Love Shayari - Teri Awaaz Sunne Ko

सुना है तड़प रहा है वो मेरी वफ़ा के लिए – Wasi Shah Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>
मेरी वफ़ा

शरीक-ऐ-गम हुआ जो मेरे चोट खाने के बाद
खो दिया मैंने उस को पाने के बाद

मुझे नाज़ रहा फ़क़त उस अमल पर सदा
उसने मुझे अपना माना आज़माने के बाद

सुना है तड़प रहा है वो मेरी वफ़ा के लिए
शायद पछता रहा है मुझे ठुकराने के बाद

Meri Wafa

Shareek-ae-Gham hua jo mere chot khane ke baad
Kho diya maine us ko pane ke baad

Muje naaz raha faqat us amal par sada
Usne muje apna mana azmane ke baad

Suna hai tadap raha hai wo meri wafa ke liye
Shayad pachta raha hai mujhe thukhrane ke baad


इलज़ाम बेवफाई का

आज यूं ही सर-ऐ-राह उस से नज़र जा मिली “वासी”
वो रो दिया मुझसे नज़र मिलाने के बाद
किस किस को दूँ मैं इलज़ाम बेवफाई का
हर कोई छोड़ गया मुझको अपनाने के बाद .

ilzaam BEWAFAI ka

Aj youn he Sar-ae-Raah us se nazar ja mili “WASI”
Wo ro Diya mujhse nazar milane ke baad
Kis kis ko doon ilzaam BEWAFAI ka
Har koi chor gaya mujko apnane ke baad.


बिखर जाने दो

मैं यूँ मिलू तुझसे के तेरा लिबास बन जाऊं
तुझे बना के समंदर और खुद प्यास बन जाऊं
अपने पहलूँ में मुझे टूट के बिखर जाने दो
कल को शायद मुमकिन नहीं के मैं तुमको पाऊँ

Bikhar Jane Do

Mein Yun millon Tujhse Ke Tera Libaas Ban Jaon
Tujhe bna Ke Samandar Aur Khud Pyaas Ban Jaon
Apne Pehloon Mein Mujhe Toot Ke Bikhar Jane Do
Kal Ko Shayad Mumkin Nahi Ke Mein Tumko Paon…

Continue Reading