shayarisms4lovers June18 238 - Two Line Shayari on love in Hindi Language – 2 Line Love Shayari Collection

Two Line Shayari on love in Hindi Language – 2 Line Love Shayari Collection

You can read best Two Line Shayari on love in hindi Language from all popular shayar  like Gaalib, Gulzar, Sagar Read Two line shayari on love यह दिल की अपनी दुनिया है यह समझ किसी के आए ना मैंने ये दुआ हरदम माँगी कोई छोड़ किसी को जाए ना। तुम याद करो तक्दीर क हाँ हम भूल सकें हो सकता नहीं महफिल की छोड़ो बात ही कया अब तन्हा भी रो सकता नहीं। इस बात का दिल को यकीं है मेरे तुझे अपना बनाऊँगा मैं कभी भले आज नहीं यह कल होगा तेरे दिल को भाऊँगा मैं कभी। जब सामने तुम आ जाते हो। खुद को मैं भूल ही जाता . हैं लाखों बातें क हने को जाने क्यों कह नहीं पाता हूँ। जैसे मैं तड़ पता हूँ तुम बिन क्या तुझको याद नहीं आती ले आए तुझको पास मेरे क्यों ऐसी रात नहीं आती। देखा भी नहीं सोचा भी नहीं बस तुझसे मुहब्बत कर बैठे अब बात खुदा पे छोड़ ये दी हम जी बैठे या मर बैठे। भूलना तो चाहा था मगर भुला नहीं पाया मैं कभी अपनी खुशी की खातिर किसी को रूला नहीं पाया मैं कभी। तू अपने बारे सोच जरा ये जीवन युना गुजर जाए रखना […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 29 - Dil ka dard original shayari made by aacky | Latest hindi Shayari

Dil ka dard original shayari made by aacky | Latest hindi Shayari

Dil ka dard original shayari made by aacky | Latest hindi Shayari video dil ka dard dikana ni cahate, kisi ko kuch batana ni cahate, dil me jo aag jal rahi hai, use bi bujana ni cahate, smma ki sama ronak rahe, usko bi to mitana ni cahate, bus jalte rahe unhi unki yaad me, jinhe hum bulana bi ni cahate, jal jal ke katam ho jaaye caahe, par usko ruswa karna bi nahi cahate, bus dard ko awaj bana ke, sab tak bus pahucaana cahate………….. (from bottom of my heart)….. ============================================= mere ko gam tha, to kya tere ko bi gam tha, agar tha bi to kya mera gam tere gam se kam tha, tha dono ko gam, na kisi ko jayada na kisi ko kam tha, iska kya pata kisko kya gam tha par tha jo bhi wo dono ko kam tha, jo bi gam tha usko sunke ankho ka hona tay nam tha, mere ko gam tha, to kya tere ko bi gam the mera gam kya tere gam se kam tha, mere ko gam tha, mere ko gam tha….. ================================================ Jab apne hi karne lage dohke, Fir kya karu roke, Usse bi to kuch ni hoga, […]

Continue Reading

दुःख दे कर सवाल करते हो – उर्दू शायरी

दुःख दे कर सवाल करते हो , तुम भी ग़ालिब ! कमाल करते हो .. Dukh Day Kar Sawaal Kartay ho, Tum Bhe GHAALiB ! Kamaal Kartay ho.. यह हम ही जानते हैं जुदाई के मोड़ पर , इस दिल का जो भी हाल तुझे देख कर हुआ .. Yeah hum hi jantey hain judaai ke mod par, Is dil ka jo bhi haal tujhe dekh kar hua.. क्या ज़रूरी है के हम हार के जीतें, ताबिश इश्क़ का खेल बराबर भी तो हो सकता है… Kia Zaroori Hai Ke Hum Haar Ke Jeetien Tabish Ishq Ka Khel Baraber Bhi To Ho Sakta Hai… तुम आज हँसते हो हँस लो मुझ पर ये आजमाइश न बार बार होगी मैं जनता हूँ मुझे खबर है के कल फ़िज़ा खुशगवार होगी . Tum Aj Hanste Ho Hans Lo Mujh Par Ye Ajamaish Naa Bar Bar Hogi Main Janta Hun Mujhe Khabar Hai Ki Kal Faza Khushgawar Hogi. लगा न दिल को क्या सूना नहीं तूने , जो कुछ के मीर का इस आशिक़ी ने हाल किया .. Laga na dil ko kya sunaa nahin tu ne, Jo kuch ke Meer ka is aashqi ne haal kiya.. इश्क़ माशूक़ इश्क़ आशिक़ है , […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 176 - Ahmad Faraz Shayari – Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The

