shayarisms4lovers June18 239 - हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मैं अश्क़ हूँ

मैं अश्क़ हूँ मेरी आँख तुम हो
मैं दिल हूँ मेरी धडकन तुम हो
मैं जिस्म हूँ मेरी रूह तुम हो
मैं जिंदा हूँ मेरी ज़िन्दगी तुम हो
मैं साया हूँ मेरी हक़ीक़त तुम हो
मैं आइना हूँ मेरी सूरत तुम हो
मैं सोच हूँ मेरी बात तुम हो
मैं मुकमल हूँ जब मेरे साथ तुम हो
मैं तुम मैं हूँ अब तुम ही हो , अब तुम ही हो

Main ashq Hoon

Main ashq Hoon Meri ankh Tum Ho
Main Dil Hoon Meri Dharkan Tum Ho
Main jism Hoon Meri Rooh Tum Ho
Main Jinda Hoon Meri Zindagi Tum Ho
Main saya Hoon Meri Haqiqat Tum Ho
Main Aena Hun Meri Surat Tum Ho
Main soch Hoon Meri Baat Tum Ho
Main Mukmal hoon Jab Mere Sath Tum Ho
Main Tum main hoon Ab Tum hi ho , Ab Tum Hi Ho…


वादा

वादा निभाना हमारी आदत हो गयी
हमें भूलने की उनकी आदत है
उन्हें याद करने की हमारी आदत हो गयी

Wada

Wada Nibhana Humari Aadat Ho Gayi
Humein Bhulane Ki Unki Aadat Hai
Unhe Yaad Karne Ki Humari Aadat Ho Gayi…


गुनहगार

लोग पत्थर के बूतों को पूज कर भी मासूम रहे “फ़राज़”
हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए

Ghunegar

Log Pathar Ke Bhuton Ko Poojh Ker Bhi Masoom Rahay “Faraz”
Hum Ne Ek Insan Ko Chaaha Aur Ghunegar Ho Gaye…


तन्हाई

तन्हाई मेरे दिल में समाती चली गयी
किस्मत भी अपना खेल दिखाती चली गयी
महकती फ़िज़ा की खुशबू में जो देखा तुम को
बस याद उनकी आई और रुलाती चली गयी..

Tanhayi

Tanhayi mere dil mein samati chali gayi
Kismat bhi apna khel dikhati chali gayi
Mehkti fiza ki khusbu me jo deka tum ko
Bas yaad unki aayi aur rulati chali gayi…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 199 - यारों की इनायत – ख्वाजा मीर दर्द की शायरी

यारों की इनायत – ख्वाजा मीर दर्द की शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

यारों की इनायत

न कोई इलज़ाम , न कोई तंज़ , न कोई रुस्वाई मीर ,
दिन बहुत हो गए यारों ने कोई इनायत नहीं की

Yaron ki Inayat

Na koi ilzaam, Na koi tanz, Na koi ruswai Mir,
din bohat hogaye yaron ne koi inayat nahi ki..


ज़ोर आशिक़ मिज़ाज है कोई

जब मैंने आकर इधर उधर देखा
तू ही आया नज़र जिधर देखा

जान से हो गया बदन खाली
जिस तरफ तूने आँख भर के देखा

उन लबों ने की न मसीहाई
हम ने सौ -सौ तरह से मर देखा

ज़ोर आशिक़ मिज़ाज है कोई
“दर्द ” को किसे -ऐ -मुख़्तसर देखा

ख्वाजा मीर दर्द

Zor Ashiq Mizaj Hai koi

Jag main aakar idhar udhar dekha
tu hi aya nazar jidhar dekha

Jaan se ho gaye badan khali
jis taraf tune ankh bhar ke dekha

Un labon ne ki na masihai
ham ne sau -sau tarah se mar dekha

Zor ashiq mizaj hai koi
Dard” ko qisa-e-mukhtasar dekha..…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 120 - दिल नहीं आप धड़कते हैं मेरे सीने में – WASI SHAH SHAYARI

दिल नहीं आप धड़कते हैं मेरे सीने में – WASI SHAH SHAYARI

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मेरी वफ़ाएँ

कोई कहे उसे मेरी दुनिया याद करती हैं
उसे कहना उसे मेरी वफ़ाएँ याद करती हैं

मैं अक्सर आईने के सामने बेचैन रहती हूँ
किसी ने खत में लिखा है अदाएं याद आती हैं

उसे कहना खिजाएं आ गई हैं अब तो लौट आए
उसे कहना दिसंबर की हवाएँ याद करती हैं

उसे कहना के आँखों पर घनी बदली सी छाई है
जिन्हे दिल पर बरसना है घटाएँ याद करती हैं

गया था जब तू मेरी ख्वाहिशें भी साथ ले जाता
लहू में नाचती कुछ इल्तज़ा याद करती है

Meri Wafaain

Koi Kahe usey meri duniya yaad karti hain
usey kehna,usey meri wafaain yaad karti hain

main aksar ainey ke samney bechain rehti hoon
kisi ne khat mein likha hai,adayein yaad aati hain

usey kehna khazaain aa gai hain,ab to laut aaey
usey kehna December ki hawaain yaad karti hain

usey kehna ke ankhoo par ghani badli se chaai hai
Jinhey dil par barasna hai,ghataain yaad karti hain

gya tha jab tu meri khawahishain bhi saath ley jata
lahu main nachti kuch iltiza yaad karti hain..


