shayarisms4lovers mar18 195 - Punjabi Shayari – पंजाबी शायरी

Punjabi Shayari – पंजाबी शायरी

रब दी सो में तेनु प्यार नी कीता आधी रात नु दिल दी देहलीज उते इक सूपना आन खलो जाँदा आ बेहन्दे हो सिरहाने तुसी सोना मुस्किल हो जाँदा है प्यार तेरे दा दर्द वे सजना मेरी नाड़ी नाड़ी टओ जाँदा रब दी सो में तेनु प्यार नी कीता ऐ ता अपने आप ही हो जाँदा… मौत ता बुरी चीज़ है यारो मौत ता बुरी चीज़ है यारो पर मौत तो बुरी जुदाई सब तो बुरी उडीक साजन दी जो रख दी खून सुखाई…

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 238 - मेरी चाहत का वजूद – Chahat Shayari

मेरी चाहत का वजूद – Chahat Shayari

मेरी चाहत का वजूद  टूट सा गया है मेरी चाहत का वजूद अब कोई अच्छा भी लगे तो हम इज़हार नहीं करते . Meri Chahat Ka Wajood Toot sa gaya hai meri chahat ka wajood ab koi accha bhi lage to hum izhaar nahi karte. दस्तूर चलती हैं दिल के शहर में यूँ उसकी हुकूमतें बस जो भी उसने कह दिया दस्तूर हो गया….!! Dastoor Chalti Hain Dil ke Shehar mein Yun uski Hukumatein Bas Jo bhi usne Keh diya Dastoor ho Gaya….!!

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 205 - शायरी – अदब-ऐ-वफ़ा

शायरी – अदब-ऐ-वफ़ा

रूह हम अपनी रूह तेरे जिस्म में छोड़ आये है तुझे गले से लगाना तो एक बहाना था Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , Rooh (रूह) वो नज़र तो आया है यही बहुत है की दिल उसे ढूंढ लाया है किसी के साथ ही सही वो नज़र तो आया है Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , nazar (नज़र) मेरा शहर छोड़ दो वो बात बात पर देते है परिंदों की मिसाल साफ़ साफ़ नहीं कहते मेरा शहर छोड़ दो Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , FARAZ (शहर) इश्क़ में ज़िद है अंजाम की परवाह है तो इश्क़ करना छोड़ दो इश्क़ में ज़िद है और ज़िद में जान भी चली जाती है Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , Ishq (इश्क़) अदब-ऐ-वफ़ा अदब-ऐ-वफ़ा भी सीखो मोहबत की दरगाह में फकत यूं ही दिल लगाने से , दिलो में घर नहीं बनते Hindi and Urdu Shayari , Shayari , शायरी , mohabbat ki Shayari , wafa ki Shayari , […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 15 - Romantic Punjabi Love Shayari

Romantic Punjabi Love Shayari

शर्ता ला के नी कदे प्यार हुँदा ऐ जींद नी इतनी सस्ती सजना हर कोई नी इदा हक़दार हुँदा कोई वैद हाकिम नी इलाज़ करदा जो भी इश्क़ बीमार हुँदा जो रूह दे बीच बस गिया ओ नी दिल दे बीचो बिछड हुँदा होर ता सानु पता नी यारा पर शर्ता ला के नी कदे प्यार हुँदा आसी आ पंछी तेरे बागा दे आसी आ पंछी तेरे बागा दे किसी होर बाग़ नी बेह सकदे तेरे हँसियां तो जींद बार देयीऐ पर बिछोड़ा तेरा नी सेह सकदे दुनिया सानू चाहे लख छड़ दे आसी बस तेरे बाजो नई रह सकदे साढी ख़ामोशी समझ सकें ता समझ लेई वे सजना हर एक गल जुबानों नी कह सकदे

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 291 - पंजाबी शायरी – लेंखा विच बिछोड़े रह गए – Punjabi Shayari

