shayarisms4lovers June18 98 - तेरा आना मेरी जिंदगी में एक ख्वाब सा लगता है

तेरा आना मेरी जिंदगी में एक ख्वाब सा लगता है

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

तेरा आना मेरी जिंदगी में एक ख्वाब सा लगता है

तेरा आना मेरी जिंदगी में एक ख्वाब सा लगता है
ऐतबार नहीं है मुझे अपनी किस्मत पे एक धोखा सा लगता है

जब भी तुझे करीब पता हूँ एक सकून सा लगता है
फिर न जाने क्यों एक डर सा लगता है

तुझे पाकर जहाँ मुकमल सा लगता है
फिर भी न जाने कहीं एक कोना अधूरा सा लगता है

जमानो चले जिस के साथ हर एक पल का साथ
फिर भी न जाने क्यों यह सफर अधूरा लगता है

रहेंगे तलबगार तेरे सारी उम्र का है
फिर भी न जाने यह वादा अधूरा लगता है

देखे सारे ख्वाब हर ख्वाब को जिया हमने
फिर भी न जाने क्यों एक सपना अधूरा लगता है

कहीं तो कुछ खाली है कहीं तो कुछ अधूरा है
फिर भी न जाने क्यों तेरा साथ मुकमल लगता है

Tera Aana Meri Zindagi Mein Ek Khwab Aa Lagta Hai

Tera aana meri jindagi mein ek khwab sa lagta hai
aitbaar nahi hai mujhe apni kismat pe ek dhokha sa lagta hai

Jab bhi tujhe karib pata hoon ek sakoon sa lagta hai
phir na jane kyon ek dar sa lagta hai

tujhe pake jahan mukamal sa lagta hai
phir bhi na kahin ek kona adhura sa lagta hai

jamano chale jis ke sath har ek pal ka sath
phir bhi na jane kyon yeah safar adhura lagta hai

rahenge talabgar tere sari umar ka bada hai
phir bhi na jane yeah wada adhura lagta hai

dekhe sare khwab har khwab ko jiyaa humne
phir bhi na jane kyon ek sapna adhura lagta hai

kahin to kuch khali hai kahin to kuch adhura hai
Phir bhi na jane kyon tera sath mukamal lagtha hai


यूं हुए मेरे नाम के फतवे जारी

यूं हुए मेरे नाम के फतवे जारी
जैसे मोहबत नहीं कोई गुनाह कर दिया हो मैंने

Yoon Hue Mere Naam Ke Fathve Zari

yoon hue mere naam ke fathve zari
jaise mohabat nahi koi gunaah kar diya ho maine…

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 239 - हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मैं अश्क़ हूँ

मैं अश्क़ हूँ मेरी आँख तुम हो
मैं दिल हूँ मेरी धडकन तुम हो
मैं जिस्म हूँ मेरी रूह तुम हो
मैं जिंदा हूँ मेरी ज़िन्दगी तुम हो
मैं साया हूँ मेरी हक़ीक़त तुम हो
मैं आइना हूँ मेरी सूरत तुम हो
मैं सोच हूँ मेरी बात तुम हो
मैं मुकमल हूँ जब मेरे साथ तुम हो
मैं तुम मैं हूँ अब तुम ही हो , अब तुम ही हो

Main ashq Hoon

Main ashq Hoon Meri ankh Tum Ho
Main Dil Hoon Meri Dharkan Tum Ho
Main jism Hoon Meri Rooh Tum Ho
Main Jinda Hoon Meri Zindagi Tum Ho
Main saya Hoon Meri Haqiqat Tum Ho
Main Aena Hun Meri Surat Tum Ho
Main soch Hoon Meri Baat Tum Ho
Main Mukmal hoon Jab Mere Sath Tum Ho
Main Tum main hoon Ab Tum hi ho , Ab Tum Hi Ho…


वादा

वादा निभाना हमारी आदत हो गयी
हमें भूलने की उनकी आदत है
उन्हें याद करने की हमारी आदत हो गयी

Wada

Wada Nibhana Humari Aadat Ho Gayi
Humein Bhulane Ki Unki Aadat Hai
Unhe Yaad Karne Ki Humari Aadat Ho Gayi…


गुनहगार

लोग पत्थर के बूतों को पूज कर भी मासूम रहे “फ़राज़”
हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए

Ghunegar

Log Pathar Ke Bhuton Ko Poojh Ker Bhi Masoom Rahay “Faraz”
Hum Ne Ek Insan Ko Chaaha Aur Ghunegar Ho Gaye…


तन्हाई

तन्हाई मेरे दिल में समाती चली गयी
किस्मत भी अपना खेल दिखाती चली गयी
महकती फ़िज़ा की खुशबू में जो देखा तुम को
बस याद उनकी आई और रुलाती चली गयी..

Tanhayi

Tanhayi mere dil mein samati chali gayi
Kismat bhi apna khel dikhati chali gayi
Mehkti fiza ki khusbu me jo deka tum ko
Bas yaad unki aayi aur rulati chali gayi…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 198 - एक दिल ही था वो भी उस के पास था

एक दिल ही था वो भी उस के पास था

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

साक़ी

तेरी शराब कुछ भी नहीं उस की आँखों के सामने “साक़ी “
वो जो देख ले एक नज़र तो पीने की हसरत नहीं रहती

SAQI

Teri Sharab Kuch Bhi Nahi Us Ki Ankhon Ke Samne “SaQi”
Wo Jo Dekh Le Ek Nazar To Peene ki Hasrat Nahi Rehti…


मदहोशी

नज़रों से क्यों इतना पिला देती हो
महखाने की राह भूल गए हैं
गुनाह हो जाये न मदहोशी में
इसी खातिर हरदम दूर बैठे हैं

Madhoshi

Nazaron se kyun itana pila deti ho
Meihkhane ki raah bhool gaye hain
Gunaha ho jaye na madhoshi mein
Isi khatir hardam door baithe hain…


कतरे कतरे से वफ़ा

बेवफा कहने से पहले मेरी रग रग का खून निचोड लेना
कतरे कतरे से वफ़ा न मिली तो बेशक मुझे छोड़ देना

Katre Katre Se Wafa

Bewafa Kehne Se Pehle Meri Rag Rag Ka Khoön nichod Lena
Katre Katre Se Wafa Na Mili To Beshak Mujhe Chod Dena…


तेरी चाहत

पास तुम होते तो कोई शरारत करते
तुझे ले कर बाँहों में मोहब्बत करते

देखते तेरी आँखों में नींद का खुमार
अपनी खोई हुई नींदों की शिकायत करते

तेरी आँखों में अपना अक्स ढूँढ़ते
खुद से भी ज़यादा तेरी चाहत करते

एक दिल ही था वो भी उस के पास था
रात भर जाग कर किस की हिफाज़त करते

Teri Chahat

paas tum Hote To Koi Shararat Karte
Tujhe Le Kar Bahon Mein Mohabbat Karte

Dekhte Teri Ankhon Mein Neend Ka Khumar
Apni Khoyi Hui Neendon ki Shikayat Karte

Teri Aankhon Mein Apna aks Dhoondte
Khud Se Bhi Zayada Teri Chahat Karte

Ek Dil Hi Tha Wo Bhi Us Ke Paas Tha
Raat Bhar Jaag Kar Kis Ki Hifazat Karte…

Continue Reading