एक यही आस

एक यही आस ही काफी है मेरे जीने में
दिल नहीं आप धड़कते हैं मेरे सीने में
तुझ से जो घाव मिले दिल से लगा लेते है
कितनी लजत् है तेरी ज़ात के ग़म पीने में

Ek Yahi Aas

Ek Yahi aas hi kafi hai Mere jeene Mein
DiL Nahi App dharakte hain Mere seene Mein
Tujh se jo ghabh Miley dil se laga lete hain
Kitni lazat hai teri zaat ke gham peene Main…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 204 - Best Collection of Pakistani Two Lines urdu Shayari

Best Collection of Pakistani Two Lines urdu Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

कोई ऐसा शख्स

जो पुकारता था हर घड़ी , जो जुड़ा था मुझसे लड़ी लड़ी
कोई ऐसा शख्स अगर कभी , मुझे भूल जाये तो क्या करूं

Koi Aisa Shakhs

Jo Pukarta Tha Har Ghadi, Jo Juda Tha Mujhse Ladi Ladi
Koi Aisa Shakhs Agar Kabhi, Mujhe Bhool Jaye To Kya Krun


जान देने की इजाज़त

जान देने की इजाज़त भी नहीं देते हो
वरना मर जाएँ और मर के मना लें तुम को

Jaan Dene Ki Ejazaat

Jaan Dene Ki Ejazaat Bhi Nahi Dete Ho
Warna Mar Jayein Aur Mar Ke Manaa Le Tum Ko


उम्र भर के साथ

उस मरहले को मौत भी कहते हैं दोस्तों
एक पल में टूट जाएँ जहाँ उम्र भर के साथ

Umar Bhar Ke Sath

Us Marhaly Ko Mout Bhi Kehte Hain Dosto
Ek Pal Mein Toot Jayen Jahan Umar Bhar Ke Sath


मिसल-ऐ-खुशबु

सुना है जिन की बातें मिसल-ऐ-खुशबु फैला जाती हैं
बहुत बिखरे हुए होते हैं ऐसे लोग अंदर से

Misl-ae-Khushbu

Suna Hai Jin Ki Baaten Misl-ae-Khushbu fila Jati Hain
Bahut Bikhre Hue Hote Hain Aise Log Andar Se…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 215 - जिंदगी की रंग-ओ-बू – Shayari of Life

जिंदगी की रंग-ओ-बू – Shayari of Life

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मंजूर कब थी हमको वतन से दूरियां

आईना-ऐ-ख़ुलूस-ऐ-वफ़ा चूर हो गए
जितने चिराग-ऐ-नूर थे बे नूर हो गए
मालूम यह हुआ की वो रास्ते का साथ था
मंज़िल करीब आई और हम दूर हो गए
मंजूर कब थी हमको वतन से यह दूरियां
हालात की जफ़ाओं से मजबूर हो गए
कुछ आ गयी हमे एहले-ऐ-वफ़ा ऐ दोस्तों
कुछ वो भी अपने हुस्न पे मगरूर हो गए
चरागों की ऐसी इनायत हुई हफ़ीज़
के जो ज़ख़्म भर चले थे वो नासूर हो गए

Manzoor Kab Thi Humko Watan Se Dooriyan

Aaina-AE-Khuloos-E-Wafa Churr Ho Gaye
Jitne Chirag-AE-Noor The Benoor Ho Gaye
Malum Yeh Hua Ki Wo Raaste Ka Sath Tha
Manzil Kareeb Aayi aur Hum Door Ho Gaye,
Manzoor Kab Thi Humko Watan Se Yeh Dooriyan
Haalaat Ki Jafaoon Se Majboor Ho Gaye
Kuch Aa Gayi Hume Ahl-AE-Wafa Mein Ae dosto
Kuch Wo Bhi Apne Husn Pe Magroor Ho Gaye
Charagon Ki Aisi Inayaat Hui Hafeez
Ke Jo Zakham Bhar Chale the Wo Nasoor Ho Gaye

 


ऐ इंसान जरा संभल के चल

कल रात हम गुनगुनाते निकले दिल में कुछ अरमान थे
एक तरफ थे जंगल , एक तरफ श्मशान थे
रस्ते में एक हड्डी पैरो से टकराई , उस के यह बयान थे
ऐ इंसान जरा संभल के चल , वरना कभी हम भी इंसान थे

