shayarisms4lovers June18 291 - काश ! के  होते  वो  मेरे

काश ! के  होते  वो  मेरे

काश ! के  होते  वो  मेरे उनकी  आगोश  में  गुजरती  शामें उनकी  बाँहों  में  होते  मेरे  सवेरे       न  रहती  बाकि  कोई  आरज़ू , न कोई हसरत       न  होते  जीवन  में  अँधेरे न  जाने  क्यों  मेरी  राहों  में किस्मत  ने  कांटे  बिखेरे       है  दिल  का  बगीचा  वीरान       वो  फूल  न  आ  सका  […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 131 - मैं हूँ इक ख्वाब मगर जागती आँखों का – Ameer Qazalbash Shayari

मैं हूँ इक ख्वाब मगर जागती आँखों का – Ameer Qazalbash Shayari

आरज़ू-ऐ-साहिल उनकी बेरुखी में भी इल्तेफ़ात शामिल है आज कल मेरी हालत देखने के काबिल है क़त्ल हो तो मेरा सा मौत हो तो मेरी सी मेरे सोगवारों में आज मेरा क़ातिल है मुजतरीब हैं मौजें क्यों उठ रही हैं तूफ़ान क्यों क्या किसी सफ़ीने को आरज़ू-ऐ-साहिल है सिर्फ राहजन ही से क्यों “अमीर ” […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 71 - यह इश्क़ वाले हैं जो हर चीज़ लूटा देते हैं – ग़ालिब

यह इश्क़ वाले हैं जो हर चीज़ लूटा देते हैं – ग़ालिब

यह इश्क़ वाले अक़्ल वालों के मुक़द्दर में यह जूनून कहाँ ग़ालिब यह इश्क़ वाले हैं जो हर चीज़ लूटा देते हैं …. Yeh Ishq Wale Aqal Walon ke Muqaddar mein Yeh Junoon Kahan Ghalib, Yeh Ishq Wale hain Jo Har cheez Luta Deta Hain….. ज़ाहिर है तेरा हाल ग़ालिब न कर हुज़ूर में तू […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 60 - फ़राज़ और मोहसिन नक़वी की खूबसूरत उर्दू शायरी

फ़राज़ और मोहसिन नक़वी की खूबसूरत उर्दू शायरी

तन्हाई और महफ़िल – फ़राज़ तन्हाई में जो चूमता है मेरे नाम के हरूफ फ़राज़ महफ़िल में  वो शख्स मेरी तरफ देखता भी नहीं ​ Tanhai Aur Mehfil – Faraz Tanhai main jo chomta hai mere naam ke haroof  “Faraz” Mehfil mein wo shakhas meri taraf dekhta bhi nahi​ जिंदगी और मौत – फ़राज़ कोई […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 41 - तेरे वादे पर सितमगर – Daag Dehlvi

तेरे वादे पर सितमगर – Daag Dehlvi

तेरे वादे पर सितमगर अभी और सब्र करते अजब अपना हाल होता जो विसाल-ऐ-यार होता कभी जान सदके होती कभी दिल निसार होता न मज़ा है दुश्मनी में न है लुत्फ़ दोस्ती में कोई गैर गैर होता कोई यार यार होता यह मज़ा था दिल्लगी का के बराबर आग लगती न तुम्हें क़रार होता न […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 16 - खुदा तो मिलता है , इंसान ही नहीं मिलता

खुदा तो मिलता है , इंसान ही नहीं मिलता

खुदा तो मिलता है , इंसान ही नहीं मिलता , यह चीज़ वो है जो देखी कहीं कहीं मैंने .. Khudaa to milta hai, Insaan hi nahi milta, Yeh cheez woh hai jo dekhi kahin kahin meine… जिन के आँगन में अमीरी का शजर लगता है , उन का हर ऐब भी ज़माने को हुनर […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 210 - सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है – फ़राज़ की शायरी

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है – फ़राज़ की शायरी

सुना है लोग उसे – फ़राज़ अहमद सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है तो उसके शहर में कुछ दिन ठहर के देखते है सुना है राफत है उसे खराब हालो से तो अपने आप को बर्बाद कर के देखते है सुना है दर्द की गाहक है चस्मे नाज़ उसकी तो हम भी […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 163 - हमारे दिल ने अगर हौसले किये होते – Noshi Gilani ki Shayari

