दिल का रिश्ता दिल से निभायी, दिमाग से नहीं.

दिल का रिश्ता दिल से निभायी, दिमाग से नहीं. आज मैं अपनी love story बताने जा रही हूँ और मुझे अपनी love story पर शान है, नाज है क्यों की मैंने ऐसा प्यार किया और निभाया भी जिसे शायद दुसरे कभी नहीं करते और करते भी तो उसे निभाने से पीछे हट जाते. आप भी मेरी love story सुनोगे तो रो पड़ोगे और आपको कहना पड़ेगा की यह दुनियाँ की best love story में से एक है. मैं आपलोग के साथ यह story बस इसलिए share करना चाहती हूँ ताकि अगर आपको प्यार को लेकर किसी तरह के मन में शंका हो तो वह दूर हो जाएगा. उनका प्यार बढ़ जाएगा. उसके साथ जीने-मरने की बेताबी बढ़ जाएगी, उनका केयर बढ़ जाएगा, उनका अपने प्यार के प्रति सम्मान बढ़ जाएगा. सच कहूँ तो आपको भी अपने साथी के साथ जन्म-जन्म का रिश्ता बांध लेने का मन करेगा. चाहे जो भी उसका condition हो. दुःख में हो, दर्द में हो किसी भी अवस्था में हो आप अपने प्यार को बस पा लेना चाहोगे. भले ही आप उसे अभी धोखा दे रही हो या उसके ख़राब condition के चलते उसे छोड़ के जाना चाहती हो. दिल का रिश्ता ऐसा ही शुरू हुआ […]

Continue Reading

Chhath puja in hindi –  छठ पूजा कैसे करे

छठ पूजा कब मनाया जाता है – यह छठ पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष के षष्ठी को मनाया जाता है. यह दिवाली के छठे दिन होता है. कार्तिक के छठे दिन होने के कारण इसे छठ पर्व कहते है. यह चार दिन तक चलने वाला त्यौहार है. 2017 में कब है छठ पूजा – 25-26 अक्टूबर 2017 को है पारिवारिक सुख-समृद्धी तथा मनोवांछित फल प्राप्ति के लिए यह पर्व मनाया जाता है। स्त्री और पुरुष समान रूप से इस पर्व को मनाते हैं। छठ व्रत के सम्बन्ध में अनेक कथाएँ प्रचलित हैं- जब पांडव अपना सारा राजपाट जुए में हार गये, तब श्री कृष्ण द्वारा बताये जाने पर द्रौपदी ने छठ व्रत रखा। तब उनकी मनोकामनाएँ पूरी हुईं तथा पांडवों को राजपाट वापस मिला। लोक परम्परा के अनुसार सूर्यदेव और छठी मइया का सम्बन्ध भाई-बहन का है। लोक मातृका षष्ठी की पहली पूजा सूर्य ने ही की थी। छठ पर्व को वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो षष्ठी तिथि (छठ) को एक विशेष खगोलीय परिवर्तन होता है, इस समय सूर्य की पराबैगनी किरणें (Ultra Violet Rays) पृथ्वी की सतह पर सामान्य से अधिक मात्रा में एकत्र हो जाती हैं इस कारण इसके सम्भावित कुप्रभावों से मानव की यथासम्भव रक्षा […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 105 - love in train – मेरा प्यार ट्रेन में मिला

love in train – मेरा प्यार ट्रेन में मिला

जनशताब्दी अपने तेज रफ्तार से चल रही थी. छोटी-छोटी स्टेशन हवा में ही पार हो जा रहे थे. मैं, मेरी मम्मी और पापा chair यान में बैठे थे. तभी हमारे पास ही एक छोटी सी बच्ची ने उलटी कर दी. कुछ छीटे मेरे पर भी आ गया. उसे देख कर मुझे भी उलटी जैसा होने लगा. मैं जल्द ही वहाँ से हट गई और कपड़ो पर पड़े छीटे धोने के लिए वाश बेसिन के तरफ चली गई. तभी मेरी नजर एक लड़के पर गई. उस डिब्बे के सबसे अंतिम सिट पर वह बैठा था. कुछ गुमसुम, अकेला. जैसे किसी सोच में हो, बहुत भारी उदास मन में लेकर बैठा हो. मैं अपने कपड़ो पर पड़े छीटे धो कर आ गई. मगर उस लड़के से आगे मेरे पैर बढ़ ही नहीं रहे थे. उसके बड़ी-बड़ी आँखे गोरा गाल, बिलकुल क्यूट लग रहा था. मैं बस उसे देखते जा रही थी. और वो कभी देखता और कभी अपने नजरे झुका लेता. मैं उसके दुसरे तरफ वाली सिट से दो सिट आगे जा कर बैठ गई. मैं वहाँ जाना नहीं चाहती थी. मैं उसे बस देखते रहना चाहती थी. love in train – मैं शुरू किया बात ट्रेन अब भी अपने रफ्तार से […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 225 - Hate story – उसके झूठे कसमे

