यह इश्क़ वाले हैं जो हर चीज़ लूटा देते हैं – ग़ालिब

यह इश्क़ वाले

अक़्ल वालों के मुक़द्दर में यह जूनून कहाँ ग़ालिब
यह इश्क़ वाले हैं जो हर चीज़ लूटा देते हैं ….

Yeh Ishq Wale

Aqal Walon ke Muqaddar mein Yeh Junoon Kahan Ghalib,
Yeh Ishq Wale hain Jo Har cheez Luta Deta Hain…..


ज़ाहिर है तेरा हाल

ग़ालिब न कर हुज़ूर में तू बार बार अरज़
ज़ाहिर है तेरा हाल सब उन पर कहे बग़ैर

Zaahir Hai Tera Haal

Ghalib na kar huzoor mein tu bar bar arz,
Zaahir hai tera haal sab un par kahe baghair !!


वो आये घर में  हमारे

यह जो हम हिज्र में दीवार-ओ -दर को देखते हैं
कभी सबा को कभी नामाबर को देखते हैं

वो आये घर में  हमारे , खुदा की कुदरत है
कभी हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं

नज़र लगे न कहीं उसके दस्त-ओ -बाज़ू को
ये लोग क्यों मेरे ज़ख्म-ऐ -जिगर को देखते हैं…

Continue Reading

दुःख दे कर सवाल करते हो – उर्दू शायरी

दुःख दे कर सवाल करते हो ,
तुम भी ग़ालिब ! कमाल करते हो ..

Dukh Day Kar Sawaal Kartay ho,
Tum Bhe GHAALiB ! Kamaal Kartay ho..

यह हम ही जानते हैं जुदाई के मोड़ पर ,
इस दिल का जो भी हाल तुझे देख कर हुआ ..

Yeah hum hi jantey hain judaai ke mod par,
Is dil ka jo bhi haal tujhe dekh kar hua..

क्या ज़रूरी है के हम हार के जीतें, ताबिश
इश्क़ का खेल बराबर भी तो हो सकता है…

Kia Zaroori Hai Ke Hum Haar Ke Jeetien Tabish
Ishq Ka Khel Baraber Bhi To Ho Sakta Hai…

तुम आज हँसते हो हँस लो मुझ पर ये आजमाइश न बार बार होगी
मैं जनता हूँ मुझे खबर है के कल फ़िज़ा खुशगवार होगी .

Tum Aj Hanste Ho Hans Lo Mujh Par Ye Ajamaish Naa Bar Bar Hogi
Main Janta Hun Mujhe Khabar Hai …

Continue Reading

Ahmad Faraz Shayari – Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The

अकेले तो हम पहले भी जी रहे थे “फराज़
क्यों तन्हा हो गए तेरे जाने के बाद

प्यार में एक ही मौसम है बहारों का  “फ़राज़
लोग कैसे मौसमो की तरह बदल जाते है

वहां से एक पानी की बूँद न निकल सकी
तमाम उम्र जिन आँखों को हम झील देखते रहे

जिसे भी चाहा है शिदद्त से चाहा है
सिलसिला टुटा नहीं दर्द की ज़ंज़ीर का

वो जो शख्स कहता रहा तू न मिला तो मर जाऊंगा
वो जिन्दा है यही बात किसी और से कहने के लिए

कुछ ऐसे हादसे भी ज़िन्दगी में होते है  “फ़राज़
इंसान तो बच जाता है पर ज़िंदा नहीं रहता

 

ऐसा डूबा हूँ तेरी याद के समंदर में
दिल का धड़कना भी अब तेरे कदमो की सदा लगती है

एक ही ज़ख्म नहीं सारा बदन ज़ख़्मी है
दर्द हैरान है की उठूँ तो कहाँ से उठूँ…

Continue Reading

Mirza Ghalib – मिर्ज़ा ग़ालिब

तू तो वो जालिम है

तू तो वो जालिम है जो दिल में रह कर भी मेरा न बन सका , ग़ालिब
और दिल वो काफिर, जो मुझ में रह कर भी तेरा हो गया..


