं और डूबे होते Pyar ki Gehraiya hume to pyar ki gehraiya maaloom karni thi “FARAZ” yahan nhi dubte to kahin aur dube hote मेरी ख़ामोशी वो अब हर एक बात का मतलब पूछता है मुझसे “फ़राज़” कभी जो […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 264 - तेरी ज़ुल्फे खुली हो जैसे – तेरी ज़ुल्फे उर्दू शायरी

तेरी ज़ुल्फे खुली हो जैसे – तेरी ज़ुल्फे उर्दू शायरी

मेरे मर जाने की वो सुन के खबर आई  “मोहसिन” घर से रोते हुए वो बिन ज़ुल्फ़ सँवारे निकले ज़ुल्फ़ खुली हो जैसे ऐसा लगता है तेरी ज़ुल्फ़ खुली हो जैसे होके गुलशन से सबा आज चली हो जैसे अध खुले होंठ सियाह ज़ुल्फ़ और गज़ली ऑंखें किसी शायर ने कोई ग़ज़ल तर्ज़ की हो […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 18 - दिल की तलाशियाँ

दिल की तलाशियाँ

ज़हर बड़ा अजीब सा ज़हर था उसकी यादों में सारी उम्र गुज़र गयी मुझे मरते मरते Zehar Bada Ajeeb sa Zehar tha uski Yaadon Mein Saari Umar Guzar Gayi Mujhe Marte Marte!!! दिल की तलाशियाँ अपने सिवा बताओ और कुछ मिला है तुम्हे  फ़राज़ ‘ हज़ार बार ली है तुमने इस दिल की तलाशियाँ Dil […]

Continue Reading

यादों का इक झोंका – तेरी यादें शायरी

सजा बन जाती है गुज़रे हुए वक़्त की यादें न जाने क्यों छोड़ जाने के लिए मेहरबान होते हैं लोग यादों का इक झोंका यादों का इक झोंका आया हम से मिलने बरसों बाद पहले इतना रोये न थे जितना रोये बरसों बाद लम्हा लम्हा उजड़ा तो ही हम को एहसास हुआ पत्थर आये बरसों […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 98 - जब उठा मेरा जनाज़ा – मेरा जनाज़ा उर्दू शायरी

जब उठा मेरा जनाज़ा – मेरा जनाज़ा उर्दू शायरी

मेरा जनाज़ा ज़माने में निकला जब मेरा जनाज़ा इस ज़माने से निकला मेरे जनाज़े को देखने सारा ज़माना निकला मगर मेरे जनाज़े में वो न निकला जिसके लिए मेरा जनाज़ा ज़माने में निकला Mere Janaze Mein Wo Na Nikla Jab Mera Janaza is Zamane Se Nikla Mere Janaze Ko Dekhne Sara Zamana Nikla Magar Mere […]

Continue Reading

फेसबुक चुनिंदा शायरी – अरज़ किया है

   मुझे ज़रा खुदा से हमकलाम होने दो …    तुम्हारा ज़िकर भी इसी गुफ्तगू में है मेरी शामें खुद को खुद से हमकलाम कर के देखना कितना मुश्किल है यह सफर तय कर के देखना किस क़दर उदास गुज़रती हैं मेरी शामें याद किसी को किसी शाम कर के देखना कफ़न अगर तुम्हारा होगा […]

Continue Reading