shayarisms4lovers mar18 36 - Hindi kahani with moral values prernadayak

Hindi kahani with moral values prernadayak

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Hello readers , welcome to onlinehindistory.com once again. Today we are here with fresh 3 new hindi kahani with morals for you people. So read and them and don’t forget to tell us your views in comment section.

1. एक शहीद का परिवार Emotional Hindi kahani

जीवन और मरण यही तो सच्चाई है दुनिया का. कुछ नहीं कर पाते इस जीवन का. हलचल भरा यह जीवन एकदम शांत हो जाता है. यह ना तो किसी को आने की खबर देती है न समझने का मौका. न आगे का भविष्य देखता है और ना पीछे छूटे परिवार. रोते-बिलखते बूढ़े माँ-बाप, चूड़ियाँ तोड़ती जवान बीवी और वह बच्चा जिसको अपने पापा का नाम भी नहीं पता.

जो बड़ा होकर केवल दिवाल पर लगी तस्वीर देख पायेगा.

एक चहकती हुई जिन्दगी 2 पल में एक सुनसान रेगिस्तान बन गया. जिसपर कितना ही बरसात हो जाये सुखा ही रहेगा. ना तो सावन उस पर मरहम लगा पायेगा और ना ही दो पल के लिए आने वाले मुसाफिर.

True story – शहीद के माता-पिता का हाल

बूढी हो चुकी माँ, दरवाजे पर निगाहे गड़ाये बैठी है, आखें देख नहीं पा रही है, दिल मान नहीं रहा है, इसी रास्ते तो आता है वह. जरुर आएगा. ऐसे कैसे चला जाएगा अपनी माँ को छोड़ कर. यही तो आता था. माँ-माँ कह कर गले से चिपक जाता था. तो अब क्यों नहीं आ रहा. कहाँ है मेरा बच्चा. माँ हूँ न मैं पहले मेरे पास ही आएगा. आँखों से टपकती धारा कलेजे को पिस रहा है. कौन समझता उस बूढी मा को अब कभी नहीं आएगा वो.

आंसू को अंदर ही पिने वाला बाप का सीना फटा जा रहा है.

हिलते डंडे का सहारे चलते बाप. अपने बुढ़ापे की लाठी खो दी. जिसके कंधे पर जाने की आस थी उसे कन्धा देना पड़ा. कहाँ है वो जो बोलता था मैं हूँ पापा आपके का सहारा. जो मेरा सीना था, जो मेरा हिम्मत था, ताकत था सब ले गया. क्या करू इस शारीर का. ना घर में रो सकता और ना बाहर रह सकता. कभी घर में आते है कभी बाहर जाते है. क्या ढूंड रहे वह पता नहीं. लडखडाती लाठी और लडखडाते पैर शरीर जर्जर.

चलने की हिम्मत नहीं रह गई.

पागल हुई पत्नी

तस्वीर को निहारती पत्नी. एक जिन्दा लाश है. सारे सपने, सपने हो गये. ना वर्तमान का पता, ना भविष्य का. अँधेरा ही अँधेरा हो गया. कितने सपने देखे थे साथ में. अपने साथ …

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 79 - Uske wade kamjor nikle– Rajan meena

Uske wade kamjor nikle– Rajan meena

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Mera name rajan ha me dholpur bari ka rahne wala hu.mene abi 10 class ke exam diye ha .aaj me pahle baar apni love story apko batane ja raha hu .ye us time ki baat ha jab me pahle baar apne pyaar se mila uska name sajiya ha .or wo ak mushlman ha .or me ak hindu mene usse uski sundarta se pyaar nahi kiya .balki uski achai ko dekh kar usse pyaar kiya .uski ye achi aadat thi ki wo dusro ki help kiya karti thi .bale hi wo dost ho ya nahi .sab ki help karti thi .muje uski yahi aadat achi lagi .ham tushan par sath reading karte the .deere deere me usse pyaar karne laga .ak din mene usse i love you .kah diya .wo janti thi ki me use love karta hu .usne mujse i…l…y..2 kaha .fir kya me bari uske liye tushan jaldi jaya karta tha .wo bhi jaldi aa jaya karti thi .ham do no pass _ pass bedte .wo muje love letter diya karti thi me .me bhi uska reply kiya karta tha love letter de kar .me uske piche piche jaya karta tha .wo mujse kuch nahi kahti thi .kyu ki wo mujse pyaar kati thi .deere deere exam paas aa gai par mene exam ki teyari kar rakhi thi usne bhi kar rakhi thi .ham do no ke exam katam hue or fir ham do no fir se milne ka promise kiya .or marriage karne ka bhi .aaj bhi ham do no ak dusre bahut pyaar karte ha .. I love you sajiya ………..

Mere friends .apse ak request ha ki mere is love story ko ascribe karna na bule …ese … F.b,tweets,youtube par sear kar .plzzz friends.

