shayarisms4lovers mar18 71 - इश्क़ का इम्तिहान – Two Lines Hindi and Urdu Shayari

इश्क़ का इम्तिहान – Two Lines Hindi and Urdu Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

जब भी ख़्याल आता है

कुछ तो था जो आज भी जेहन से गुजरता है
उदास कर जाता है जब भी ख़्याल आता है

Jab Bhi kyal Ata hai

kuch to tha jo ajj bhi jehan se gujrta hai
udas kar jata hai jab bhi kyal ata hai


जब तक़दीर तू ही लिखता है

क्यों मिलाता है दो दिलो को ऐ खुदा
जब तक़दीर तू ही लिखता है तो मिलाता क्यों है

 

Jab Taqdeer tu hi Likhta hai

kyon milata hai doo dilo ko ae khudaa
jab taqdir tu hi likhta hai to milata kyon hai


जो खो गया वो मोहबत

न कर तौबा मोहबत की ही तो जीत होती है
जो खो गया वो मोहबत जो पा लिया वो मुक़दर

 

Jo kho gaya wo mohabat

Na kar tauba mohabat ki hi to jeet hoti hai
Jo kho gaya wo mohabat jo pa liya wo muqadar


इश्क़ का इम्तिहान

क्यों यह हुस्न वाले इतने मिज़ाज़ -ऐ -गरूर होते है
इश्क़ का लेते है इम्तिहान और खुद तालीम -ऐ -जदीद होते है

 

Ishq ka Imtihaan

Kyon yeah husn wale itne mizaz-ae-groor hote hai
ishq ka lete hai imitihan aur khud Taleem-e-Jadeed hote hai…

Continue Reading