shayarisms4lovers mar18 127 - हिंदी और उर्दू शायरी – दो लाइन शायरी – Daag , Perveen , Naqvi Shayari

हिंदी और उर्दू शायरी – दो लाइन शायरी – Daag , Perveen , Naqvi Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

न जाने कौन

न जाने कौन सा आसब दिल में बसता है
के जो भी ठहरा वो आखिर मकान छोड़ गया …

Na jane kaun

Na jane kaun sa aasaab dil mein basta hai
Ke jo bhi thehra wo aakhir makaan chod gaya


तुझी को पूछता रहा

बिछड़ के मुझ से , हलक़ को अज़ीज़ हो गया है तू ,
मुझे तो जो कोई भी मिला , तुझी को पूछता रहा

Tujhi ko puchta raha

Bichar ke mujh se, halaq ko aziz ho geya hai tu
Mujhe to jo koi mila, tujhi ko puchta raha


मेरे हम-सकूँ 

मेरे हम-सकूँ  का यह हुक्म था के कलाम उससे मैं कम करूँ ..
मेरे होंठ ऐसे सिले के फिर उसे मेरी चुप ने रुला दिया …

Mere hum-sukhan

Mere hum-sukhan ka yeh hukm tha ke kalaam us se main kam karoon..
mere hont aise sile ke phir usey meri chup ne rula diya ….


यह शब-ऐ-हिजर

यह शब-ऐ-हिजर तो साथी है मेरी बरसों से
जाओ सो जाओ सितारों के मैं ज़िंदा हूँ अभी

Shab-ae-hizar

Yeh Shab-ae-hizar To Sathi Hai Meri Barsoon Se
Jao So Jao Sitaro Ke Main Zinda Hoon Abhi


न आना तेरा

ले चला जान मेरी रूठ के जाना तेरा
ऐसे आने से तो बेहतर था न आना तेरा

Na aanaa Tera

Le chalaa jaan meri ruth ke jaana tera
aise aane se to behtar tha na aanaa tera…

Continue Reading

हर एक से कहते हैं क्या “दाग़ ” बेवफा निकला – “दाग़” उर्दू शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

हर एक से कहते हैं क्या “दाग़ ” बेवफा निकला 

तुम्हारे खत मैं नया एक सलाम किस का था
न था रक़ीब तो आखिर वो नाम किस का था

वो क़त्ल कर के हर किसी से पूछते हैं
यह काम किस ने किया है ये काम किस का था

वफ़ा करेंगे निभाएंगे बात मानेंगे
तुम्हें भी याद है कुछ यह कमाल किस का था

रहा न दिल मैं वो बे-दर्द और दर्द रहा
मुक़ीम कौन हुआ है मक़ाम किस का था

न पूछ -पाछ थी किसी की न आओ-भगत
तुम्हारी बज़्म में कल एहतमाम किस का था

गुज़र गया वो ज़माना कहें तो किस से कहें
ख्याल मेरे दिल को सुबह -ओ -शाम किस का था

हर एक से कहते हैं क्या “दाग़ ” बेवफा निकला
यह पूछे इनसे कोई वो ग़ुलाम किस का था

Har ek se kahte hain kya “Daagh” bewafa nikla

Tumhare khath main naya ek salam kis ka tha
na tha raqeeb to akhir wo nam kis ka tha

Wo qatl kar ke har kisi se puchte hain
ye kaam kis ne kiya hai ye kaam kis ka tha

Wafa karenge nibhayenge baat manenge
tumhen bhi yaad hai kuch ye kalam kis ka tha

Raha na dil main wo be-dard aur dard raha
muqeem kaun hua hai maqam kis ka tha

Na pooch-paach thi kisi ki na aao-bhagat
tumhari bazm main kal ehtamam kis ka tha

Guzar gaya wo zamana kahen to kis se kahen
khayal mere dil ko subah-o-sham kis ka tha

Har ek se kahte hain kya “Daagh” bewafa nikla
ye puche in se koi wo ghulam kis ka tha…

Continue Reading