Sanjay Mishra - Sanjay Mishra Biography in Hindi | संजय मिश्रा जीवन परिचय | Success Story

Sanjay Mishra Biography in Hindi | संजय मिश्रा जीवन परिचय | Success Story

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

नमस्कार दोस्तों “shayarisms4lovers.in” में आपका स्वागत है |

दोस्तों आज हम बात करने जा रहे है हिंदी फिल्म जगत के एक ऐसे कलाकार के बारे में जो हमें अपनी एक्टिंग से रुला सकते हैं, हंसा सकते हैं, और डरा भी सकते हैं आज उन्हें लगभग इंडिया का बच्चा बच्चा जनता है उस मंझे हुए कलाकार का नाम है “संजय मिश्रा” जिन्होंने कई फ़िल्मों तथा टेलीविज़न धारावाहिकों में अभिनय से अमिट छाप छोड़ी है।

“कड़ी से कड़ी जोङते जाओ तो जंजीर बन जाती है॥
मेहनत पे मेहनत करो तो तक़दीर बन जाती है।“

संजय का जन्म 6 अक्टूबर 1963 को दरभंगा, बिहार में एक हिन्दू परिवार में हुआ था। इनके पिता शम्भुनाथ मिश्रा जो कि एक पत्रकार थे। संजय को बचपन से ही एक्टिंग में बहुत ज्यादा रूचि थी | संजय ने अपनी हाई स्कूल की पड़े पटना के ही एक स्कूल से की और उसके बाद इन्होंने बैचलर की डिग्री पूरी कर राष्ट्रीय ड्रामा स्कूल में प्रवेश किया और सन 1989 में स्नातक हो गए।

“National School of Drama” में अपनी एक्टिंग पूरी कर अपना भाग अजमाने के लिए बॉलीवुड में कदम रखा और शुरुवाती दिन में संजय मिश्रा जी को बहुत ही मुस्किलो का सामना करना पड़ा, संजय मिश्रा ने पहला अभिनय जो कि एक टेलीविज़न धारावाहिक चाणक्य (धारावाहिक)” में किया था, इससे पहले इन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ भी कार्य करने का मौका मिला था। शुरुवात में संजय फिल्मो में छोटे मोटे रोले के साथ 2 “Commercial Ads” में भी काम किया करते थे |

Sanjay Mishra ने बॉलीवुड में अपने कैरियर की शुरुवात 1995 में फिल्म “ओह डार्लिंग ये है इंडिया” से की थी,| जिसमें उन्होंने हारमोनियम बजाने वाले की एक छोटी सी भूमिका अदा की थी, इस फिल्म में Sanjay mishra के एक्टिंग की बहुत तारीफ की गई, साथ ही सत्या और दिल से जैसी फ़िल्मों भी में काम किया।

ऑफिस ऑफिस”नाम के सीरियल में उनके द्वारा निभाए गए शुक्ला जी के किरदार से उन्हें काफी पहचान मिली। 2005 में धारावाहिक छोड़ने के बाद उन्होंने “बंटी और बबली” और “अपना सपना मनी मनी” फ़िल्मों में अपनी भूमिका निभाई|

उनके जीवन की सबसे दुर्भाग की बात तो ये थी की उन्होंने १०० से ज्यादा फिल्मो में अभिनय करने के बावजूद उन्हें कोई पहचान नहीं मिल पाई, उन्हें अपने पिता जी से बहुत लगाव था, इसलिए जब उनके पिता का देहांत हुआ तब …

Continue Reading