Bachon ki kahaniyan कहानियाँ, आखिर हम क्यों हैं सफलता से दूर

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Bachon ki kahaniyan

एक बार मधुवन वन में एक कौआ खाने की तलाश में आकाश में उड़ रहा था । उन दिनों वो कौआ अपने जीवन से बहुत संतुष्ट था उसे लगता था कि वह बहुत खुश और जंगल का सबसे अच्छा प्राणी है। दूर उड़ते हुए उसकी नज़र अचानक एक हंस पर पड़ी , हंस को देखते ही कौआ को बड़ा आश्चर्य हुआ कि मैं खुद को सुंदर समझता था लेकिन ये हंस तो मुझसे कई गुना ज्यादा सुन्दर है।

कौए ने कुछ सोचकर ये बात हंस को बताई, तो हंस को हंसी आ गयी , हंस बोला – मित्र मैं भी पहले यही सोचता था कि मैं सबसे सुन्दर हूँ पर जबसे मैं तोते को देखा है तो लगता है वही सबसे सुन्दर है क्यूंकि मेरे पास तो बस एक सफ़ेद रंग है तोते के पास तो दो रंग हैं।

फिर क्या था, कौआ तेजी से उड़ता हुआ तोते के पास गया और बोला -मित्र तुम तो बहुत सुन्दर हो। तोता कौए की बात सुनकर बड़ा दुखी हुआ बोला – मित्र मैं भी यही सोचता था ,लेकिन जब से मैंने मोर को देखा है मुझे अपनी सुंदरता फीकी नजर आती है क्यूंकि मोर से पास बहुत सारे रंग हैं और वो बहुत सुन्दर दिखाई देता है मेरी नजर में वही सबसे सुन्दर है । फिर कौआ दूर उड़ता हुआ एक चिड़ियाघर में मोर से मिलने गया।

कौए ने मोर की सुंदरता की बहुत प्रशंशा कि लेकिन उसकी बात सुनकर मोर गंभीर होते हुए बोला -मित्र क्या फायदा ऐसी सुंदरता का देखो मैं तो पिंजरे में बंद हूँ मैं तुम्हारी तरह स्वछन्द आकाश में उड़ भी नहीं सकता और मैंने तो सुना है कि पूरे जंगल में केवल कौआ ही ऐसा प्राणी है जिसे कोई पिंजरे में कैद नहीं रखता तो इस तरह से तो मेरे से अच्छी जिंदगी तुम्हारी है । कौए को सारी बात समझ में आ गयी थी ।

मित्रों, उम्मीद है कि आपको भी कहानी की शिक्षा समझ आ गयी होगी। हम लोग अपने काम और अपने लक्ष्य पर ध्यान ना देकर बिना वजह ही दूसरों से अपनी तुलना करने लगते हैं।

हम सोचते हैं कि अमुक के पास तो इतना पैसा(Rich) है मेरे पास तो कम है, हम सोचते हैं कि अमुक व्यक्ति तो बड़ी कंपनी में नौकरी(Job) करता है मैं नहीं करता, हम सोचते हैं कि अमुक को बहुत सुन्दर हैं मैं क्यों नहीं, हम सोचते हैं अमुक बहुत बुद्धिमान है मैं क्यों …

Continue Reading

जूनून हो तो सफलता जरूर मिलती है | Successful Entrepreneur Story in Hindi

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Successful Entrepreneur Story in Hindi

कहा जाता है कि अगर कुछ करने की लगन और जज्बा हो तो किस्मत पलटते देर नहीं लगती। कबीरदास जी ने बिलकुल सही कहा है – ‘रसरी आवत जात से सिल पर परत निसान’, लगातार कठोर मेहनत करने से हर कठिन कार्य को आसान किया जा सकता है।

Image Source: Bhaskar.com

वीएसएस मणि, ये नाम है उस शख्स का जिसने देश के युवाओं के लिए एक मिशाल पेश की है और बताया कि कैसे कठिन संघर्षो के बावजूद भी सफलता हासिल की जाती है ।

वीएसएस मणि जी “jusl dial” कंपनी के मालिक हैं और कलकत्ता के रहने वाले हैं । “Just Dial” आज 900 करोड़ की कंपनी है जिसमें हजारों कर्मचारी काम करते हैं।

