shayarisms4lovers mar18 31 - दिल तो जले मगर ‘राख ‘ न हो – महफ़िल शायरी

दिल तो जले मगर ‘राख ‘ न हो – महफ़िल शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

दिल मौजूद न था

उन को देखा तो कुछ खोने का एहसास हमे हुआ
हाथ सीने पे जो गया तो दिल मौजूद न था

Dil Maujood Na Tha

Un Ko Dekha To kush khone ka Ehsaas hume Hua
Hath Seene Pe jo gaya to Dil Maujood Na Tha


बस दुआ है

और कुछ नहीं चाहती मैं इस ज़िन्दगी में ‘मेरे रब ’
बस दुआ है के किसी के दुःख की वजह मेरी ज़ात न बने

Bas Dua Hai

Aur Kuch Nahi Chahti Main is Zindagi Mein ‘Mere Rab’
bas Dua Hai Ke Kisi Ke Dukh Ki wajha Meri Zaat Na Ho..


मुस्कराहट बनाए रखो

हर एक ख्याल को ज़ुबान नहीं मिलती
हर एक आरज़ू को दुआ नहीं मिलती
मुस्कराहट बनाए रखो तो दुनिया है साथ
आँसुओ को तो आँखों में भी पनाह नहीं मिलती

Muskurahat Banaye Rakho

Har Ek khyal Ko Zuban Nahi Milti
Har Ek Aarzu Ko Dua Nahi Milti
Muskurahat Banaye Rakho To Duniya Hai Sath
Aansoo Ko To Ankhoo Mein Bhi Panah Nahi Milti…


मोहब्बत की आग

करते है मोहब्बत और जताना भूल जाते है
पहले खफा होते हैं फिर मनना भूल जाते है
भूलना तो फितरत सी है ज़माने की
लगाकर आग मोहब्बत की बुझाना भूल जाते है

Mohabbat ki Aag

Karte hai mohabbat aur jtana bhool jate hai
Pehle khfa hote hain fir manana bhool jate hai
Bhulna to fitrat si hai zamane ki
Lagakar aag mohabbat ki bujhana bhool jate hai…


दिल तो जले

वो शमा की महफ़िल ही क्या
जिसमे परवाना जल कर ‘ख़ाक’ न हो
मज़ा तो तब आता है चाहत का मेरे यार
जब दिल तो जले मगर ‘राख ‘ न हो

Dil To Jale

Wo Shama Ki Mehfil Hi Kya
Jisme parvana Jal Kar ‘Khaak’ Na Ho
Maza To Tab Aata Hai Chahat Ka mere yaar
Jab Dil To Jale Magar ‘Raakh’ Na Ho…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 45 1 - तुम वो दुआ हो – ईद शायरी

तुम वो दुआ हो – ईद शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मेरी मुहब्बत

अब तो मेरी मुहब्बत भी मुझसे खफा हो गयी
अब तो जो होगा मेरी जान बस तमाशा होगा

 

Meri Mohabbat

Ab to Meri Mohabbat bhi mujse khfa ho gayi
Ab to Jo hoga meri jaan bas tamasha hoga

 


 

दिल से किसी को चाहा था

अपनी फितरत बदली है मैंने तुम्हे अपना बनाने के लिए
करेगें याद लोग सदियों तक किसी ने दिल से किसी को चाहा था

 

Dil Se kisi ko Chaha Tha

Apni Fitrat Badli Hai meine Tumhe Apna Banane Ke liye
Karegein Yaad log Sadiyun Tak Kisi Ne Dil Se kisi ko Chaha Tha

 


 

मेरे दिल को गिला रहा

मेरे मुक़द्दर को भी यह गिला रहा मुझसे
के किसी और का होता तो सँवर गया होता

 

Mere Dil ko Gila Raha

Mere Muqaddar Ko Bhi Yeh Gila Raha Mujh Se
Ke Kisi Aur Ka Hota To Sanwar Gaya Hota

 


 

तुम मुझे भूल जाओगी

अपनी डायरी के किसी बर्क पे मुझे तहरीर कर लो न
मैं डरता हूँ मैं नहीं रहूँगा तो तुम मुझे भूल जाओगी