Ahmad Faraz Shayari – Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The

अकेले तो हम पहले भी जी रहे थे “फराज़” क्यों तन्हा हो गए तेरे जाने के बाद प्यार में एक ही मौसम है बहारों का  “फ़राज़” लोग कैसे मौसमो की तरह बदल जाते है वहां से एक पानी की बूँद न निकल सकी तमाम उम्र जिन आँखों को हम झील देखते रहे जिसे भी चाहा है शिदद्त से चाहा है सिलसिला टुटा नहीं दर्द की ज़ंज़ीर का वो जो शख्स कहता रहा तू न मिला तो मर जाऊंगा वो जिन्दा है यही बात किसी और से कहने के लिए कुछ ऐसे हादसे भी ज़िन्दगी में होते है  “फ़राज़“ इंसान तो बच जाता है पर ज़िंदा नहीं रहता   ऐसा डूबा हूँ तेरी याद के समंदर में दिल का धड़कना भी अब तेरे कदमो की सदा लगती है एक ही ज़ख्म नहीं सारा बदन ज़ख़्मी है दर्द हैरान है की उठूँ तो कहाँ से उठूँ तुम्हारी दुनिया में हम जैसे हज़ारों है हम ही पागल थे की तुम को पा के इतराने लगे तमाम उम्र मुझे टूटना बिखरना था  “फ़राज़” वो मेहरबाँ भी कहाँ तक समेटा मुझे शायरी – अहमद फ़राज़ Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The “Fazar“ Kyon Tanhaa Ho Gaye Tere Jane Ke Baad Pyar Mein Ek Hi […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 199 - बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’ – Best Collection of “Ghalib”

बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’ – Best Collection of “Ghalib”

खुदा के वास्ते खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – जहाँ भी वही काफिर सनम निकले Khuda ke Waaste Khuda ke waaste parda na kaabe se uthaa zaalim Kaheen aisa na ho yahan bhi wahi kaafir sanam nikle Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – yahan bhi wahi kaafir sanam nikle वो निकले तो दिल निकले ज़रा कर जोर सीने पर की तीर -ऐ-पुरसितम् निकले जो वो निकले तो दिल निकले , जो दिल निकले तो दम निकले मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – वो निकले तो दिल निकले Wo Nikle To Dil Nikle Zara kar jor seene par ki teer-e-pursitam niklejo Wo nikle to dil nikle, jo dil nikle to dam nikle Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – Wo nikle to dil nikle कागज़ का लिबास सबने पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास जिस कदर लोग थे बारिश में नहाने वाले अदल के तुम न हमे आस दिलाओ क़त्ल हो जाते हैं , ज़ंज़ीर हिलाने वाले मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास Kaagaz ka Libaas Sabnay pahnaa […]

Continue Reading
Best shayari of Ghalib (Ghalib's Sher in Hindi)

Best shayari of Ghalib (Ghalib’s Sher in Hindi)

