Wo Sath Hi Kya Jisme Tera Hath Nahi, Couple Love Shayari, Sms

♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥

Aasmaan Se Uncha Koi Nahi,
Saagar Se Gahra Koi Nahi,
Yoon To Mujhko Sabhi Pyaare Hai,
Par Aapse Pyaara Koi Nahi..!!

♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥

आसमान से ऊँचा कोई नहीं,
सागर से गहरा कोई नहीं,
यूँ तो मुझको सभी प्यारे है,
पर आपसे प्यारा कोई नहीं..!!

♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥

Ek Pal Ki Ye Baat Nahi,
Do Pal Ka Ye Saath Nahi,
Khne Ko To Zindgi, 
Jannat Se Pyari Hai,
Par Vo Saath Hi Kya,
Jisme Tera Haath Nahi..!

♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥

एक पल की ये बात नहीं,
दो पल का ये साथ नहीं,
कहने को तो जिंदगी,
जन्नत से प्यारी है,
पर वो साथ ही क्या,
जिसमे तेरा हाथ नहीं..!!

♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥

Tere Seene Se Lagakar Teri Aaraju Ban Jaun,
Teri Saanso Se Milkar Teri Khusbu Ban Jaun,
Phaasle Na Rahe Hum Dono Ke Darmiyaan Koi,
Mai, Mai Na Rahoon Bas “Tum” Ban Jaun..!!

♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥

तेरे सीने से लगकर तेरी आरजू बन जाऊं,
तेरी सांसो से …

Continue Reading

वो मोहब्बत ही क्या जिसके काबिल ना बन सके

वो ख़्वाब ही क्या जिसे पूरा ना कर सके….
वो मंजिल ही क्या जिसे हासिल ना करे सके
वो बेगुनाही ही क्या जिसे साबित ना करे सके
और वो मोहब्बत ही क्या जिसके काबिल ना बन सके

~ Sweety Phogat…

Continue Reading

कैसे जीऊ मैं खुशहाल ज़िन्दगी | एक और अधूरी मोहब्बत

कैसे जीऊ मैं खुशहाल ज़िन्दगी
उसकी मोहब्बत ने हमको मारा हैं

रखा था जो दिल संभाल कर
उस दिल को हमने हारा हैं

बनता हैं महफ़िलो की शान वो
पर बनता ना मेरा सहारा हैं

दूर भी हम कैसे रह सकते हैं
इंसां वो सबसे लगता प्यारा हैं

जाए कहा अब उसे छोड़ कर
बिन उसके ना अब गुजारा हैं

इंतजार में कटते हैं दिन और रात
दूजा ना अब कोई और चारा हैं

~ पूनम…

Continue Reading

उर्दू ग़ज़लें

मैंने तेरे इंतज़ार से मोहब्बत की है

तेरे इख्लास से मोहब्बत की है तेरे एहसास से मोहब्बत की है तू मेरे पास नहीं है फिर भी तेरी याद से मोहब्बत की है कभी तो तूने भी मुझे याद किया होगा मैंने उन्ही लम्हात से मोहब्बत की है जिन में हों तेरी मेरी बातें , मैंने उस इंसान से मोहब्बत की है और मेह्की हों सिर्फ तेरी मोहब्बत से मैंने उन जज़्बात से मोहब्बत की है तुझसे मिलना तो अब ख्वाब सा लगता है मैंने तेरे इंतज़ार से मोहब्बत की है

Tere Ikhlas Se Mohabbat Ki Hai Tere Ehsas Se Mohabbat Ki Hai Tu Mere Paas Nahi Hai Phir Bhi Teri Yaad Se Mohabbat Ki Hai Kabhi To Tune Bhi Mujhe Yad Kiya Hoga Meine Un Lamhaat Se Mohabbat Ki Hai Jin Mein Ho Teri Meri Batain Maine Us Insaan Se Mohabbat Ki Hai Aur Mehkey Ho Sirf Teri Mohabbat Se

Continue Reading

जब उठा मेरा जनाज़ा – मेरा जनाज़ा उर्दू शायरी

मेरा जनाज़ा ज़माने में निकला

जब मेरा जनाज़ा इस ज़माने से निकला
मेरे जनाज़े को देखने सारा ज़माना निकला
मगर मेरे जनाज़े में वो न निकला
जिसके लिए मेरा जनाज़ा ज़माने में निकला

Mere Janaze Mein Wo Na Nikla

Jab Mera Janaza is Zamane Se Nikla
Mere Janaze Ko Dekhne Sara Zamana Nikla
Magar Mere Janaze Mein Wo Na Nikla
Jiske Liye Mera Janaza Zamane Se Nikla


मेरे जनाज़े के पीछे

एक वादा था तेरा हर वादे के पीछे
तू मिलेगा मुझे हर गली ,हर दरवाज़े के पीछे
पर तू तो बड़ा ही बेवफा निकला मेरी जान
एक तू ही नहीं था मेरे जनाज़े के पीछे

Mere Janaze ke Peeche

Ek wada tha tera har wade ke peeche
Tu milega muje har gali,har darwaze ke peeche
Par tu bada bewafa nikla meri jaan
Ek tu hi nahi tha mere janaze ke peeche

तेरे जनाज़े के पीछे

एक वादा था मेरा …

Continue Reading

शायरी जो दिल में उतर जाये – लफ़्ज़ों की दास्ताँ

न किया कर अपने दर्द-ऐ-दिल को शायरी में बयान “मोहसिन”
लोग और टूट जाते हैं हर लफ़ज़ को अपनी दास्ताँ समझ कर