पंजाबी शायरी – लेंखा विच बिछोड़े रह गए – Punjabi Shayari

लेंखा विच बिछोड़े लेंखा विच बिछोड़े रह गए अथरु रो रो थोड़े रह गए इक न मनी उन्हें मेरी हाथ भी मेरे जोड़े रह गए जांदी वारी छड़ गया मैनू पिज्हे वाल निचोड़े रह गए फेर ओ कदे मुड़ नहीं आया मोतिये दे फूल तोड़े रह गए हुन्ह ते आ के मिल वे सजना ज़िंदगी दे दिन थोड़े रह गए   Lekhan Vich Bichorey Lekhan vich vichorey reh gaye athro ro ro thorey reh gaye Ik na manni unhee meri Hath bhi meree jode reh gaye Jandi vari chad gaya meenu pijhey baal nechode reh gaye pher o kade mud nahi aya motiyee de phool thode reh gaye hun ta aa ke mil weh sajna Zindgi de din thode reh gaye… चंगी गल नहीं वेख -वेख हँसना , पर कुछ भी न कहना , चंगी गल नहीं जानभूज़ के अनजान बने रहना , चंगी गल नहीं प्यार करना , पर इजहार न करना , चंगी गल नहीं किस्से दा प्यार तो विश्वास ही उठा देना , सच्ची ….चंगी गल नहीं Changi Gal Nai Vekh-vekh hasna, par kuch v na kehna, Changi gal nai jab bujj ke anjan bane rehna, Changi gal nai pyar karna, par ijhhar na karna, changi gal nai, kisse da, pyar to vishwass hi utha […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 20 - कर के इज़हार-ऐ-मोहब्बत बेपरवाह हो जाते हैं लोग

कर के इज़हार-ऐ-मोहब्बत बेपरवाह हो जाते हैं लोग

राह -ऐ -जूनून फ़ना न कर अपनी ज़िन्दगी को ऐ इंसान राह -ऐ -जूनून में तब करेगा इबादत जब गुनाह करने की ताक़त न होगी Raah-ae-Junoon Fana na kar apni zindagi ko ay jawan raah-e-junoon main. Tab karega ibadat jab gunnah karne ki taqat na hogi क्यों बेवफा हो जाते हैं लोग हँसते हैं यूँ ही हंस कर रुला जाते हैं लोग मिलते हैं यूँ ही मिल कर जुदा हो जाते हैं लोग पल दो पल की मोहब्बत को उम्र भर का साथ न समझना मुहबत भी करते हैं और खफा भी हो जाते हैं लोग .   नसीब में प्यार न था जो मुझे मिला ही नहीं . कर के इज़हार-ऐ-मोहब्बत बेपरवाह हो जाते हैं लोग . अब किस से करें शिकवा अपनी किस्मत का . कर के वादे वफ़ा क्यों बेवफा हो जाते हैं लोग Kyon bewafaa ho jate hain log Hanste hain yun hi hans kar rula jate hain log Milte hain yun hi mil kar juda ho jate hain log Pal do pal ki Mohabbat ko umar bhar ka sath na samjhna. Muhabat bhi karte hain or khafaa bhi ho jate hain log. Naseeb mein pyar na tha jo mujhe mila hi nhi. Kar ke izhaar-ae-Mohabbat […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 267 - Shiv Kumar Batalvi – नग्मे और शायरी

Shiv Kumar Batalvi – नग्मे और शायरी

प्यार तेरे शहर दा रोग बन के रह गया है प्यार तेरे शहर दा मैं मसीहा वेख्या बीमार तेरे शहर दा इसकी गलियां मेरी चढ़दी जवानी खा लायी क्यों ना करूँ दोस्ता सत्कार तेरे शहर दा शहर तेरे क़दर नहीं लोकां नू सच्चे प्यार दी रात नूं खुल्दा है हर बाजार तेरे शहर दा जिथे मोयां बाद भी कफ़न नहीं होया नसीब कौन पागल अब करे एतबार तेरे शहर दा इथे मेरी लाश तक नीलाम कर दीती गयी लथ्या कर्ज़ा ना फिर भी यार तेरे शहर दा Pyaar Tere Shahar Da Rog ban ke reh gayaa hai pyaar tere shahar daa Main Masiihaa vekhyaa biimaar tere shahar daa Ehdiyaan galiyan merii charhdi jawaani khaa layii Kyon karaan naa dostaa satkaar tere shahar daa Shahar tere qadar nahin lokaan noon suche pyaar dii Raat noon khuldaa hai har bazaar tere shahar daa Jithe moyaan baad vii kafan nahin hoyaa nasiib Kaun paagal hun kare etbaar tere shahar daa Eithe merii laash tak niilaam kar ditii gayii Lathyaa karzaa naa fer vii yaar tere shahar daa… दर्द दा कोई जाम पीतियाँ आज फिर दिल गरीब इक पाउँदा है वास्ता, दे जा मेरी अज  कलम नू  इक होर हादसा मुददत होइ है दर्द दा […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 248 - पंजाबी और उर्दू शायरी – हीर राँझा शायरी