हजारों ख्वाहिशें

हजारों ख्वाहिशें ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमान , लेकिन फिर भी कम निकले..


खुदा की कुदरत

वो आये घर में हमारे , खुदा की कुदरत है
कभी हम उन्हें कभी अपने घर को देखते है..


जहाँ खुदा नहीं है

पीने दे शराब मस्जिद में बैठ के , ग़ालिब
या वो जगह बता जहाँ खुदा नहीं है..


यूं होता तो क्या होता

हुई मुद्दत के ग़ालिब मर गया, पर याद आती है
जो हर एक बात पे कहना की यूं होता तो क्या होता..


इश्क़ पर जोर नहीं

इश्क़ पर जोर नहीं , यह तो वो आतिश है,  ग़ालिब
के लगाये न लगे और बुझाए न बुझे..


आह

Continue Reading

Top 20 Mirza Ghalib Shayari in Hindi & Urdu – Best Ghalib Shayari

Ghalib Shayari Are The Most Demanding Shayaris As Compared to other Urdu Shayari Writers.  Mirza Ghalib is great Shayari Writer. Mirza Ghalib writes All type Of Shayaris. Many People finding Bewafa Shayari By Ghalib, Love Shayari by Ghalib, Ghalib Shayari on Isaq or Many other types of Shayaris by Ghalib. So We Collect Top 20 Best Ghalib Shayari and Ghazals of Ghalib For you. Everyone Who Is Finding Ghalib Shayari In Urdu Or Hindi Can Read This Post Fluently And Can Share best Ghalib Shayaris With Any of Ghalib Shayari Lover Or Your Social Network.

We Hope You Like Collection Of Best Ghalib Shayaris.

Ghalib Shayari In Hindi

Kon kehtaa hai rooh kii Koi khawish nahi..
Jab sanse thii tab Koi azmaish nahii..
Toota hai armaan un awazon ke Liyee..
Jinke naseeb me jeene kii Koi numaish hi nahi…


** Ghalib Shayari Urdu **

Hum Aah Bhii Bharte Hai To Ho Jate Ha …

Continue Reading

बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’ – Best Collection of “Ghalib”

खुदा के वास्ते

खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम
कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – जहाँ भी वही काफिर सनम निकले

Khuda ke Waaste

Khuda ke waaste parda na kaabe se uthaa zaalim
Kaheen aisa na ho yahan bhi wahi kaafir sanam nikle

Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – yahan bhi wahi kaafir sanam nikle

वो निकले तो दिल निकले

ज़रा कर जोर सीने पर की तीर -ऐ-पुरसितम् निकले जो
वो निकले तो दिल निकले , जो दिल निकले तो दम निकले

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – वो निकले तो दिल निकले

Wo Nikle To Dil Nikle

Zara kar jor seene par ki teer-e-pursitam niklejo
Wo nikle to dil nikle, jo dil nikle to dam nikle

Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – Wo nikle to dil nikle

कागज़ का लिबास

सबने पहना …

Continue Reading

सुना है तड़प रहा है वो मेरी वफ़ा के लिए – Wasi Shah Shayari

मेरी वफ़ा

शरीक-ऐ-गम हुआ जो मेरे चोट खाने के बाद
खो दिया मैंने उस को पाने के बाद

मुझे नाज़ रहा फ़क़त उस अमल पर सदा
उसने मुझे अपना माना आज़माने के बाद

सुना है तड़प रहा है वो मेरी वफ़ा के लिए
शायद पछता रहा है मुझे ठुकराने के बाद

Meri Wafa

Shareek-ae-Gham hua jo mere chot khane ke baad
Kho diya maine us ko pane ke baad

Muje naaz raha faqat us amal par sada
Usne muje apna mana azmane ke baad

Suna hai tadap raha hai wo meri wafa ke liye
Shayad pachta raha hai mujhe thukhrane ke baad


इलज़ाम बेवफाई का

आज यूं ही सर-ऐ-राह उस से नज़र जा मिली “वासी”
वो रो दिया मुझसे नज़र मिलाने के बाद
किस किस को दूँ मैं इलज़ाम बेवफाई का
हर कोई छोड़ गया मुझको अपनाने के बाद .