Hy friends mera name rajan ha .me bari(dholpur) ka rahne wala hu … aj fir me apke samne apni kuch din pahle ki baate ( story) apko sunana chahta hu… par usse pahle meri pahle wali story pad lijiye ..kyuki ki ye us ladki ke bare me ha jiska zikar me apse pahle es story me kar chuka hu …
So friends start karte ha ye us 15/7/19 ki baat ha me uske bhai se kuch ke bahane se uske gar pahucha …kyuki wo ab padai nahi kar rahi thi … kyuki wo 10th class me 2 baar fail ho chuki thi ….

esliye uske gar walo ne uuse padane se enkar …

Continue Reading

Ye pyar nahi to Kya hai 2 – Raj

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Hi I am Raj ye Mera new story hai aasa katha hu apne Meri paheli  3 story padhi hogi.
Ye Meri ek friend ki story hai jiska naam varun hai  name changed) 2010 ki bat hai jab hamare ghar shifting chal raha tha hum ek new ghar me the. Acha lagta  tha wana pe. Ek din kuch aisa huya mene sojcha bhi nahi tha ki aisa hoga.Subha mene ek ladki ko dekha bahut cute thi.

Mujhe wo bahot achi lagi. Mujhe baad me ye pata chala ki wo meri choti  behen  ki best friend hai. Humara ghar paas me hi tha. Wo hamesa padhane hamare ghar aaya karti thi. Mujhe use dekhane me or uske saath khelne  me maja aata tha. Kuch din baad mene use apne dil ki bat bata di. But usne bola uska pehle se ek bf hai. Mujhe acha nahi laga aur mai gum sum sa rehene lag gaya.

Meri behen ko jab ye pata chala to ho usa apni friend se pucha to usne sab bataya . Meri sister ne mujhe bahut samjhaya. 2 mahine bad sab pahele ki tarha ho gaya wo ladki padhne aati mai uske saath thoda flirt karta maja aata tha life aise hi ja rahi thi. Fir mere 12th me marks ache aaye to college me admission le liya aur ab college ke pas ham ek new ghar me shift ho gaye. us time mere paas phone nahi tha. Uske paas papa ka no. tha hamari  kabhi kabhi baat hoti thi. Kuch dino baad hum aise busy huye ki baat karne ka time na milta tha. us ladki ko ye sab acha nahi laga or tab use pata chala ki itane dino humare beech me jo tha ho pyar tha. Hum dono  miss kart the ek dusare ko.

Kuch din baad hum dono ne phone liya or raat raat baat karte or din ko padhai me lag jate pata nahi ye kab tak chalega ye hume nahi pata hamare pariwar wale manege ya nahi kyuki hum dono alag relation se hai god kare ki hum ek ho Jaye thanks.…

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 260 - Miss kalu plz waps aa ja – Navin NP

Miss kalu plz waps aa ja – Navin NP

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Ak ladka ta o ak ladki sa bhut pyr krta ta or ldki bhi usa bhut pyr krti ti ldki hostal m padai krti ti is liya Sunday ko hi cl m bt hoti ti pr fir pta nhi kya hua ldki us ladka ko ignor krna lgi ti o usa tym hota hua bhi cl m bt nhi krti ti us ladka na kbhi socha bhi nhi ta ki kabhi asa bhi hoga krk pr pta nhi ldki na asa q kiya fir ak din ladki na bol diya ki usa ab relatiosnp m nhi rhna h krk or us ladka na bhi  jyda kuch nhi bola q ki uska liya us ladki ki kushi sa badkar kuch nhi ta pr o ldka har raat ko us ldki k liya bhut rota ta pr us ldki ko koi ahsas nhi ki o ldka us ladki sa kitna pyr krta ta or hmasa usa hi pyr krga o ldka or ladkiya sa bhi bt krta ta pr o us ldki ko jaan sa jyda pyr krta ta usk liya o apni job chor k ghr aa gya.

Par usna usa btya nhi kuch o nhi chta ta ki usa ya ahsas ho q ki o usa khona nhi chta ta kabhi bhi uska phone bajta to o sochta ta ki us ldki ka phone ho is wjha sa apna number kbhi band nhi krta ta q ki o uksa cl kabhi miss nhi krna chta ta pta nhi asa q kiya us ladki na pr o hmsa us ladki ka intzar krga kabhis to usko ahsas hoga ki usna kya khoya krk bgawn plz usa uski kalu luta dana.…

Continue Reading

Fairy Tales in Hindi | कानपूर के दामाद

Fairy Tales in Hindi | कानपूर के दामाद

Untitled 1 copy - Fairy Tales in Hindi | कानपूर के दामाद

साल 1986 की बात है…

शादी के बाद, पहली बार हम अपनी श्रीमती जी को लिवाने “कानपुर धाम” पहुंचे…सूरत से ट्रेन के तीस घण्टे के लंबे सफर के बाद| ट्रेन कानपुर स्टेशन पर रुकते ही एक “कुली महाशय” हमारी सीट पर आकर बोले “पाय लागूं जीजाजी”…

इससे पहले कि हम समझ पाएं कि ये “लाल ड्रेस” वाले “साले साहब” हमारी शादी में क्यूँ नहीं दिखे, इतने में एक और नए “साले साहब” प्लेटफार्म पर उतरते ही चाय लेकर हाज़िर…

असल में हमारे “ओरिजिनल साले साहब” ने कुली से लेकर स्टॉल वाले को हमारे चेहरे मोहरे ,केबिन और सीट नंबर के साथ एक्स्ट्रा टिप दे के रक्खी थी कि “हमार जीजा आय रहे हैं , जरा ध्यान रखना समझे ???

