shayarisms4lovers June18 170 - वफ़ा के शीश महल में सज़ा लिया मैं ने

वफ़ा के शीश महल में सज़ा लिया मैं ने

वफ़ा के शीश महल में सज़ा लिया मैं ने वो एक दिल जिसे पत्थर बना लिया मैं ने ये सोच कर की ना हो तक में खुशी कोई गमों की ओट में खुद को छुपा लिया मैं ने कभी ना ख़त्म किया मैं ने रोशनी का मुहाज़ अगर चिराग बुझा, दिल जला लिया मैं ने […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 63 - Crack-Down Tribunal (Re Jack Straw’s ‘Community Treatment Orders’ for the Mentally Ill) | A Poem by David Russell

Crack-Down Tribunal (Re Jack Straw’s ‘Community Treatment Orders’ for the Mentally Ill) | A Poem by David Russell

Borderline Personality Disorder – Everybody welcome to the edge! It’s the cripples’ convocation; We’re the tin end of the wedge. Rattling jars of medication cocktails, Pinballs batted in eternal circles, Listen to the words of wisdom: “Do what they tell you; don’t ask questions; Take what they give you, don’t ask question.” It’s the Crack-Down […]

Continue Reading