ilzaam BEWAFAI ka

Aj youn he Sar-ae-Raah us se nazar …

Continue Reading

Best shayari of Ghalib (Ghalib's Sher in Hindi)

Kee mire qatl ke baad us ne jafaa se tauba
haaye us zood-pasheemaan ka pasheemaan hona

Koi ummeed bar nahi aati
koi soorat nazar nahi aati

Kaun hai jo nahi hai haazat-mand
kis kee haazat ravaa kare koi

की माइर क़त्ल के बाद उस ने जफ़ा से तौबा
हाए उस ज़ूद-पाशीमाँ का पाशीमाँ होना

कोई उम्मीद बार नही आती
कोई सूरत नज़र नही आती

कौन है जो नही है हाज़त-मंद
किस की हाज़त रवा करे कोई

*******

‘Ghalib’ chhuti sharaab par ab bhi kabhi-kabhi
peeta huun roz-e-abra o shab-e-maahtaab mein

‘ग़ालिब’ च्छुटी शराब पर अब भी कभी-कभी
पीटा हुउँ रोज़-ए-आबरा ओ शब-ए-माहताब में

*******

‘Ghalib’ bura na maan jo vaaiz bura kahe
aisa bhi koi hai ki sab achchha kahen jise

‘ग़ालिब’ बुरा ना मान जो वाइज़ बुरा कहे
ऐसा भी कोई है की सब अच्च्छा कहें जिसे

*******

Jab ki tujh bin nahi koi maujood
fir ye hangama ai …

Continue Reading

Ghalib's Sher in Hindi (Mirza Ghalib famous shayari)

Apni gali men mujhko na kar dafn baad-e-qatl
mere pate se khalq ko kyuun tera ghar mile

अपनी गली में मुझको ना कर दफ़्न बाद-ए-क़त्ल
मेरे पाते से कॉल्क को क्यूउन तेरा घर मिले

*******

Aaina dekh apna sa munh le ke rah gaye
saahab ko dil na dene pe kitna guruur tha

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गये
साहब को दिल ना देने पे कितना गुरुुर् था

*******

Aaye hai be-kasi-e-ishq pe rona ‘Ghalib’
kis ke ghar jaayega sailaab-e-balaa mere baad

आए है बे-कसी-ए-इश्क़ पे रोना ‘ग़ालिब’
किस के घर जाएगा सैलाब-ए-बाला मेरे बाद

*******

Aage aati thi haal-e-dil pe hansi
ab kisi baat par nahi aati

आयेज आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी
अब किसी बात पर नही आती

*******

Aata hai daagh-e-hasrat-e-dil ka shumaar yaad
mujh se mire gunah ka hisaab ai khuda na maang

आता है दाघ-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद
मुझ से माइर गुनाह …

Continue Reading

Mirza Ghalib – Urdu Shayari -1

Mirza Ghalib – Qataa kijiye na taluq hum se..

Qataa kijiye na taluq hum se,
Kuch nahi hai to adaavat hi sahi..

Mirza Ghalib – Rahi na taaqat-e-guftaar aur agar ho bhi..

Rahi na taaqat-e-guftaar aur agar ho bhi,
To kis umeed pe kahiye ke arzuu kya hai..

Mirza Ghalib – Baad marne ke mere ghar se yeh samaan niklaa….

Chand tasaveer-e-butaan, chand haseenon ke khatoot*.
Baad marne ke mere ghar se yeh samaan niklaa..

(khatoor;letters)

Mirza Ghalib – Meri kismat mein gham gar itna tha..

Meri kismat mein gham gar itna tha,
Dil bhi yaa rab kayi diye hotay.
.

Mirza Ghalib – Na tha kuch to khuda tha, kuch na hota to khuda hota..

Na tha kuch to khuda tha, kuch na hota to khuda hota,
Diboyaa mujhe ko hone ne, na hota mein to kya hota..

Mirza Ghalib – Ronay se aur ishq mein be-baak ho gaye..

Continue Reading