इतने में हमारे “ओरिजिनल” साले साहब बाहें फैलाये चार पांच चेलों चपाटों के साथ प्रकट हुए , मुँह में पान मसाला दबाए लपके …”पाय लागे जीजाजी” कहते हुए की चारों तरफ “फ़िज़ा” में पान मसाले ,गुटके और केसरी तंबाकू की गंध भरी साँसें छा गईं …

स्टेशन से बाहर पैर रखते ही ड्राइवर लखन की “पिचकारी” और “पाय लागूं जीजाजी” से स्वागत हुआ…अब इतना सब होते-होते हमें अपनी उम्र पर शक़ होने लगा कि हम 26 के हैं या 62 के….

मगर ये तो अभी शुरुआत थी…

जॉइंट फैमिली भी माशाअल्लाह “डायनोसोर” जैसी ”जायंट” थी| घर पहुंचते ही दादी सास, सालियाँ ,भाभियाँ ,बुआ, मौसियाँ, बुज़ुर्ग महिलाएं, हर साइज़ के बच्चे बच्चियाँ और हमार सासु माँ दरवाज़े पर हाथ में आरती की थाली लिए स्वागत के लिए तैयार..

माथे पर एक भारी भरकम तिलक पर इतना केसर और चावल चिपकाय दिए गए कि ससुरी “टुंडे” की एक प्लेट “केसरी बिरयानी” बन जाये|

आख़िर बड़ी मुश्किल से सोफे पर बइठे ही थे कि ससुर जी आय गए …”हम फिर पाय लगे”…ससुराल का परिवार इतना बड़ा कि सदस्य “हनुमान जी की पूँछ” की तरह खत्म होने का नाम ही न लें…

पाँय लगने और लगवाने में ही हमार कमर दर्द करने लगी…अब इतने से भी मन न भरा तो हमारी पत्नी की कज़िन ने अपने नवजात शिशु को हमारे हाथों में थमाय दिया …

अले ले ले ले…जीजू आये जी…जू

लेकिन उस “समझदार” शिशु ने “नवजात” जीजू के रुतबे से प्रभावित होने से इनकार कर दिया और गोद में आते ही ज़ोर ज़ोर से प्रलाप करने लगा … इसलिए जल्दी मुक्ति मिल गई|

आखिर तीस घण्टे की यात्रा की थकान से त्रस्त हमने दूर खड़ी पत्नी …

Continue Reading

Hindi Story | भगवान का सत्कार

Hindi Story | भगवान का सत्कार

Hindi Story - Hindi Story | भगवान का सत्कार

एक गाँव में दामोदर नाम के एक गरीब ब्राह्मण रहा करते थे! ब्राह्मण को लोभ और लालच बिलकुल भी न था! वे दिन भर गाँव में भिक्षा व्रती करते और जो भी रुखा सुखा मिल जाता उसे भगवन का प्रशाद समझ कर ग्रहण कर लेते|

तय समय पर भ्रम्हं का विवाह संपन्न हुआ| विवाह के उपरांत ब्राह्मण ने अपनी स्त्री से कहा की देखो अब हम गृहस्थ जीवन में प्रवेश कर रहें हैं, गृहस्थ जीवन का सबसे पहला नियम होता है अतिथि सत्कार करना, गुरु आगया का पालन करना और भजन कीर्तन करना|

में चाहे घर में रहूँ न रहूँ लेकिन घर में अगर कोई अतिथि आए तो उनका बड़े अच्छे से अतिथि सत्कार करना| चाहे हम भूखे रह जाएँ लेकिन हमारे घर से कोई भी भूखा जाने न पाएं!

ब्राह्मण की बात सुनकर ब्राह्मणी ने मुस्कुराकर कहा अच्छी बात है| में इस सब बातों का ध्यान रखूंगी, आप निश्चिन्त रहें और भजन कीर्तन कर प्रभु भक्ति में ध्यान लगाए!

ब्राम्हण और ब्राह्मणी सुखी सुखी अपना जीवन यापन करने लगे! ब्राम्हण रोज सुबह अपने घर से भिक्षा व्रती के लिए आसपास के गाँव में जाते और जो कुछ भी मिलता उसे प्रभु इच्छा मानकर ग्रहण करते!

