shayarisms4lovers may18 80 - Aatish Haider Ali - Sun to sahi

Aatish Haider Ali – Sun to sahi

Sun to sahii jahaan main hai teraa fasaanaa kyaa, Kahti hai tujh se Khalq-e-Khudaa Gaibanaa kya. Zina saba kaa Dhundati hai apni musht-e-Khaak, Baam-e-baland yaar ka hai astana kya. Ati hai kis tarah se meri kabz-e-ruuh ko, Dekhun to maut dhund rahe hai bahana kya. Betab hai kamal hamara dil-e-aziim, Mahmaan saray-e-jism ka hoga ravana kya. सुन तो सही जहां में है तेरा फ़साना क्या, कहती है तुझ से ख़ल्क़-ए-खुदा गैबाना क्या. जीना सबा का ढूंढती है अपनी मुश्त-ए-ख़ाक, बाम-ए-बलन्द यार का है असताना क्या. आती है किस तरह से मेरी कब्ज़-ए-रूह को, देखूं तो मौत ढूंढ रहे हैं बहना क्या. बेताब है कमल हमारा दिल-ए-अज़ीम, मेहमान सराय-ए-जिस्म का होगा रवाना क्या.

Continue Reading