shayarisms4lovers June18 74 - ख्याल-ऐ -इश्क़ शायरी

ख्याल-ऐ -इश्क़ शायरी

यह नादान दिल यह दिल न जाने क्या कर बैठा मुझ से बिना पूछे यह फैसला कर बैठा इस ज़मीन पर कभी टूटा तारा भी नहीं गिरा यह नादान चाँद से दिल लगा बैठा Yeh Naadan Dil Yeh dil na jane kya kar betha Mujh se bina puche yeh fesla kar betha Is zaamen par […]

Continue Reading