Kee mire qatl ke baad us ne jafaa se tauba haaye us zood-pasheemaan ka pasheemaan hona Koi ummeed bar nahi aati koi soorat nazar nahi aati Kaun hai jo nahi hai haazat-mand kis kee haazat ravaa kare koi की माइर क़त्ल के बाद उस ने जफ़ा से तौबा हाए उस ज़ूद-पाशीमाँ का पाशीमाँ होना कोई उम्मीद बार नही आती कोई सूरत नज़र नही आती कौन है जो नही है हाज़त-मंद किस की हाज़त रवा करे कोई ******* ‘Ghalib’ chhuti sharaab par ab bhi kabhi-kabhi peeta huun roz-e-abra o shab-e-maahtaab mein ‘ग़ालिब’ च्छुटी शराब पर अब भी कभी-कभी पीटा हुउँ रोज़-ए-आबरा ओ शब-ए-माहताब में ******* ‘Ghalib’ bura na maan jo vaaiz bura kahe aisa bhi koi hai ki sab achchha kahen jise ‘ग़ालिब’ बुरा ना मान जो वाइज़ बुरा कहे ऐसा भी कोई है की सब अच्च्छा कहें जिसे ******* Jab ki tujh bin nahi koi maujood fir ye hangama ai khuda kya hai जब की तुझ बिन नही कोई मौजूद फिर ये हंगामा आई खुदा क्या है ******* Jaan tum par nisaar karta huun mai nahi jaanta dua kya hai जान तुम पर निसार करता हुउँ मई नही जानता दुआ क्या है ******* Jee dhoondhta hai fir vahi fursat ke […]

Continue Reading
Ghalib's Sher in Hindi (Mirza Ghalib famous shayari)

Ghalib’s Sher in Hindi (Mirza Ghalib famous shayari)

Apni gali men mujhko na kar dafn baad-e-qatl mere pate se khalq ko kyuun tera ghar mile अपनी गली में मुझको ना कर दफ़्न बाद-ए-क़त्ल मेरे पाते से कॉल्क को क्यूउन तेरा घर मिले ******* Aaina dekh apna sa munh le ke rah gaye saahab ko dil na dene pe kitna guruur tha आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गये साहब को दिल ना देने पे कितना गुरुुर् था ******* Aaye hai be-kasi-e-ishq pe rona ‘Ghalib’ kis ke ghar jaayega sailaab-e-balaa mere baad आए है बे-कसी-ए-इश्क़ पे रोना ‘ग़ालिब’ किस के घर जाएगा सैलाब-ए-बाला मेरे बाद ******* Aage aati thi haal-e-dil pe hansi ab kisi baat par nahi aati आयेज आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी अब किसी बात पर नही आती ******* Aata hai daagh-e-hasrat-e-dil ka shumaar yaad mujh se mire gunah ka hisaab ai khuda na maang आता है दाघ-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद मुझ से माइर गुनाह का हिसाब आई खुदा ना माँग ******* Aashiq hoon pe maashooq-farebi hai mira kaam majnuun ko bura kahti hai laila mere aage आशिक़ हूँ पे माशूक़-फरेबी है मीरा काम मजनूउन को बुरा कहती है लैला मेरे आयेज ******* Ishq ne ‘Ghalib’ nikamma kar diya varna ham bhi aadmi the kaam […]

Continue Reading
Mirza Ghalib - Bass ke dushvaar hai har kaam ka asaan hona..

Mirza Ghalib – Bass ke dushvaar hai har kaam ka asaan hona..

Bass ke dushvaar hai har kaam ka asaan hona, Aaadmi ko bhi muyassar nahin insaan hona, girya chaahe hai kharaabi mere kaashaane ki, dar-o-deewaar se ttapke hai bayabaan hona, vaaye-deewangi-e-shoq ki har damn mujh ko, aap jaana udhar aur hi hairaan hona, jalva az-bas-ki taqaaza-e-nigah karta hai, johar-e-aayina bhi chaahe hai mizhgaan hona, ishrat-e-qatl-gah-e-tamanna mat pooch, eid-e-nazaara hai shamsheer ka uryaan hona, le gayi khaak me ham daagh-e-tamanna-e-nashaat, tu ho aur aap ba-sad-rang-e-gulistaan hona, ishrat-e-paara-e-dil zakhm-e-tamanna khaana, lazzat-e-rish-e-jigar gharq-e- namak-daan hona, Kii mere qatl ke baad uss ne jafaa se tauba, haaye us zood-e-pashemaan ka pashemaan hona, haif uss chaar girah kaprre ki qismat “ghalib”, jis ki qismat me ho aashiq ka garebaan hona..

Continue Reading