 

Tum Mujhe Bhol Jaogi

Apni Diary Ke Kisi Waqr Pe Mujhe Tehreer Kardo Na
Mai Darta Hon Mai Nahi rahunga to Tum Mujhe Bhol Jaogi

 


 

खुदा याद नहीं

अपनी ज़िल्लत का सबब यही है शायद
सब कुछ है याद मगर सिर्फ खुदा याद नहीं

 

Khuda Yaad Nahi

Apni Zillat Ka Sabab Yehi Hai Shayad
Sab Kuch Hai Yaad Magar Sirf Khuda Yaad Nahi

 


 

यह मेहँदी

तेरे कहने पे लगायी है यह मेहँदी मैंने
ईद पर अब न तू आया तो क़यामत होगी

 

Yeh Mehndi

Tere Kehney Pe Lagayi Hai Yeh Mehndi Mainne
EID Par Ab Na Tu Aya To Qayamat Hogi

 


 

दर -ओ -दीवार

ईद के दिन सब मिलेंगे अपने अपने महबूब से
हम गले मिल मिल के रोएंगे दर -ओ -दीवार से .

 

Dar-o-Deewar

Eid Ke Din Sab Milainge Apne Apne mehboob Se
Hum Galy Mil Mil Ke Royenge Dar-o-Deewar Se.

 


 

तुम वो दुआ हो

तुम वो दुआ हो जिसके मांगने के बाद
यह दुआ भी मांगी जाती है के यह किसी और के हक़ में कबूल न हो

 

Tum Wo Dua Ho

Tum Wo Dua Ho Jiske Mangne Ke Baad
Yeh DUA Bhi Mangi Jati Hai Ke Yeh Kisi Or Ke Haq Mai Qabool Na Ho…

Continue Reading
Wasi Shah - Sochta hoon ke usay neend bhi ati hogi..

प्यार, मोहबत और चाहत शायरी – Shayari of Love and Romance

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>
चाहत की महफ़िल

ग़म न कर ज़िन्दगी बहुत बड़ी है
चाहत की महफ़िल तेरे लिए सजी है
बस एक बार मुस्कुरा कर तो देख
तक़दीर खुद तुझसे मिलने बाहर खड़ी है

 

Chahat Ki Mehfil

Gham Na Kar Zindagi Bahut Badi Hai,
Chahat Ki Mehfil Tere Liye Saji Hai,
Bas Ek Baar Muskura Kar Tho Dekh,
Taqdeer Khud Tujhse Milne Bahar Khadi Hai

 


आप के नाम

मंज़िलों की हर राह आप के नाम ,
मोहब्बत की हर अदा आप के नाम
प्यार भरी हर निगाह आप के नाम
और आज लबों पर आने वाली हर दुआ आपके नाम

Aap Ke Naam

Manzilo ki har sadak aap ke naam
Mohabbat ki har adda aap ke naam
Pyaar bhari har nigah aap ke naam
Aur aaj labon par aaane wali har dua aapke naam

 


प्यार की तड़प

प्यार की तड़प को दिखाया नहीं जाता
दिल में लगी आग को बुझाया नहीं जाता
कितनी भी दूरी हो प्यार में मगर
आप जैसे दोस्त को भुलाया नहीं जाता

 

Pyaar ki Tadap

pyaar ki tadap ko dikhaya nahi jata
dil mein lagi aag ko bhujaya nahi jata
kitni bhi doori ho pyaar mein magar
aap jaise dost ko bholaya nahi jata

 


तेरी  तस्वीर

न दिल को “बहलाने” के लिए .
न घर मैं “सजाने” के लिए .
बस आपकी एक “तस्वीर” चाहिए हमें .
अपने सूने घर को “बसाने” के लिए

 

Teri Tasveer

Na Dil Ko “BEHLANEY” Ke Liye.
Na Ghar Main “SAJANEY” Ke Liye.
Bus Aapki Ek “TASVEER” Chahiye Humain.
Apne Sune Ghar ko “BASANE” ke Liye…

Continue Reading