ब्राम्हण के घर की स्थिथि बहुत ही सामान्य थी| कभी-कभी तो दोनों पति पत्नी को भूखा ही सोना पड़ता! लेकिन फिर भी दोनों पति पत्नी सुखी सुखी अपना जीवन यापन कर रहे थे| मन में कोई भी द्वेष और लालच न था|

भगवान् बड़े लीलाधर हैं! वे देवलोक में बेठे-बेठे सब कुछ देखते हैं| उनकी लीला बड़ी विचित्र है| वे समय-समय पर अपने भक्तों के दुःख हरने किसी न किसी भेष में आते रहते हैं| वे हमेशा अपने भक्तों की परीक्षा लेते हैं|

एक दिन ब्राम्हण की भक्ति और त्याग से प्रसन्न होकर भगवान् ब्राम्हण के घर साधू का वेश धारण कर ब्राम्हण की परीक्षा लेने पहुंचे| भगवान ब्राम्हण के घर के बाहर बने चबूतरे पर बैठे और भिक्षा के लिए आवाज लगाईं|

ब्राम्हण ने जब साधू महात्मा की आवाज सुनी तो वह बाहर आया| ब्राम्हण को देख साधू महात्मा मुस्कुराए और बोले, “पुत्र आज इस रास्ते पर जाते-जाते मन किया की आज तुम्हारे घर भोजन करूँ”

ब्राम्हण ने प्रसन्नता पूर्वक साधू महात्मा को नमन किया और बोला, “महाराज ! बड़ी अच्छी और प्रसन्नता की बात है की आज आप हमारे घर भोजन करने के लिए पधारे हैं| आइये भीतर चलिए…

इतना कहकर ब्राम्हण साधू महात्मा को घर …

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 230 - AB tere Pyaar me Wo baat na Rahi – Rajan meena

AB tere Pyaar me Wo baat na Rahi – Rajan meena

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Hy…dosto mera name rajan ha..or me bari (dholpur) se hu…aj me apse apne feeling share kar raha hu… ye us wakat ki baat ha jab me 11th class me tha …me ak ladki se pyaar karta tha… pta nahi ki us wakat hame usse really wala love tha ki nahi … wo mujse baat nahi karti thi … sorry me uska name to batana bhul hi gya .. uska name Neha kusawa tha….. wo din bhi aa gya jab 26 January thi ….. ham school gye uski ak khash ak friend ko nambar dekar kaha …ki usse kah dena ki mujse es nambar par baar kar le …hamne apna nambar de diya …saam ko uski friend ne cell kiya tha ….

jo mere pass save nahi tha….usse baate karke ye pata chal ki wo neha ki friend (jisse me baat kar raha ha) wo mujse bahut pyaar karti ha … hame hamesa lagta tha …ki ladka agar ladki ko pyaar karta ha .to usse  hamesa dhoka milta ha… par jab ladki kahti aage se kahti ha ki wo apse bahut pyaar karti ha to us par naha chah kar bhi belive karna pta ha … uski friend se baate hone lagi deere deere baate pyaar me baad gyi . Hamne usse bahut pyaar karte lage…  hamne usse puch ki apka koi pahle relationship tha kya kisi ladke se to usse kaha ki tha par ab nahi ha… belive to pahle se hi tha us liye es baat par belive bhi kar liya …… par jab do 4 month baad uske baare me ak ladka puch raha tha or wo ladka uske taugi ka ladka tha ….

ussne kaha ki wo mujse pyaar karti ha… mere kuch month pahle usse ladai ho gyi thi es liye me usse baat nahi karta fir wo tere se baat karne lagi .. ab wo fir se mujse baat karti ha … or usne mujse kaha ki us ladke ko mere or apke baare me kuch mat batana … at last wo ham dono se baat karti thi ..es baat ka pata us ladke se muje malum hua.. wo ladka Muslim tha or wo ladki bhi Muslim thi wo to ladka taugi ka th ….or Muslim family me to marriage wo jati ha family me se hi… to ham. Me ua wakat bhi uski khushi chahi or Deere deere wakat badlta gya …or usse bhulane …

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 94 - ❤ Magician ❤ – Afreen

❤ Magician ❤ – Afreen

Kch log hote h na magician type…vaisa hi koi shaqs meri bhi zindgi m h…Aaj subah ka sooraj bilkul vaisa hi tha jaise roz k trh ek aisa rang liye jo aankhon ko thndak pauhachane k liye kaafi hota h…Hawayein bhi apne tym se thi mausam bhi kch mood m tha…Panchi bhi apna thikaana dhoondne nikl chuke the sb kch ek dm imprfct tha or agr kch imprfct tha to vo mera Mood …Jo ki off tha subah se  kch ajeeb lgg rha tha jaise kch bura hone wala h ya ho rha h ya kch glt jaisa ummmm ptaa nhi pr kch to tha…..Subeh se jitni koshish kr skti thi ki maine khudka mood theek krne ki jaise story sunna,song sunna,doston se baatein  krna,videos dkhna aise bht saare kaam kr chuki thi pr mann nhi lga khi…Shyd mujhe koi or chahiye tha or jahan tk main bhi jnti thi ki kya…(Motuu)❤….Ek ye aisa anokha insaan h jisse mera mood kaise kb theek krna h usse sb pta h…infact mujhse zyada vo mujhe jnta h…vo insaan jisne mujhe aaj tk kbhi akela nhi chhoda hmesha meri bak bak suni pr mujhse kbhi bore nhi hua hr din hmara vaisa hi shuru hota jaisa phla din tha

