shayarisms4lovers June18 291 - काश ! के  होते  वो  मेरे

काश ! के  होते  वो  मेरे

काश ! के  होते  वो  मेरे उनकी  आगोश  में  गुजरती  शामें उनकी  बाँहों  में  होते  मेरे  सवेरे       न  रहती  बाकि  कोई  आरज़ू , न कोई हसरत       न  होते  जीवन  में  अँधेरे न  जाने  क्यों  मेरी  राहों  में किस्मत  ने  कांटे  बिखेरे       है  दिल  का  बगीचा  वीरान       वो  फूल  न  आ  सका  […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 140 - ज़िन्दगी की किताब उर्दू शायरी – मुनीर नियाज़ी

ज़िन्दगी की किताब उर्दू शायरी – मुनीर नियाज़ी

ज़िन्दगी की किताब यह जो ज़िन्दगी की किताब है यह किताब भी क्या किताब है कहीं एक हसीं सा ख्वाब है कहीं जान लेवा अज़ाब है मुनीर नियाज़ी – ज़िन्दगी की किताब उर्दू शायरी – यह जो ज़िन्दगी की किताब है Zindgi ki Kitab Yeh jo Zindgi ki kitab hai Yeh kitab bhi kya kitab […]

Continue Reading