मेरा कर्त्तव्य : श्री घनश्यामदास जी बिड़ला का प्रेरक प्रसंग | Prerak Prasang

Prerak Prasang Hindi : पद्म विभूषण से सम्मानित श्री घनश्यामदास जी बिड़ला भारत के अग्रणी औद्योगिक समूह बी.के.के.एम. बिड़ला के संस्थापक होने के साथ ही स्वाधीनता सेनानी भी थे. वे महात्मा गांधी के परम मित्र, परामर्शदाता और सहयोगी भी थे. ये प्रेरक प्रसंग उनके जीवन से जुड़ा हुआ है. एक दिन की बात है. श्री घनश्यामदास जी बिड़ला रोज़ की तरह कार से अपने ऑफिस जा रहे थे. वे कार की पिछली सीट पर बैठे हुए थे. उस दिन ड्राईवर कार तेजगति से चला रहा था. जब उनकी कार एक तालाब के किनारे से गुज़री, तो वहाँ उपस्थित भीड़ के कारण कार की रफ़्तार धीमी करनी पड़ी. श्री घनश्यामदास जी बिड़ला ने भीड़ देखकर ड्राईवर से पूछा, “इतनी भीड़ कैसे इकठ्ठा है यहाँ पर? कुछ हो रहा है क्या?” “सर! लगता है कोई तालाब में डूब गया है.” ड्राईवर ने जवाब दिया. ये सुनना था कि श्री घनश्यामदास जी बिड़ला ने ड्राईवर से तुरंत कार रोकने को कहा और झटके से कार उतर गए. कार से उतरकर वे तालाब के पास पहुँचे. वहाँ उन्होंने देखा कि एक ८-९ वर्ष का बालक पानी में डूब रहा है. तालाब के आस-पास खड़ी भीड़ उसे बचाने के लिए चिल्ला रही है. लेकिन कोई […]

Continue Reading