पंजाबी और उर्दू शायरी – हीर राँझा शायरी

जेल बिच बंद ग़ुलाम रह जाँदै न किताबां बिच लिखे पैग़ाम रह जाँदै न पहली मुलाकात किसी नु याद रवे न रवे याद सब नू आखरी सलाम रह जाँदै न ​ jailaan ch band ghulaam reh janday ne kitaabaan ch likhay paighaam reh janday ne pehli mulakaat kissi nu yaad raway na raway yaad sab nu akhari SALAAM reh janday ne​ वेख के उदास चेहरा यार दा , जिदी आँख भर आवे . रब्ब ऐसे सजना नु कदे भी न तड़फावे …. अस्सी रब्ब तक पहुँच बनायीं होई है … मेरे हुंदियां न डरीं मौत कोलों … तेरी मौत अस्सी अपनी लक़ीरां च लिखाई होई है … vekh k udass chehra yaar da, jeedi akhh par aave. Rabb aise sajna nu kade vi na tarpave…. Assi rabb tak pohach banayi hoyi hai… Mere hundiyaa na darrin maut kolon… Teri maut assi apni lakeran ch likhayi hoyi hai… तू मेरी जिंद ते जान वरगा मेरे पिंड नूं जांदी राह वरगा तैनू भुला वे किंज यारा तू आंदी जांदी साह वरगा To meri Jind Tay jaan Wergaa Mery Pind Nou Jaandi Raah Wergaa tainoo Pullaan V Kainj yaraaaaaaaa Tou Aandi jaandi Saah Wergaaaaa हाजी लोक मक्का  ” नू जांदे ” मेरा रांझा […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 94 - ग़म इसका नहीं की आप मिल न सकोगे – याद शायरी

ग़म इसका नहीं की आप मिल न सकोगे – याद शायरी

तन्हाई में आंसू करोगे याद एक दिन साथ बिताए ज़माने को चले जाएंगे जिस दिन हम कभी वापिस न आने को करेगा महफ़िल में ज़िकर हमारा कोई तो चले जाओगे तन्हाई में आंसू वहाने को . Tanhai Mein Aansu Karoge Yaad Ek Din Saath Beete Zamane Ko Chale Jaayenge Jis Din Hum Kabhi Wapas Na Aane Ko Karega Mehfil Mein Zikr Hamara Koi To, Chale Jaaoge Tanhai Mein Aansu Bahane Ko… तुम्हारी याद सुनो मुझे हर पल तुम्हारी याद आती है , कभी साँसों के चलने पे , कभी दिल के मचलने पे , कभी आँखें छलकने पे कभी चाँद निकलने पे , कभी सूरज के ढलने पे कभी शब के अंधेरों में खो जाने पे कभी दिन के सबेरों में कभी लोगों के मेले में ,कभी तनहा अकेले में Tumhari Yaad Suno Mujhe Har Pal Tumhari Yaad Aati Hai, Kabhi Saanso Ke Chalne Pe, Kabhi Dil Ke Machalnay Pe, Kabhi Aankhen Chalakne Pe Kabhi Chand Nikalny Pe, Kabhi Suraj Ke Dhalne Pe Kabhi Shab Ke Andheron Mein, Kabhi Din Ke Sawairon Me Kabhi Logon Ke Melay Mein,Kabhi Tanha Akele Mein… मौत से पहले रात के अँधेरे में सारा जहाँ सोता है लेकिन किसी की याद में एक दिल रोता […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 69 - थामी है कलाई अब न छुटेगी मुझसे – चूड़ियाँ

