shayarisms4lovers mar18 52 - तेरी खुशबू का एहसास – अक्स-ऐ-खुशबू हूँ उर्दू शायरी

तेरी खुशबू का एहसास – अक्स-ऐ-खुशबू हूँ उर्दू शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

अक्स -ऐ -खुशबू हूँ

अक्स -ऐ -खुशबू हूँ बिखरने से न रोके कोई
और बिखर जाऊं तो मुझे न समेटे कोई

काँप उठती हूँ मैं इस तन्हाई में
मेरे चेहरे पे तेरा नाम न पढ़ ले कोई

जिस तरह ख्वाब मेरे हो गए रेज़ा-रेज़ा
इस तरह से न कभी टूट के बिखरे कोई

मैं तो उस दिन से हरासां हूँ के जब हुक्म मिले
खुश्क फूलों को किताबों में न रखे कोई

अब तो इस राह से वो शख्स गुज़रता भी नहीं
अब किस उम्मीद से दरवाज़े से झांके कोई

कोई आवाज़ ,कोई आहात ,कोई चाप नहीं
दिल की गलिया बड़ी सुनसान हैं आये कोई

Aks-AE-Khushboo

Aks-AE-Khushboo Hoon Bikharne Se Na Roke Koi
Aur Bikhar Jaaun To Mujhe Na Samete Koi

Kaanp Uthti Hoon Main Iss Tanhaai Mein
Mere Chehre Pe Tera Naam Na Padh Le Koi

Jis Tarah Khwaab Mere Ho Gaye Reza-Reza
Is Tarah Se Na Kabhi Toot Ke Bikhre Koi

Main To Us Din Se Harasaan Hoon Ke Jab Hukm Mile
Khushk Phoolon Ko Kitabon Mein Na Rakhe Koi

Ab To Is Raah Se Wo Shakhs Guzarta Bhi Nahin
Ab Kis Ummeed Se Darwaaze Se Jaahnke Koi

Koi Aawaaz,Koi Aahaat,Koi Chaap Nahin
Dil Ki Galyaan Badi Sunsaan Hain Aaye Koi..


खुशबू की तरह आया वो

खुशबू की तरह आया वो तेज़ हवाओं में
माँगा था जिसे हम ने दिन रात दुआओं में
तुम चाट पे नहीं आये मैं घर से नहीं निकल
यह चाँद बहुत भटकता है सावन की घटाओं में

Khushboo ki Tarah Aaya wo

Khushboo ki Tarah Aaya wo tez Hawaaon mein
Manga tha jise hum ne Din Raat Duaaon mein
Tum Chat pe nahi aaye Main Ghar se nahi Nikla
Yeh Chaand bahut bhatka hai Saawan ki Ghataon mein..


खिलावत -ऐ -खुशबू

तेरे हुनर में खिलावत -ऐ -खुशबू सही मगर
काँटों को उम्र भर की चुभन कौन दे गया
“मोहसिन” वो कायनात -ऐ -ग़ज़ल है उससे भी देख
मुझ से न पूछ मुझ को यह फन कौन दे गया

Khilwat-AE-khushboo

Tere hunar mein khilwat-AE-khushboo sahi magar
Kaanton ko umar bhar ki chubhan kaun day gaya
“Mohsin” wo kaayinaat-ae-ghazal hai ussay bhi deikh
Mujh say na pooch mujh ko yeh fun kaun day gaya..


तेरी बात से खुशबु आये

तेरी हस्ती से तेरी ज़ात से खुशबु आये
तू जो बोले तो तेरी बात से खुशबु आये

तुझको देखों तो मेरी आँख महक सी जाये
तुझको सोचूं तो ख्यालात से खुशबु आये

तू चमेली है , …

Continue Reading
3962724 flowers hd wallpaper - तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब – उर्दू शायरी फूल गुलाब का

तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब – उर्दू शायरी फूल गुलाब का

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>
तुझे पल भर को भी भूल जाने की कोशिश कभी कामयाब न हुई 
तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब थी जो हवा चली तो महक उठी
बन के गुलाब

बन के गुलाब कांटे चुभा गया एक शख्स
हुआ चिराग तो घर ही जला गया एक शख्स

तमाम रंग मेरे और सारे ख्वाब  मेरे
फ़साना था के अफसाना बना गया एक शख्स

मैं किस हवा में उड़ूँ किस फ़िज़ा में लहराऊँ
दुखों के जाल हर जगह बिछा गया एक शख्स

इश्क़ में किसी के भुला रखा था इसे
मिले वो ज़ख़्म के फिर याद आ गया एक शख्स

खुला यह राज़ की आईना जहाँ है दुनिया
और इस जहाँ में मुझे तमाशा बना गया एक शख्स

Ban Ke Gulab

Ban ke Gulab kante chubha gaya ek shakhs
Hua Chirag to ghar hi jalaa gaya ek shakhs

Tamam rang mere aur sare khawab mere
Fasana tha ke afasana bana gaya ek shakhs

Main kis hawa mein udoon kis fiza mein lehraoon
Dukhon ke jaal har jagah bicha gaya ek shakhs

ishq mein kisi ke bhula rakha tha isse
Mille wo zakham ke phir yaad aa gaya ek shakhs

Khula yeh raaz ki ainaa jahan hai duniya
Aur is mein mujhe tamasha bana gaya ek shakhs

 


सूखे गुलाब मिलते हैं

सालों बाद न जाने क्या समां होगा
हम सब दोस्तों में से न जाने कौन कहाँ होगा
फिर मिलना हुआ तो मिलेंगे ख्बाबों में
जैसे सूखे गुलाब मिलते हैं किताबों में

 

Sookhe Gulab Milte Hain

Salon Baad Najane Kya Sama hoga
Hum Sab Dosto Mein Se Najane Kaun Kahan hoga
Phir Milna Hua to Milainge Khawabbon mein
Jaise Sookhe Gulab Milte Hain Kitabon Mein

 



अगर मैं तुम्हे गुलाब दूँ

अगर मैं तुम्हे गुलाब दूँ , तो कांटे भी मिलेंगे
अगर में तुम्हे चाँद दूँ ,तो दाग भी मिलेंगे
अगर तुम्हे शाम दूँ ,तो अँधेरा भी मिलेगा
अगर तुम्हे शमा दूँ ,तो परवाना भी मिलेगा
अगर तुम्हे खुशी दूँ ,तो आँसू मिलेंगे
अगर खुद को दूँ ,तो दर्द भरा दिल भी मिलेगा

 

Agar Main Tumhe Gulab Du

Agar Main Tumhe Gulab du, to Kaante Bhi Milenge
Agar Mein Tumhe Chaand du ,To Daag Bhi Milenge
Agar Tumhe Shaam Du,To Andhera Bhi Milega.
Agar Tumhe Shama Du,To Parwana Bhi Milega
Agar Tumhe Khusi Du,To Aansu Milenge
Agar Khud Ko Du,To Dard Bhara Dil Bhi Milega

 


हर गुलाब था ताज़ा

सारी उम्र में एक पल भी आराम का न था
वो जो दिल मिला …

Continue Reading