Hate story – उसके झूठे कसमे

सच्चाई यही है, मन के सारे भ्रम कुछ मिनटों में दूर हो जाते है. इतने सालो से बिताये पल एक-एक करके याद आने लगते है. एक के बाद एक सारे पल, सारी बाते उनके, सारे कसमें, आखों के सामने आने लगे. क्या सारे ही झूठे थे? यानी जितनी भी वादे की हमसे बस एक छलावा था. जिसे केवल मैं ही सच मानता रहा, उसे ही प्यार समझता रहा. उसका वो सर पर हाथ रख कर कसम खाना क्या वो भी झूठ था. सर पर हाथ रख कर भी इतना पड़ा फरेब. आखों का एक मोती गिर कर गालो को भीगाते हुए निचे उतर गया. और ऐसी न जाने कितनी मोती लगातार निचे उतर रहे थे. दिल और दिमाग में एक साथ कितनी बाते चलने लगी. कभी अपना पल याद आता जो उनके साथ बिताये पल तो कभी किसी और का जिससे उसका दिल लग गया. जितनी यादें याद आती उतनी ही सिसकियाँ बढती जा रही थी. ये किस बात की सजा मिल ररही है, सच्चे प्यार की? विश्वास की या ईमानदारी की? आखिर किस बात की सजा है ये? Hate story  – उसकी यादें अब भी मेरे पास थी कौन पूछे उनसे जो तुमसे इमानदार रहा उसे ही इतनी बड़ी […]

Continue Reading

Prabhas biography in Hindi – प्रभास की जीवनी

बाहुबली को आज कौन नहीं जनता है, आज सबके चहेते है बाहुबली. सब उनके बारे में जानना चाहते है, सब कोई उनके फिल्मो के दीवाने है. उन्होंने जो रोल बाहुबली में किया वो शायद कोई नहीं कर सकता. मगर हमेशा से ऐसा नहीं था आज जो बाहुबली है वो पहले भी बाहुबली नहीं थे. बाहुबली के चहरे के पीछे एक बहुत ही शर्मीला लड़का छिपा है बहुत शर्माता है. जो बहुत बाते नहीं करता है. तो आइये जानते है प्रभास के जीवन के बारे में उनके सफर के बारे में एक शर्मीला से बाहुबली तक आने में लगा उन रास्तो के कठिनाइयों के बारे में – पूरा नाम – वेंकट सत्यनारायण प्रभास राजू उप्पालापाटि जन्म – 23 अक्टूबर 1979 पिता – यू. सूर्यनारायण राजू उप्पालापाटि (फिल्म निर्माता) माता – शिव कुमारी पत्नी – अभी शादी नही हुई भाई – प्रमोद उप्पालापाटि बहन – प्रगति चाचा – कृष्णम राजू उप्पालापाटि (तेलगु अभिनेता) धर्म – हिन्दू शौक – वॉलीबॉल खेलना, books पढना पसंदीदा अभिनेता – रॉबर्ट डी नीरो, सलमान खान और शाहरुख खान पसंदीदा अभिनेत्री – दीपिका पादुकोण, त्रिशा कृष्णन, श्रीया सरण पसंदीदा निर्देशक- राजकुमार हिरानी पसंदीदा बुक-  फाउंटेनहेड  पसंदीदा रंग – काला पसंदीदा छुट्टी का स्थान – लंदन पसंदीदा भोजन – बिरयानी […]

Continue Reading
true story

true story – एक शहीद का परिवार

true story – एक शहीद का परिवार जीवन और मरण यही तो सच्चाई है दुनिया का. कुछ नहीं कर पाते इस जीवन का. हलचल भरा यह जीवन एकदम शांत हो जाता है. यह ना तो किसी को आने की खबर देती है न समझने का मौका. न आगे का भविष्य देखता है और ना पीछे छूटे परिवार. रोते-बिलखते बूढ़े माँ-बाप, चूड़ियाँ तोड़ती जवान बीवी और वह बच्चा जिसको अपने पापा का नाम भी नहीं पता. जो बड़ा होकर केवल दिवाल पर लगी तस्वीर देख पायेगा. एक चहकती हुई जिन्दगी 2 पल में एक सुनसान रेगिस्तान बन गया. जिसपर कितना ही बरसात हो जाये सुखा ही रहेगा. ना तो सावन उस पर मरहम लगा पायेगा और ना ही दो पल के लिए आने वाले मुसाफिर. बूढी हो चुकी माँ, दरवाजे पर निगाहे गड़ाये बैठी है, आखें देख नहीं पा रही है, दिल मान नहीं रहा है, इसी रास्ते तो आता है वह. जरुर आएगा. ऐसे कैसे चला जाएगा अपनी माँ को छोड़ कर. यही तो आता था. माँ-माँ कह कर गले से चिपक जाता था. तो अब क्यों नहीं आ रहा. कहाँ है मेरा बच्चा. माँ हूँ न मैं पहले मेरे पास ही आएगा. आँखों से टपकती धारा कलेजे को पिस […]

Continue Reading