shayarisms4lovers June18 292 - ख्वाब टूटें या बिक जाएँ – ग़मगीन शायरी

ख्वाब टूटें या बिक जाएँ – ग़मगीन शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मेरे दिल में

घर बना कर वो मेरे दिल में छोड़ गया है
न खुद रहता है न किसी और को बसने देता है

Mere Dil Mein

Ghar bana kar wo mere dil mein chod gaya hai
Na khud rehta hai na kisi aur ko basne deta hai


ज़रा ठहर जाओ

थकी थकी सी फ़िज़ाएं , बुझे बुझे से तारे
बड़ी उदास गहरी रातें है , ज़रा ठहर जाओ

Zara Tehar Jao

Thaki thaki si fizaayen, bujhey bujhey se taare
Badi udaas gehri ratein hai, zara tehar jao


दस्तक की तमन्ना

उजड़े हुए घर का मैं वो दरवाज़ा हूँ “मोहसिन”
दीमक की तरह खा गयी जिसे तेरी दस्तक की तमन्ना

Dastak ki Tamanna

Ujde hue ghar ka main wo darwaaza hoon “Mohsin”
Deemak ki tarah kha gayi jise teri dastak ki tamanna


वो कितना मेहरबान था

वो कितना मेहरबान था के हज़ारों ग़म दे गया “मोहसिन”
हम कितने खुदगर्ज निकले कुछ न दे सके “मुहब्बत ” के सिवा

Wo Kitna Mehrban Tha

Wo Kitna Mehrban Tha Ke Hazaron Ghum De Gaya “Mohsin”
Hum Kitne Khudgaraz Nikle Kuch Na De Sake “MUHABBAT” Ke siva


बहलाया था दिल

मौजूद थी उदासी अभी पिछली रात की
बहलाया था दिल ज़रा सा के फिर रात हो गयी

Behlaya Tha Dil

Mojood thi udaasi abhi pichli raat ki
behlaya tha dil zara sa ke phir raat ho gayi


यकीन दिल दो

तुम मेरे हो इस बात में कोई शक नहीं
तुम किसी और के नहीं होंगे इस बात का यकीन दिल दो

Yakeen Dila Do

Tum Mere Ho Is Baat Me Koi Shak Nahi
Tum kisi Aur Ke Nahi Hoge is Baat Ka Yakeen Dila Do


पैग़ाम -ऐ -शौक

पैग़ाम -ऐ -शौक को इतना तवील मत करना ऐ “क़ासिद”
बस मुकतसर उन से कहना के आँखें तरस गयी हैं

Paigham-ae-Sauk

Paigham-ae-Sauk Ko Itna Taveel Mat Karna Ae “Qasid”
Bas Muqtasar Un Se Kehna Ke Aankhein Taras Gayi Hain


फितरत -ऐ -इंसान

गुफ़्तुगू कीजिये के यह फितरत -ऐ -इंसान है “शाकेब”
जाले लग जाते हैं जब बंद मकान होता है

Fitrat-ae-Insan

Guftugu kijiye ke yeh fitrat-ae-insan hai “Shakeb”
Jaalay lag jatay hain jab band makaan hota hai

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 227 - हमारी उल्फ़त का यूँ न लो इम्तिहान की दुनिया हँसे हम पे

हमारी उल्फ़त का यूँ न लो इम्तिहान की दुनिया हँसे हम पे

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

इश्क़ का मुक़दमा

हमने किया है दाखिल इश्क़ का मुक़दमा तेरे हुस्न के दरबार में
अब हर रोज़ आते है यह फ़रियाद लिए की कोई आवाज़ तो देगा
हमारी उल्फ़त का यूँ  न लो इम्तिहान की दुनिया हँसे हम पे
एक दिन तो तुम्हे होना है मेरा यह यक़ीन है मुझे मेरे इश्क़ पर

Ishq ka muqadma

Humne kiya hai dakhil ishq ka muqadma tere husn ke darbar mein
Ab har roz ate hai yeh fariyaad liye ki koi awaaz to dega
Hamari ulfat ka yoon na lo imtihaan ki duniya hase hum pe
Ek din to tumhe hona hai mera yeah yakin hai mujhe mere ishq par…


यह रंज -ओ -गम क्यों

न थी ख्वाइश हिजर की न माँगी खुदाई फिर यह रंज क्यों
है इश्क़ बदनाम तो फिर यह तालुक क्यों यह जुस्तजू क्यों
जब इश्क़ नाम है जुदाई है तो यह रंज -ओ -गम क्यों .