तुम नहीं , गम नहीं , शराब नहीं

तुम नहीं , गम नहीं , शराब नहीं
ऐसी तन्हाई का जवाब नहीं

कभी कभी इसे पढ़ा कीजिये
दिल से बेहतर कोई किताब नहीं

जाने किस किस की मौत आई है
आज रुख पे उनके कोई नक़ाब नहीं

वो कर्म उँगलियों पे गिनते हैं
ज़ुल्म का जिनके कुछ हिसाब नहीं

 

शायर – सईद राही


खत लिख रहा हूँ

खत लिख रहा हूँ अहदमोहब्बत को तोड़ के
काग़ज़ पे आंसुओं के थपेड़े छोड़ छोड़ के

तू फ़िक्र मंद क्यों है मेरा दिल तोड़ के
मैं खुद ही जा रहा हूँ तेरा शहर छोड़ के ..

कल रात लिखने बैठा ग़ज़ल तेरे नाम की
अल्फाज़ सामने थे खड़े यूँ हाथ जोड़ जोड़ के

जिसमें तुम्हारा अक्स _ऐ _हसीं देखता …

Continue Reading

फेसबुक चुनिंदा शायरी – अरज़ किया है

   मुझे ज़रा खुदा से हमकलाम होने दो …
   तुम्हारा ज़िकर भी इसी गुफ्तगू में है

मेरी शामें

खुद को खुद से हमकलाम कर के देखना
कितना मुश्किल है यह सफर तय कर के देखना
किस क़दर उदास गुज़रती हैं मेरी शामें
याद किसी को किसी शाम कर के देखना


कफ़न अगर तुम्हारा होगा

आँखें अगर तुम्हारी होगी तो आंसू हमारे होंगे
दिल अगर तुम्हारा होगा तो धड़कन हमारी होगी
ख्वाहिश है ..कफ़न अगर तुम्हारा होगा तो मयत हमारी होगी


कफ़न न डालो मेरी मयत पर

कफ़न न डालो मेरे चेहरे पे
मुझे आदत है मुस्कुराने की
कफ़न न डालो मेरी मयत पर
मुझे इंतज़ार है उसके आने का


उनके सदके जान है मेरी

शिकायत ये नहीं के वो नाराज़ है हमसे
शिकायत इस बात की है वो आज भी अनजान है हमसे
दिल तोडा , जज़्बात बिखेरे , फिर भी वो दिलजान है मेरे
मांग ले वो कभी …

Continue Reading

इश्क़ की कीमत पूछ लो मुझ से – Passionate Shayari

तुम्हारा साथ

जी चाहता है तुम से प्यारी सी बात हो
हसीं चाँद तारे हो , लम्बी सी रात हो
एहसास हो , बात हो और तुम्हारा साथ हो
यही सिलसिला तमाम रात हो , तुम्हारा साथ हो
तुम मेरी ज़िन्दगी हो , तुम मेरी कायनात हो .

Tumhara Sath

Jee Chahta Hai Tum Se Pyari Si Baat Ho
Haseen Chand Tare Ho, Lambi Si Raat Ho
Ehsaas ho, baat ho aur tumhara sath ho
Yahi silsila tamam raat ho, tumhare sath ho
Tum Meri Zindagi Ho, Tum Meri Kayinat Ho.


तेरे क़दमों में

तुम न जाओ कहीं
बस एक नज़र देख लेने की इजाज़त दे दो
कुछ वक़्त गुज़ार लू तेरे क़दमों में
इक ज़िन्दगी जीने की इजाज़त दे दो

Tere Kadmo Mein

Tum na jao kahin..
Bas ek nazar dekh lene ki ijazat de do
Kuchh waqt guzar lo tere Kadmo mein
Ik zindagi jeene ki ijaazat de …

Continue Reading

जिंदगी की रंग-ओ-बू – Shayari of Life

मंजूर कब थी हमको वतन से दूरियां

आईना-ऐ-ख़ुलूस-ऐ-वफ़ा चूर हो गए
जितने चिराग-ऐ-नूर थे बे नूर हो गए
मालूम यह हुआ की वो रास्ते का साथ था
मंज़िल करीब आई और हम दूर हो गए
मंजूर कब थी हमको वतन से यह दूरियां
हालात की जफ़ाओं से मजबूर हो गए
कुछ आ गयी हमे एहले-ऐ-वफ़ा ऐ दोस्तों
कुछ वो भी अपने हुस्न पे मगरूर हो गए
चरागों की ऐसी इनायत हुई हफ़ीज़
के जो ज़ख़्म भर चले थे वो नासूर हो गए

Manzoor Kab Thi Humko Watan Se Dooriyan

Aaina-AE-Khuloos-E-Wafa Churr Ho Gaye
Jitne Chirag-AE-Noor The Benoor Ho Gaye
Malum Yeh Hua Ki Wo Raaste Ka Sath Tha
Manzil Kareeb Aayi aur Hum Door Ho Gaye,
Manzoor Kab Thi Humko Watan Se Yeh Dooriyan
Haalaat Ki Jafaoon Se Majboor Ho Gaye
Kuch Aa Gayi Hume Ahl-AE-Wafa Mein Ae dosto
Kuch Wo Bhi Apne Husn Pe Magroor Ho Gaye
Charagon Ki …

Continue Reading