“”❤Khubsurat❤“” Or hr raat uss sukoon jaisi hoti ” Jaise pehli baarish k bd ka sukoon”…Motuu k cl se main apne khyalon se bhr aagyi…Cl rcv krte hue maine kaha ” Aaj ka din bilkul acha nhi tha bht bkws tha kch acha nhi lg rha jaise kisi chiz ki kami ho “….Usne kaha ” Kyu kya ho gya mere bacche ko 😍” Maine kaha “haan bss issi chiz ki to kami thi yahi chahiye tha mujhe☺“….Usse bt krke bht sukoon milta duniya bhr k tareeka apna liye pr jo sukoon ki talaash hoti mujhe vo ussi k paas aane k bd milta😇…Or ek din Yuhi bt krte krte kaha “” Chlo Munh Dhoke tyyar ho phr chalna h na aaj shaadi m or suno chotu ko bhi tyyar kr lena”” Hmne pucha konsi shaadi kaha chlna h or kaun chotuuu??? “” Kehne lga shaadi k bd to aise hi bolenge na❤“”…. Hote h na kch log sardiyon ki dhoop jaise kch vaise hi h Mera cartoon ntwrk(Motuu) 😘ek khubsurat se lamhe ke sukoon jaisa…!!!!❤❤❤

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 103 - Ek Shaam – Afreen

Ek Shaam – Afreen

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Ek shaam yuhi jb main bhr balcony m baithke dhalte hue sooraj or khule aasman m befiqr udti patang ko dkh rhi thi to mujhe zindgi ka ehsaas hua….Haan kch yuhi to thi meri zindgi…Zindgi ki dor ek kati patang jaisi hi to thi jiski dor Adii na thaam rkhi thi…Jaise dhalta hua sooraj ek jageh se doob kr dusre jageh roshni faila deta h theek ussi trh Adii ne bhi meri zindgi ko bhi roshan kr diya tha…

Or ek dhalte sooraj k trh main bhi uske pyr main dhal gyi thi♥….Mere andhere raaste m mere mna krne k bawajood bhi vo mere saath chla bina kisi shart ke…Agr zindgi ki thokar khake main girti bhi to vo mere saaye k trh mere peeche khade hokr mujhe smbhlne k liye hmesha rhta or inn sbke chlte chlte mujhe kb uski aadat ho gyi pta hi nhi chla…Aaj ye khula aasmaan mujhe sukoon deta h jisko dkh kr main apne sapne saja skti hu.

Kch wqt k liye hi sahi jb vo mere saath hota h toh  zindgi kch alg si hi lgne lgti h ya shyd mera usse dkhne ka nazariya badal jaata h…Uss wqt jb aap chahte h ki ye wqt bss yhi taherjaaye to vo itni tezzi se beet ta h maano usse jldi ho rhi ho kahi jaane ki….Chalte wqt main apni aankhein bnd krke unn lamho ko apni yaadon main qaid kr leti hu jo ek pal ki hassii k liye kaafi hota h…Apni yaadon or khyalo se jb bhr aayi to dkha sooraj doob chuka tha ….!!!!

Love….!!!♥
Afreen Adil Khan…

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 276 - प्यार धोखा है – Jyoti

प्यार धोखा है – Jyoti

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मैं हमेशा से ही एक साधारण लड़की थी, आज भी हूँ पर उतनी नहीं। मुझे पता था मेरे साधारण होने और दिखने के कारण प्यार जैसी कोई चीज़ मेरे नसीब में बिलकुल नहीं है। मैंने बस हमेशा अपनी पढ़ाई और दोस्तों पर ही ध्यान दिया है। उनमें ही दुनिया बस्ती थी मेरी।

फिर एक शख्स ऐसा भी आया जिसने मुझे एहसास दिलाया कि शायद मैं उतनी भी साधारण नहीं। मुझमे कुछ है जो औरों में नहीं। उसका मुझे देखकर शर्माना, मेरे बगल में से निकलने पर सहम जाना, मुझे देखकर बाल सवारना और उसके दोस्तों का उसे मेरे नाम से चिढ़ाना और उसका फिर शर्माना। लगा था कि शायद मैं इतनी भी साधारण नहीं।

शायद ज़िन्दगी में पढ़ाई, दोस्ती, माँ-बाप के सिवा भी कुछ है। बस प्यार होने लगा था खुद से, अपनी साधारण और अजीब शक्ल भी अच्छी लगने लगी थी, ड्रग्स से बुरा नशा करवाया उसके टाइम पास ने। पर 3 साल लगे मुझे ये बात समझने में कि ये सब टाइम पास था, प्यार तो कभी था ही नहीं।

