Love Shayari - Teri Awaaz Sunne Ko

सुना है तड़प रहा है वो मेरी वफ़ा के लिए – Wasi Shah Shayari

मेरी वफ़ा शरीक-ऐ-गम हुआ जो मेरे चोट खाने के बाद खो दिया मैंने उस को पाने के बाद मुझे नाज़ रहा फ़क़त उस अमल पर सदा उसने मुझे अपना माना आज़माने के बाद सुना है तड़प रहा है वो मेरी वफ़ा के लिए शायद पछता रहा है मुझे ठुकराने के बाद Meri Wafa Shareek-ae-Gham hua […]

Continue Reading