थामी है कलाई अब न छुटेगी मुझसे – चूड़ियाँ

यादों का इक झोंखा यादों का इक झोंखा आया मुद्द्तों बाद पहले इतना रोये नहीं जितना रोये बरसों बाद लम्हां लम्हां गुजरा तो  हमे अहसास हुआ पत्थर फैंके बरसों पहले , शीशे टूटे बरसों बाद दस्तक ही उमीद लगाये कब से बैठे हैं हम कल का वादा करने वाले , मिलने आए बरसों बाद.. गुजरे हुए वक़्त की यादें सजा बन जाती है गुजरे हुए वक़्त की यादें न जाने क्यों छोड़ जाने के लिए मोहबत करते है लोग.. टूटी थी चूड़ियाँ थामी है कलाई अब न छुटेगी मुझसे टूटी थी चूड़ियाँ , टूटे अब मेरी बला से.. तुझे सोचना कोई और काम दे दो मुझे अब तुम यह क्या तुझे सोचना और सोचते ही रहना..

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 81 - यह दुनिया है बस मतलब दी

यह दुनिया है बस मतलब दी

एक मिलन दी आस इक दुआ की आस विच सारी रात जागे पर कोई तारा अम्बरो टूटिया न चुरा के नज़र लंग गए कोलो दी उन्हे हाल भी मेरा पुछ्या न एक मिलन दी आस रही दिल विच आस आस च जीवन मुक्या न Ik milan di aas Ek dua di aas wich sari raat jagge par koi tarra aambro tutya na chura ke nazar lang gaye kolo di Uhna haal vi sada puchya na ik milan di aas rahi dil wich aas aas ch jiwan mukya na गैरां ते हक़ खत लिखदे नू कलम पूछन लगी तू किस नू अपना दर्द सुनां लगा कोई तेनु भी याद करदा है के ऐवें  ही वक़्त गवां लगा इथे अपनों ते भी कोई मान नहीं तू क्यों ऐवें गैरां ते हक़ जताओं लगा Gairan Te Haq Khat Likhde Nu Kalam Puchan Laggi Tu Kis Nu Apna Dard Sunaun Lagga Koi Taniu V Yaad Karda Hai K Avein Waqt Hi Gawaun Lagga Ethe Apneya Te V Koi Maan Nahi Tu Kyo Avein Gairan Te Haq Jataon Lagga यह दुनिया है बस मतलब दी रिश्ते वेख के प्यार निभाया कर हर किसे नू न अपना बनाया कर यह दुनिया है बस मतलब दी ऐंवे […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 01 - हीर शायरी – वारिस शाह

हीर शायरी – वारिस शाह

लिखी रांझे नाम ये हीर हुंदी की मुक जाना सी वारिस शाह दा, लिखी रांझे नाम ये हीर हुंदी . वख रूह नालो रूह न हो सकदी , न दिल चो वख तस्वीर हुंदी . नशा अख दा इक वारी चढ़ जावे , पूरी इश्क़ दी फिर तासीर हुंदी . झूठा रब्ब नू तुस्सी केहन वालयो , निगाह मेरी नाल ये देख लावो , झूठ अख कदे नी कह सकदी , निगाह यार दी निगाहे -ऐ -पीर हुंदी . तेरी अख तो ओहले मैं हुँदा न , मंदी ऐनी ये न तक़दीर हुंदी . Likhi Ranjhe Naam Je Heer Hundi Ki Mukk Jana Si Waris Shah Da, Likhi Ranjhe Naam Je Heer Hundi. Vakh Rooh Naalo Rooh na Ho Sakdi, Nai Dil Cho Vakh Tasveer Hundi. Nasha Akh Da Ik Vaari Chadh Jave, Poori Ishq Di Fer Taseer Hundi. Jhootha Rabb Nu Tussi Kehen Waleyo, Nigah Meri Naal Je Dekh Lavo, Jhooth Akh Kade Ni Keh Sakdi, Nigah Yaar Di Nigahe-E-Peer Hundi. Teri Akh To Ohle Manu Hunda Na, Maadi Enni Je Na Taqdeer Hundi.