होश आने पर आइना फिर उठा कर देखा, देखा की क्या मैं बदसूरत हूँ? नहीं. मैं बहुत खूबसूरत हूँ। कोई लड़का मुझे मेरी खूबसूरती पर शक नहीं करवा सकता। 3 साल लगे पर ये समझ आ गया कि *प्यार सिर्फ धोखा है*।…

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 242 - What you want? – Nisarg

What you want? – Nisarg

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Hi friends, my name is nisarg. Me 10th class me padhta hu or hamare ghar ki tarf ek ladki rehti hai. I think me usse 2 saal se friendship karne ki try kar raha hu par…! Jab mene use pahli bar dekha tha tab mujhe usme koi intrest nahi tha. Par jab mene use jyada bar ya shayad har roj dekhne laga to aaj tak me use ek din bhi nai rah sakta.

Mene jab se use notice karna start kiya tab se vo mere samne dekhti, smile deti, ladkiyon vali adaye dikhati… Mujhe uske bare me tab kuch bhi nai pata tha. Nahi uska nam, nahi vo kya karti hai… Minimum mene use ek saal tak notice kiya or uski sab details leli bina usse puche… Meri sis he me usse apni saari problems share karta hu. Mene usse us ladki ke bare me bhi bola or usne 1 hi week me us ladki se friendship karli. Mujhe uska nam to tab pata chala.

Or uska nam HET tha. Dhire dhire meri sis se het me mere baare me pucha or meri sis me sab kuch bataya bhi. Phir me jaha tution jata tha vahi vo bhi tution jati thi. Jab meri sis or mera friend mere baare me bat karte the tab vo achanak sharma jaati thi. Phir uutrayan aayi . Uska teres mere teres se ek dam clean dikhta tha. Us pure festival ke do dino tak me teres se use hi dekhta raha or jese vo mujhse isharo me bat karti esa look deti thi. Bad me mene meri sis se use meri friendship karva ne ko bola or jese hi meri sis ne het ko bola to na-jane het usi moke ka intejar kar rahi thi esa laga.

To jis din meri sis me use pucha tab usne han bola or dusre din na-jane use kya hua usne mana kar diya. Phir jab bhi vo dikhti thi tab bohot bhav mangti thi or alag hi reaction deti thi. Phir uska pure din ka bio data dhundh liya to pata chala ki vo crorepati hai or vo ghar se bahar bhi nai nikalti ye pata chala. Or vo har thursday ko mandir jati hai ye pata laga ke me bhi mandir jaane laga. Phir usne mandir aana hi band kar diya. Usse mujhe itna hurt hua ki har thursday ko uski yaad bohot satati hai…

Ab …

Continue Reading

Digital India hindi story

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

This is a story written in hindi based on digital india program. This is educational and motivational both  hand in hand. So read this Digital India hindi story till end and share with everyone.

Digital India hindi story motivational

Digital india aapko sochne par majbur kar dega

Motivational stories -डिजिटल इंडिया

“बापू ये डिजिटल इंडिया क्या होता है?” नन्ही सी मुन्नी ने अपने बापू से पूछी, जो की उसके पास ही बैठ कर रेडियो सुन रहे थे. और अमाचार में कोई बार-बार ‘डिजिटल इंडिया’ के बारे में बोल रहा था. मुन्नी लालटेन की टिमटिमाती लौ में पढ़ रही थी और बाल-मन ये शब्द सुन कर रोक न पाई और radio सुनते हुए बापू से पूछी.

“ये तो मुझे भी नहीं पता बिटिया, मगर सब लोग कह रहे है की अब mobile से ही सब कुछ होगा.” उसको समझाते हुए उसके बापू ने बोला- “और तुमको तो पता होगा तू तो स्कूल भी जा रही है. मास्टर जी से पूछ लेना.”

“ना बापू, स्कूल में तो अंग्रेजी पढ़ाते ही नहीं है और मास्टर जी तो कुछ बताते भी नहीं है. दिन भर ऑफिस में बैठे रहते है. उनको भी कुछ नहीं आता है.” बड़े ही मासूमियत से मुन्नी ने जवाब दिया.

“अच्छा बापू, हमारे यहाँ बिजली तो आती ही नहीं, तो mobile कैसे चलेगा.” मुन्नी ने फिर एक सवाल दागा.

“बेटी ये हमारे लिए नहीं है, जो बड़े-बड़े लोग होते है न, जो कारों से चलते है उनके लिए होता है.” उसके बापू ने फिर उसे समझाते हुए कहा.

“मैं भी बड़ा आदमी बनूँगी.” मुन्नी ने चहकते हुए कहा – “बापू मेरा भी नाम शहर में जो बड़े स्कुल होते है न उसमे लिखा दो, जिसमे जूते पहन कर जाते है और वो गर्दन में लगाते है, वो भी खरीद देना.”

