shayarisms4lovers mar18 28 - हालात-ऐ-इश्क़ – दो लाइन उर्दू पाकिस्तानी शायरी

हालात-ऐ-इश्क़ – दो लाइन उर्दू पाकिस्तानी शायरी

मासूम सा चेहरा किस क़दर मासूम सा चेहरा था उस का ग़ालिब धीरे से जान कह कर बेजान कर गया Masoom Sa Chehra Kis Kadar Masoom Sa Chehra Tha Uss Ka Ghalib Dheere se Jaan Keh kar Bejaan Kar Gaya ऐसी बेरुखी ऐसी बेरुखी भी देखी  है, हम ने आज कल के लोगों में आप से तुम तक , तुम से जान तक , जान से अनजान तक हो जाते हैं Aisi Berukhi Aisi Berukhi Bhi Dekhi Hai Hum Ne Aaj  Kal  Ke Logo Mein Aap se Tum Tak, Tum se  Jaan  Tak, Jaan se Anjaan Tak  Ho Jatey Hain मुहब्बत  का खुमार मुहब्बत  का खुमार उतरा तो तब साबित हुआ वो जो मंज़िल का रास्ता था , बे-मकसद सफर निकला Mohabbat ka Khumaar Mohabbat ka khumaar Utraa to Tab Saabit  Hua, Wo Jo Manzil ka Rasta Tha, Be-maksaad Safar Niklaa. वो खुद आता नहीं कभी नींदें कभी आँखों में पानी भेज देता है , जालिम वो खुद आता नहीं , अपनी निशानी भेज देता है … Wo Khud Aata Nahi Kabhi Neendain Kabhi Ankhon Mein Paani Bhej Deta Hai , Zalim Wo Khud Aata Nahi Apni  Nishaani Bhej Deta Hai हाथ की लकीरें जिस तरह से बदली हैं हाथ […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 198 - एक दिल ही था वो भी उस के पास था

एक दिल ही था वो भी उस के पास था

साक़ी तेरी शराब कुछ भी नहीं उस की आँखों के सामने “साक़ी “ वो जो देख ले एक नज़र तो पीने की हसरत नहीं रहती SAQI Teri Sharab Kuch Bhi Nahi Us Ki Ankhon Ke Samne “SaQi” Wo Jo Dekh Le Ek Nazar To Peene ki Hasrat Nahi Rehti… मदहोशी नज़रों से क्यों इतना पिला देती हो महखाने की राह भूल गए हैं गुनाह हो जाये न मदहोशी में इसी खातिर हरदम दूर बैठे हैं Madhoshi Nazaron se kyun itana pila deti ho Meihkhane ki raah bhool gaye hain Gunaha ho jaye na madhoshi mein Isi khatir hardam door baithe hain… कतरे कतरे से वफ़ा बेवफा कहने से पहले मेरी रग रग का खून निचोड लेना कतरे कतरे से वफ़ा न मिली तो बेशक मुझे छोड़ देना Katre Katre Se Wafa Bewafa Kehne Se Pehle Meri Rag Rag Ka Khoön nichod Lena Katre Katre Se Wafa Na Mili To Beshak Mujhe Chod Dena… तेरी चाहत पास तुम होते तो कोई शरारत करते तुझे ले कर बाँहों में मोहब्बत करते देखते तेरी आँखों में नींद का खुमार अपनी खोई हुई नींदों की शिकायत करते तेरी आँखों में अपना अक्स ढूँढ़ते खुद से भी ज़यादा तेरी चाहत करते एक दिल ही था […]

Continue Reading