shayarisms4lovers mar18 52 - तेरी खुशबू का एहसास – अक्स-ऐ-खुशबू हूँ उर्दू शायरी

तेरी खुशबू का एहसास – अक्स-ऐ-खुशबू हूँ उर्दू शायरी

अक्स -ऐ -खुशबू हूँ अक्स -ऐ -खुशबू हूँ बिखरने से न रोके कोई और बिखर जाऊं तो मुझे न समेटे कोई काँप उठती हूँ मैं इस तन्हाई में मेरे चेहरे पे तेरा नाम न पढ़ ले कोई जिस तरह ख्वाब मेरे हो गए रेज़ा-रेज़ा इस तरह से न कभी टूट के बिखरे कोई मैं तो उस दिन से हरासां हूँ के जब हुक्म मिले खुश्क फूलों को किताबों में न रखे कोई अब तो इस राह से वो शख्स गुज़रता भी नहीं अब किस उम्मीद से दरवाज़े से झांके कोई कोई आवाज़ ,कोई आहात ,कोई चाप नहीं दिल की गलिया बड़ी सुनसान हैं आये कोई Aks-AE-Khushboo Aks-AE-Khushboo Hoon Bikharne Se Na Roke Koi Aur Bikhar Jaaun To Mujhe Na Samete Koi Kaanp Uthti Hoon Main Iss Tanhaai Mein Mere Chehre Pe Tera Naam Na Padh Le Koi Jis Tarah Khwaab Mere Ho Gaye Reza-Reza Is Tarah Se Na Kabhi Toot Ke Bikhre Koi Main To Us Din Se Harasaan Hoon Ke Jab Hukm Mile Khushk Phoolon Ko Kitabon Mein Na Rakhe Koi Ab To Is Raah Se Wo Shakhs Guzarta Bhi Nahin Ab Kis Ummeed Se Darwaaze Se Jaahnke Koi Koi Aawaaz,Koi Aahaat,Koi Chaap Nahin Dil Ki Galyaan Badi Sunsaan […]

Continue Reading
3962724 flowers hd wallpaper - तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब – उर्दू शायरी फूल गुलाब का

तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब – उर्दू शायरी फूल गुलाब का

तुझे पल भर को भी भूल जाने की कोशिश कभी कामयाब न हुई तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब थी जो हवा चली तो महक उठी बन के गुलाब बन के गुलाब कांटे चुभा गया एक शख्स हुआ चिराग तो घर ही जला गया एक शख्स तमाम रंग मेरे और सारे ख्वाब  मेरे फ़साना था के अफसाना बना गया एक शख्स मैं किस हवा में उड़ूँ किस फ़िज़ा में लहराऊँ दुखों के जाल हर जगह बिछा गया एक शख्स इश्क़ में किसी के भुला रखा था इसे मिले वो ज़ख़्म के फिर याद आ गया एक शख्स खुला यह राज़ की आईना जहाँ है दुनिया और इस जहाँ में मुझे तमाशा बना गया एक शख्स Ban Ke Gulab Ban ke Gulab kante chubha gaya ek shakhs Hua Chirag to ghar hi jalaa gaya ek shakhs Tamam rang mere aur sare khawab mere Fasana tha ke afasana bana gaya ek shakhs Main kis hawa mein udoon kis fiza mein lehraoon Dukhon ke jaal har jagah bicha gaya ek shakhs ishq mein kisi ke bhula rakha tha isse Mille wo zakham ke phir yaad aa gaya ek shakhs Khula yeh raaz ki ainaa jahan hai duniya Aur is mein mujhe tamasha bana gaya ek shakhs […]

Continue Reading