Ae insaan jara sambhal ke chal

Kal raat hum gungunate nikle dil mein kuch armaan the
Ek taraf thi jangal the, ek taraf shmshan the
Raste mein ek haddi paon se takrai, us ke ye bian the
Ae insaan jara sambhal ke chal, warna kabhi hum bhi insaan the

 


मुहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं

ज़िन्दगी क़ैद-ऐ-मुसलसल के सिवा कुछ भी नहीं
किया था जुर्म-ऐ-वफ़ा इस के सिवा कुछ भी नहीं
जीने की आरज़ू में रोज़ मर रहे हैं
दवा तेरी मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं
खींचती है अपनी तरफ गुलशन की रंग-ओ-बू
ख्वाइश फूलों मैं खुशबू के सिवा कुछ भी नहीं
भूल जाना एक नय्मत है खुदा की इसलिए
भूलना तेरा हकीकत के सिवा कुछ भी नहीं
थोड़ा है फ़र्क़ बस इंसान और हैवान में
बाकि इस दुनिया में मुहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं

Mohabbat ke siwa kuch bhi nahi

Zindagi qaid-ae-musalsal ke siwa kuch bhi nahi
Kiya tha jurm-ae-wafa iss ke siwa kuch bhi nahi
Jeenay ki arzo main roz mar rahey hain
Dawa teri mohabbat ke siwa kuch bhi nahi
Khinchti hai apni taraf gulshan ki rang-o-bu
Khwaish …

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 188 - फ़राज़ की दिल फरेब उर्दू शायरी – Erratic collection of Fazar Shayari

फ़राज़ की दिल फरेब उर्दू शायरी – Erratic collection of Fazar Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

किसी से जुदा होना

किसी से जुदा होना अगर इतना आसान होता “फ़राज़”
जिस्म से रूह को लेने कभी फरिश्ते न आते

 

Kissi Se Juda Hona

Kissi Se Juda Hona Agar Itna Asan Hota “FARAZ”
Jism Se Rooh Ko Leney Kabhi Farishtay Na Aate


प्यासे गुज़र जाते हैं

तू किसी और के लिए होगा समंदर-ऐ -इश्क़ “फ़राज़”
हम तो रोज़ तेरे साहिल से प्यासे गुज़र जाते हैं

 

Piyase Guzaar Jate Hain

Tu kisi aur ke liye hoga samander-ae-ishq “Faraz”
hum to rooz tere sahil se piyase guzaar jate hain


मिले तो कुछ कह न सके

हम उन से मिले तो कुछ कह न सके “फ़राज़”
ख़ुशी इतनी थी के मुलाक़ात आँसू पोंछते ही गुज़र गई

 

Milay To Khuch Keh na Sakay

hum un se milay to khuch keh na sakay “Faraz”
khushi itni the ke mulaqaat ansoo ponchtay hi guzaar gai


इश्क़ का नशा

कुछ इश्क़ का नशा था पहले हम को “फ़राज़”.
दिल जो टूटा तो नशे से मोहब्बत हो गई .

 

Ishq Ka Nasha

Kuch ishq ka nasha tha pehle hum ko “Faraz”
Dil jo tuta to nashe se mohabbat ho gai


यह वफ़ा तो

यह वफ़ा तो उन दिनों की बात है “फ़राज़”
जब मकान कच्चे और लोग सच्चे हुआ करते थे

 

Yeh Wafa to

Yeh wafa to un dinoo ki baat hai “Fraaz”
Jab makaan kache or log sache hua kartey the


उम्र भर का सहारा

कौन देता है उम्र भर का सहारा ऐ “फ़राज़’
लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते हैं

 

Umar Bhar ka Sahara

Kaun deta hai umar bhar ka sahara ae “Faraz”
Log to janaje mein bhi kandhe badalte rehtein hein


खुद ही बिक गए

किस की क्या मजाल थी जो कोई हम को खरीद सकता “फ़राज़”
हम तो खुद ही बिक गए खरीदार देख कर

 

Khud Hi Bik Gaye

Kis ki Kya majal thi jo koi Hum ko kharid sakta “Faraz”
Hum to khud hi Bik gaye kharidar dekh kar

 


हम न बदलेंगे

हम न बदलेंगे वक़्त की रफ़्तार के साथ ‘”फ़राज़”‘
हम जब भी मिलेंगे अंदाज़ पुराना होगा …

 

Hum Na Badleinge

Hum na badleinge waqt ki raftaar ke sath “Faraz”‘
Ham jab bhi milengay andaaz purana hoga


तेरा न हो सका

तेरा न हो सका तो मर जाऊंगा “फ़राज़ “
कितना खूबसूरत वो झूट बोलता था

 

Tera Na Ho Saka

Tera Na Ho Saka To Mar Jaonga “Faraz”…

Continue Reading