हमारे दिल ने अगर हौसले किये होते – Noshi Gilani ki Shayari

मेरी सांसें यह नामुमकिन नहीं रहेगा , मुक़ाम मुमकिन नहीं रहेगा ग़रूर लहजे में आ गया तो कलाम मुमकिन नहीं रहेगा तुम अपनी साँसों से मेरी सांसें अलग तो करने लगे हो लेकिन जो काम आसान समझ रहे हो वो काम मुमकिन नहीं रहेगा Meri Saansain Yeh Nammumkin Nahi rahega, Muqaam Mumkin Nahi rahega Gharoor […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 205 - काश ! के वो मेरा होता , मेरे नाम की तरहँ – परवीन शाकिर

काश ! के वो मेरा होता , मेरे नाम की तरहँ – परवीन शाकिर

मेरे नाम की तरहँ  यह मेरी ज़ात की सब से बड़ी तमन्ना थी , काश ! के वो मेरा होता , मेरे नाम की तरहँ Mere Naam Ki Tarhan Yeh Meri Zaat Ki Sab Se Bari Tamanna Thi Kaash! Ke Woh Mera Hota, Mere Naam Ki Tarhan दर्द क्या होता है बताएँगे किसी रोज़ दर्द […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 29 - चले भी आओ दुनिया से जा रहा है कोई – फ़राज़ की शायरी

चले भी आओ दुनिया से जा रहा है कोई – फ़राज़ की शायरी

चले भी आओ दुनिया से जा रहा है कोई – फ़राज़  ग़म -ऐ- हयात का झगड़ा मिटा रहा है कोई चले भी आओ दुनिया से जा रहा है कोई अज़ल से कह दो रुक जाए  दो घड़ी सुना है आने का वादा निभा रहा है कोई वो इस नाज़ से बैठे हैं लाश के पास जैसे […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 32 - हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी – अल्लम इक़बाल शायरी

हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी – अल्लम इक़बाल शायरी

बड़ा बे-अदब हूँ तेरे इश्क़ की इन्तहा चाहता हूँ मेरी सादगी देख क्या चाहता हूँ भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी बड़ा बे-अदब हूँ , सज़ा चाहता हूँ Bada be-Adab Hoon Tairay ishq kii intehaa chahataa hoon mairi saadagii daikh kyaa chahataa hoon bharii bazm mein raaz ki baat kah di bada bai-adab […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 176 - Ahmad Faraz Shayari – Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The

Ahmad Faraz Shayari – Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The

अकेले तो हम पहले भी जी रहे थे “फराज़” क्यों तन्हा हो गए तेरे जाने के बाद प्यार में एक ही मौसम है बहारों का  “फ़राज़” लोग कैसे मौसमो की तरह बदल जाते है वहां से एक पानी की बूँद न निकल सकी तमाम उम्र जिन आँखों को हम झील देखते रहे जिसे भी चाहा है […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 205 - शब-ऐ-इंतज़ार – Mirza Galib,Ahmed Faraz,Mohsin Naqvi,Raaz Sarwer Shayari

शब-ऐ-इंतज़ार – Mirza Galib,Ahmed Faraz,Mohsin Naqvi,Raaz Sarwer Shayari

मेरी वेहशत इश्क़ मुझको नहीं वेहशत ही सही मेरी वेहशत तेरी शोहरत ही सही कटा कीजिए न तालुक हम से कुछ नहीं है तो अदावत ही सही Meri Wehshat Ishq mujhko nahin wehshat hi sahi Meri wehshat teri shohrat hi sahi kta kijiay na taaluq hum se kuch nahin hai to adaawat he sahi… शब-ऐ-इंतज़ार […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 05 - अगर न बदलू तेरी खातिर हर एक चीज़ तो कहना – आलम इक़बाल की शायरी

अगर न बदलू तेरी खातिर हर एक चीज़ तो कहना – आलम इक़बाल की शायरी

अगर न बदलू तेरी खातिर हर एक चीज़ तो कहना मुहब्बत की तमना है तो फिर वो वस्फ पैदा कर जहां से इश्क़ चलता है वहां तक नाम पैदा कर अगर सचा है इश्क़ में तू ऐ बानी आदम निग़ाह -ऐ -इश्क़ पैदा कर मैं तुझ को तुझसे ज़्यादा चाहूँगा मगर शर्त ये है के […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 202 - Best Ever Shayari Colletion of Munir Niazi – मुनीर नियाज़ी शायरी मजमूआ

Best Ever Shayari Colletion of Munir Niazi – मुनीर नियाज़ी शायरी मजमूआ

उसके जाने का रंज मेरी सदा हवा में बहुत दूर तक गयी पर मैं बुला रहा था जिसे , वो बेखबर रहा उसकी आखिरी नज़र में अजब दर्द था “मुनीर” उसके जाने का रंज मुझे उम्र भर रहा Uske Jaane Ka Ranj Meri Sada Hawa Mein Bohat Door Tak Gayi Par Main Bula Raha Tha […]

Continue Reading