Continue Reading

इश्क़ दा जोर – पंजाबी शायरी

इश्क़ दा ख्वाब इश्क़ दा जिस नू ख्वाब आ जाँदा ऐ , वक़्त समझो खराब आ जाँदा ऐ , मेहबूब आवे या न आवे पर तारे गिन्नं दा हिसाब आ जाँदा ऐ Ishq Da Khwaab ISHQ da jisnu khwaab aa janda ae, waqt samjho khraab aa janda ae, mehboob aave ya na aave par taare ginan da hisaab aa janda ae! यारी उस नाल यारी कदी न लाइयो जिस नू अपने ते ग़रूर होवे माँ बाप नू  बुरा न अखियो भावें लख उन्हा दा कसूर होवे . बुरे रस्ते न जइयो . चाहे किनी भी मंज़िल दूर होवे . राह जांदे नू दिल कदे न देयो . चाहे लख मुँह ते नूर होवे  . मोहबत सिर्फ ओथे करियो .. जिथे प्यार निभां दा दस्तूर होवे … Yari Us Naal Yari kadi na laiyo Jisnu Apne Te Gharoor hove Maa Baap Nu Bura na Akhiyo Bhaven Lakh Unna Da Kasoor hove. Bure Rastey Na Jaiyo. Chaye Kini vi manzil Dur hove. Raah Jandey Nu Dill kade na Deyo. Chahe Lakh Mooh Te Noor Hove. Mohabat Sirf othe kariyo.. Jithe Piyar Nibhan da Dastoor hove… इश्क़ दा जोर बाँह फड़के रोक लेन्दे ,ये चल दा कोई ज़ोर हुँदा असीं तेरे पीछे क्यों […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 69 - छड़ दूँ सजना तकना तेरिया राहां नू – पंजाबी शायरी

छड़ दूँ सजना तकना तेरिया राहां नू – पंजाबी शायरी

रुक लेंन दे इन्हा सॉहा नू छड़ दूँ सजना तकना तेरिया राहां नू एक बार रुक लेंन दे इन्हा सॉहा नू   रंगलियाँ  बहाराँ किसे नु मिल जंदिया न  रंगलियाँ  बहाराँ किसे नु चमन भी नसीब न हुँदा किसे दी कबर ते तामीर होंदे महल चौबारे ते किसे नू कफ़न भी नसीब न हुँदा   जिंदगी दा कुछ हिसा अपनी जिंदगी दा कुछ हिसा तेरे संग निभा चले हाँ प्यार किता सी तनु रब तो ज़यादा ताहियों धोखा खा चले हाँ सी यकीं रब तो भी ज़यादा पर तेनु आज गवा चले हाँ   ओ चन सी अम्ब्रा दा वफ़ा समझ के जिनु निभोदें रे ओ बेवफा सी जिस नु प्यार करदे रहे में नफरत नू प्यार नाल तोल्दा  रिहा पर ओ आसमान सी जमीन नाल की बोलदा ओ चन सी अम्ब्रा दा उस दी ख़ुशी लई हर रोज़ टूटे कई तारे सी मेरा दिल बेचारा डुल सी जमीन दी मुड धरती ते औन्दा दोबारा सी   दिल दा इलाज़ मेरे रबा मेरी गल दा जवाब ता दे इस टूटे हुए दिल दा इलाज़ ता दे सारी बीती है उम्र मेरी दुखां दे सहारे होर किने दुःख लेखे न हिसाब ता दे

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 168 - चंद शेयर – गम , दर्द और जुदाई

चंद शेयर – गम , दर्द और जुदाई

कर्ज़दार की तरह समझा लो तुम अपनी यादों को जरा वक़्त बेवक़्त हमे तंग करती है, कर्ज़दार की तरह   अपनी ही यादें लूट लेती है हमे अपनी ही यादें वरना गैरों को क्या पता, इस दिल की दीवार कमजोर कहाँ से है   दिल टूटा तो एक आवाज आई दिल टूटा तो एक आवाज आई चिर के देखा तो एक चीज़ नजर आई सोचा क्या होगा इस खाली दिल में लहू से धो कर देखा तो तेरी तस्वीर नज़र आई   इक निशानी है हम रख सको तो इक निशानी है हम भूल जाओ तो इक कहानी है हम ख़ुशी की धुप हो या ग़म के बादल दोनों में जो बरसे वो पानी है हम   टूट चुके है एक मुद्दत से टूट चुके है मेरे खुदा उसने चाहा था की उसे टूट के चाहा जाये

Continue Reading