Yeh ranj-o-gam kyon

Na thi khwaish hijar ki na mangi khudai phir yeah ranj kyon
Hai ishq badaam to phir yeh taluq kyon yeah justaju kyon
Jab ishq naam hai judai hai to yeh ranj-o-gam kyon…


बरसों तन्हाँ तेरे इश्क़ में

बरसों तन्हाँ तेरे इश्क़ में हर पल का हिसाब रखा है
मांगेंगे हर उस पल का हिसाब जो हिजर में हमने काटा है

Barsoon tanhaa tere ishq mein

Barsoon tanhaa tere ishq mein har pal ka hisab rakha hai
mangein har us pal ka hisab jo hijar mein humne kata hai…


दिल था एक शोला

दिल था एक शोला , मगर बीत गए दिन वो “ग़ालिब” ,
अब कुरेदो न इसे , राख में क्या रखा है …

Dil thaa ek shola

Dil thaa ek shola, magar beet gaye din woh “Galib” ,
Aab kuredo na ise, raakh mein kya rakha hai……

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 198 - एक दिल ही था वो भी उस के पास था

एक दिल ही था वो भी उस के पास था

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

साक़ी

तेरी शराब कुछ भी नहीं उस की आँखों के सामने “साक़ी “
वो जो देख ले एक नज़र तो पीने की हसरत नहीं रहती

SAQI

Teri Sharab Kuch Bhi Nahi Us Ki Ankhon Ke Samne “SaQi”
Wo Jo Dekh Le Ek Nazar To Peene ki Hasrat Nahi Rehti…


मदहोशी

नज़रों से क्यों इतना पिला देती हो
महखाने की राह भूल गए हैं
गुनाह हो जाये न मदहोशी में
इसी खातिर हरदम दूर बैठे हैं

Madhoshi

Nazaron se kyun itana pila deti ho
Meihkhane ki raah bhool gaye hain
Gunaha ho jaye na madhoshi mein
Isi khatir hardam door baithe hain…


कतरे कतरे से वफ़ा

बेवफा कहने से पहले मेरी रग रग का खून निचोड लेना
कतरे कतरे से वफ़ा न मिली तो बेशक मुझे छोड़ देना

Katre Katre Se Wafa

Bewafa Kehne Se Pehle Meri Rag Rag Ka Khoön nichod Lena
Katre Katre Se Wafa Na Mili To Beshak Mujhe Chod Dena…


तेरी चाहत

पास तुम होते तो कोई शरारत करते
तुझे ले कर बाँहों में मोहब्बत करते

देखते तेरी आँखों में नींद का खुमार
अपनी खोई हुई नींदों की शिकायत करते

तेरी आँखों में अपना अक्स ढूँढ़ते
खुद से भी ज़यादा तेरी चाहत करते

एक दिल ही था वो भी उस के पास था
रात भर जाग कर किस की हिफाज़त करते

Teri Chahat

paas tum Hote To Koi Shararat Karte
Tujhe Le Kar Bahon Mein Mohabbat Karte

Dekhte Teri Ankhon Mein Neend Ka Khumar
Apni Khoyi Hui Neendon ki Shikayat Karte

Teri Aankhon Mein Apna aks Dhoondte
Khud Se Bhi Zayada Teri Chahat Karte

Ek Dil Hi Tha Wo Bhi Us Ke Paas Tha
Raat Bhar Jaag Kar Kis Ki Hifazat Karte…

Continue Reading