उनसके बापू ने प्यार से उसके सर पर हाथ फिर और अपने मज़बूरी पर हँसते हुए कहा _”बेटा उसमे भी बड़े-बड़े आदमी के बच्चे पढ़ते है. हमलोग तो किसान है, तो हमलोग के लिए सरकार ने सरकारी स्कुल खोल रखा है.”

मुन्नी के सवाल

उस बाल-मन के मन से अभी सवाल ख़त्म नहीं हुई “हमलोग भी तो “इंडिया के ही है तो हमलोग के डिजिटल बने बिना इंडिया कैसे डिजिटल बन जाएगा?. हमलोग क्यों नहीं बड़े है ? हम क्यों नहीं बड़े स्कुल में जा सकते? हमारे यहाँ बिजली क्यों नहीं है? बापू ने ऐसा क्यों कहा ‘हम किसान है हमारे लिए सरकारी स्कुल ही है? और सरकारी स्कुल के …

Continue Reading

God stories in hindi to restore faith भगवान की कहानी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Today we are presenting in front of you god stories in hindi to restore faith. We are on a track of posting inspirational and life changing hindi stories and quotes. So remain stick to us for wonderful stories and quotes in future.

God stories in hindi – Bhagwan ki kahani

एक गांव में एक ब्राहम्ण परिवार रहता था. उस ब्राहम्ण परिवार में तिन भाई थे और खेती-बाड़ी का काम करते थे. तीनो भाइयो में नित्यानंद जी सबसे बड़े भाई थे. वह सुबह-सुबह उठते और गंगा स्नान करने जाते फिर आकर भगवान का भजन और पूजन में लग जाते. उनका ये दिनचर्या हर मौसम में चलता रहता.

न बरसात उनका रास्ता रोक पाई, न ही कड़ाके की ठण्ड और न भीषण गर्मी. हर मौसम में सुबह 4 बजे उठते और अपना कमंडल लेकर निकल पड़ते नंगे पैर. न ही पत्थर चुभने का गम, न ही विषैले जीवो का डर. उनको न तो बिजली की कड़कहट डरा पाई और न अंधरी रात की आंधी-पानी.

उनके इस आदत से उनके घर वाले परेशान रहते थे. भाईओं के कहने पर भी न तो खेत में जाते और न ही घर का कोई काम करते जबकि दोनों भाई मेहनत से काम करते. उनके इस आदत से उनकी धर्मपत्नी भी उनके ऊपर गुस्सा करती रहती. “दुनिया कमा कर क्या से क्या कर रही है मगर इनको अपने पूजा-पाठ से समय नही मिलता है.

दिनभर राम-राम जपने से खाना नहीं मिल जाता. उसके लिए काम करना पड़ता है. ऐसे कब तक चलेगा कब तक भाइयों के किये काम पर बैठ कर खाओगे. कम-से-कम दिन भर में एक बार खेतो से घूम ही आओ. दिन भर भगवान कहने से कुछ नहीं होगा.”

Godly stories -पंडितजी को अलग कर देना

इन सब बातो पर नित्यानंद जो मुस्करा देते और बोलते-“तुमको लग रहा है की मेरे भाई मुझे खिला रहे है. नहीं! ये तो परमेश्वर ही है जो मुझे लाकर देता है. सब उनकी मर्जी से होता है. सभी को खाना भी वही देते है. भाई तो माध्यम मात्र है.”

उनकी ये बात न तो उनकी पत्नी को समझ में आती और न ही उनके भाईओं को. हालत दिन-पर-दिन बिगड़ते गए. न ही पंडित जी ने अपना नित्यकर्म छोड़ा और न ही भगवान का कीर्तन भजन. उनके इस व्यवहार से उनके भाईओं ने और उनकी पत्नी ने उनको सबक सिखने को सोच.

अगले दिन

अहिसे ही गंगा से स्नान करके लौटे भाईओं ने बोला-‘ भैया आप कुछ करते नहीं है. …

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 286 - Relationship stories in hindi with moral value

Relationship stories in hindi with moral value

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Today we come here with a true story. This is based on relationship stories in hindi. In this story we will talk about how a relationship becomes a torture for someone.

Real life relationship stories in hindi

किसी-न-किसी दिन तो यह होना ही था. ऐसा बहुत दिन तक नहीं चलने वाला था. सहन भी कितना करू. एक हद होती है, एक सीमा होती है सहन करने की. और वह सीमा पार हो चूका था. अच्छा किया, बहुत अच्छा किया. ऐसे रिश्ते से बहार आकर बहुत ही अच्छा किया. और अब नहीं निभा सकता था ये रिश्ता.

