shayarisms4lovers June18 92 - रोज तुमसे सपनो में मुलाकात करते है – मुलाकात शायरी

रोज तुमसे सपनो में मुलाकात करते है – मुलाकात शायरी

मुलाकात का इंतज़ार हर एक मुलाकात को याद हम करते है कभी मोहब्बत कभी जुदाई की आह भरते है यूँ तो रोज तुमसे सपनो में मुलाकात करते है मगर फिर भी अगली मुलाकात का इंतज़ार करते है . Mulakat Ka Intzar Har ek mulakat ko yaad hum karte hai Kabhi mohabbat kabhi judai ki aah […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 116 - हमे तो प्यार की गहराइयाँ मालूम करनी थी “फ़राज़”

हमे तो प्यार की गहराइयाँ मालूम करनी थी “फ़राज़”

प्यार की गहराइयाँ हमे तो प्यार की गहराइयाँ मालूम करनी थी “फ़राज़” यहाँ नहीं डूबता तो कहीं और डूबे होते Pyar ki Gehraiya hume to pyar ki gehraiya maaloom karni thi “FARAZ” yahan nhi dubte to kahin aur dube hote मेरी ख़ामोशी वो अब हर एक बात का मतलब पूछता है मुझसे “फ़राज़” कभी जो […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 239 - हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

मैं अश्क़ हूँ मैं अश्क़ हूँ मेरी आँख तुम हो मैं दिल हूँ मेरी धडकन तुम हो मैं जिस्म हूँ मेरी रूह तुम हो मैं जिंदा हूँ मेरी ज़िन्दगी तुम हो मैं साया हूँ मेरी हक़ीक़त तुम हो मैं आइना हूँ मेरी सूरत तुम हो मैं सोच हूँ मेरी बात तुम हो मैं मुकमल हूँ […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 23 - ऐ “हमदम” छोड़ वो तेरे मुक़द्दर में नही

ऐ “हमदम” छोड़ वो तेरे मुक़द्दर में नही

ऐ “हमदम” छोड़ वो तेरे मुक़द्दर में नही  बैठे बैठे किसी की यादों में खो जाना अब ज़रूरी तो नही वो बेवफा है ये बताना अब ज़रूरी तो नही अपने चमन की ताज़गी फूलों के दम से है हर फूल से खुशबु आना अब ज़रूरी तो नही मेरा दिल टूटा है यारो एक शीशे की […]

Continue Reading