एक समय था, जब वीएसएस मणि जी कठिन संघर्षों से गुजर रहे थे। बहुत कोशिशों के बावजूद भी कोई कार्य सफल नहीं हो पा रहा था ।

वैसे Just Dial का आइडिया उनके दिमाग में 22 साल की उम्र से ही था और इसी की वजह से उन्होंने Askme नाम की एक कंपनी भी शुरू की थी लेकिन ये कंपनी बहुत ज्यादा सफल नहीं हो पायी ।

उन संघर्षों के दिनों में वीएसएस मणि जी ने पत्नी के गहने बेच कर Just Dial की शुरूआात की और उनकी कठिन मेहनत का नई नतीजा है कि आज कंपनी 900 करोड़ की हो गयी है ।

यही नहीं , स्वयं अमिताभ बच्चन JustDial के ब्रांड एम्बेसडर हैं और आज ये बहुत विख्यात कंपनी में से एक है । 8888888888 ये नंबर JustDial के लिए प्रयोग किया जाता है। वीएसएस मणि जी आज उस मुकाम पर हैं कि उनका जीवन युवाओं के लिए एक प्रेरणा का स्रोत हो सकता है ।

मित्रों , जीवन में जब कठिन समय आये तो घबराएं नहीं क्यूंकि संघर्ष एक परीक्षा के समान है जिसमें उत्तीर्ण होकर ही आप सफल हो सकते हैं। इस Real कहानी से आपने क्या सीखा ,Comment के माध्यम से हमें जरूर बताएं…

Continue Reading

सफलता का रहस्य : Secret of सक्सेस in Hindi

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

सक्सेस: एक बार की बात है कि किसी शहर में एक लड़का रहता था, जो बहुत गरीब था। मेहनत मजदूरी करके बड़ी मुश्किल से 2 वक्त का खाना जुटा पाता था। एक दिन वह किसी बड़ी कंपनी में चपरासी के लिए इंटरव्यू देने गया । बॉस ने उसे देखकर उसे काम दिलाने का भरोसा जताया ।

जब बॉस ने पूछा -“तुम्हारी email id क्या है”? लड़के ने मासूमियत से कहा कि उसके पास email id नहीं है ।

ये सुनकर बॉस ने उसे बड़ी घृणा दृष्टि से देखा और कहा कि आज दुनिया इतनी आगे निकल गयी है , और एक तुम हो कि email id तक नहीं है , मैं तुम्हें नौकरी पर नहीं रख सकता ।

ये सुनकर लड़के के आत्मसम्मान को बहुत ठेस पहुंची , उसकी जेब में उस समय 50 रुपये थे । उसने उन 50 रुपयों से 1 किलो सेब खरीद कर वह अपने घर चलता बना। वह घर घर जाकर उन सेबों को बेचने लगा और ऐसा करके उसने 80 रुपये जमा कर लिए । अब तो लड़का रोज सेब खरीदता और घर घर जाकर बेचता ।

सालों तक यही सिलसिला चलता रहा, लड़के की कठिन मेहनत रंग लायी और एक दिन उसने खुद की कंपनी खोली जहाँ से विदेशों में सेब सप्लाई किये जाते थे । उसके बाद लड़के ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और जल्दी ही बहुत बड़े पैमाने पर अपना बिज़नेस फैला दिया और एक सड़क छाप लड़का बन गया अरबपति ।

एक दिन कुछ मीडिया वाले लड़के का इंटरव्यू लेने आये और अचानक किसी ने पूछ लिया – “सर आपकी email id क्या है”? तो लड़के ने कहा -“नहीं है “, ये सुनकर सारे लोग चौंकने लगे कि एक अरबपति आदमी के पास एक “email id” तक नहीं है । लड़के ने हंसकर जवाब दिया -“मेरे पास email id नहीं है इसीलिए मैं अरबपति हूँ , अगर email id होती तो मैं आज एक चपरासी होता”।

मित्रों ,इसीलिए कहा जाता है कि हर इंसान के अंदर कुछ ना कुछ खूबी जरूर होती है, भीड़ के पीछे भागना बंद करो और अपने टेलेंट और स्किल को पहचानो ।

दूसरों से अपनी तुलना मत करो कि उसके पास वो है मेरे पास नहीं है , जो कुछ तुम्हारे पास है उसे लेकर आगे बढ़ो फिर दुनियां की कोई ताकत तुम्हें सफल होने से नहीं रोक सकती|…

Continue Reading