शाम का समय था. मैं अभी भी पार्क में बैठ था. पार्क के एक कोने में थोड़ी सी जगह पड़ी थी. जहाँ कोई आता-जाता नहीं था. मैं वही बैठा सोच रहा था आखो से आसू निकलते और फिर खुद ही सुख जाते. मैंने अपने मन को काबू करने की कोशिश कर रहा था. मगर मन बार-बार अपने बिताये पल और उन पलो में जा रहा था जो हमने साथ बिताये थे. आखो में एक तस्वीर उभर कर आ जाती और उतनी ही तेजी से आखो से आसू भी निकल पड़ते.

Real life love story – तुमको किसी के प्यार का जरूरत क्यों है?

आज मैं खुद उस से रिश्ता तोड़ के आया, खुद ही. एक ऐसा रिश्ता, जो रिश्ता नही बोझ हो गया था. एक ऐसा रिश्ता जिसमे फिल्लिंग्स नहीं थी. मुझे इतने आसू रोज मिलते थे. और इस आसू का कोई एहसास नहीं था उनके पास. इतने सालो के हमारे रिश्ते में मुझे आज भी अपनापन का एहसास नहीं था.

उसका बार-बार गलती करना और मेरा बार-बार माफ़ कर देना. यही चलता रहा. कितने बार ही उसे समझाया होगा की ‘क्या चाहिए तुझे किसी और से? ‘प्यार’. मैं हूँ न प्यार करने के लिए. क्यों तुमको किसी और का जरूरत पड़ रहा है. एक लड़का तुम्हारे लिए आसू बहा सकता है यानि उसको दुनिया में सबसे जयादा तुमको प्यार करता है. मगर उनके पास इन सब का कोई असर नहीं था.

Real life relationship story – हमेशा के लिए छोड़ दिया उसे

मगर आज मैं इस सब बातो को झूठा साबित रहा हूँ. मैंने अपना आसू पोछ लिया अब नहीं बहाने है ये आसू. वह इस आसू के काबिल नहीं है. और न ही इस प्यार के. आज मैं कोई कसम नहीं खाऊंगा call नहीं करने के लिए. आज कोई वादा नहीं, उसको message नहीं करने का. फिर भी वादा है कभी न …

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 246 - Business story in hindi for getting success

Business story in hindi for getting success

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

We will read today business story in hindi. And will also tell you that how you can get successful in your particular business.कहते है की हर प्रॉब्लम का solve हमारे आस-पास ही रहता है. बस हमे उसे पहचने की देर होती है.

उसी कुछ लोग उसे पहचान लेते है और success होते है मगर कुछ रोने में समय निकल देते है की अब क्या कर. अब कुछ नहीं हो सकता. आपके प्रॉब्लम का solve आपके पास ही है बस आप उसे देखिये उसे इस्तेमाल कीजिए.

मैं आपलोग को एक कहानी बताता हूँ कैसे एक आदमी अपने डूबती company को बचाता है. और उसे आगे तक ले कर जाता है. Moral story in hindi -एक कहानी जो आपकी जीवन बदल देगी.

Awesome business story in hindi

जतिन जब ऑफिस घर पंहुचा तो अभी शाम हुआ था. घरवाले बैठ कर उसका कब से wait कर रहे थे. जैसे ही जतिन घर के दरवाजे पर पंहुचा सभी खड़े हो गये. सभी का ध्यान जतिन के तरफ लग गया. ‘क्या हुआ आज ऑफिस में’ रही बात सभी के मन में चल रहा था. उसपर जतिन का गंभीर चेहरा बता रहा था की कुछ अच्छा नहीं हुआ है.

Story for successful business

जैसे ही वह घर के अंदर गया उसने सभी को एक बार देखा. सभी नजरे उसे घुर रही थी. सभी की नजरे बस जतिन पर टिक गयी. उसकी मा ने कुछ पूछना चाहा. तब तक जतिन उनलोगों से आगे निकल गया और सीधे अपने room में चला गया. उसकी वाइफ, उसकी माँ, डैड सब उसे बस जाते देखे.

जतिन अपनी एक company चलाता है. अपनी पापा की विरासत नहीं अपने मेहनत से बनाया हुआ. एक-एक सफलता पार करके. अपनी मेहनत के दम पर. अपने टैलेंट के बल पर. उसकी company भी अच्छी चल निकली. अच्छे दिन आने के बाद ख़राब दिन भी आते है. यही जतिन के साथ भी हुआ.

उसने company को बड़ा करने के लिए बैंक से भारी-भरकम लोन ले लिया. धीरे धीरे लोन का दबाव बढ़ने लगा. company का उत्पादकता तो बढ़ गया मगर selling कम हो गया. मार्किट में company बढ़ने से selling गिर गया. जितना मॉल company से निकलता वह बिक नहीं पाता. heart touching stories -बारिश की वो काली रात

Motivational story for employees

जब लगा सब कुछ खत्म हो गया

बैंक वाले अपना installment के लिए रोज-रोज आने लगे. धीरे-धीरे company का हालत बहुत बिगड़ गया. जो भी installment बैंक में जा रहा था वह …

Continue Reading
Page 1 of 2
1 2