पापड़ बेचने से लेकर ‘सुपर ३०’ तक का सफ़र, “आनंद कुमार” की सफ़लता की प्रेरणादायक कहानी

Anand Kumar Super 30 Biography & Success Story In Hindi : भारत में IIT जैसे टॉप इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ने का सपना कई छात्र-छात्रायें देखते है. ऐसे में उनका मार्गदर्शक बनती हैं – कोचिंग संस्थायें. लेकिन कोचिंग संस्थाओं की भारी-भरकम फीस वहन कर पाना हर छात्र के लिए संभव नहीं हो पाता. जो आर्थिक रूप से कमज़ोर वर्ग के छात्र हैं, वे यह मार्गदर्शन प्राप्त करने से वंचित रह जाते हैं और कहीं न कहीं यह उनके इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा में सफ़लता प्राप्ति में अडंगा बन जाता है.

ऐसे में आर्थिक रूप से कमज़ोर छात्रों के लिए मसीहा बनाकर उभरे हैं – आनंद कुमार (Anand Kumar), जो अपने सुपर ३० संस्थान में ऐसे छात्रों को मार्गदर्शन प्रदान कर रहे हैं और उनकी न सिर्फ टॉप इंजीनियरिंग कॉलेज (Top Engineer College) में प्रवेश का मार्ग, बल्कि उज्जवल भविष्य का मार्ग भी प्रशस्त कर रहे हैं.

आनंद कुमार एक गणितज्ञ, शिक्षाविद और स्तंभकार हैं, जिन्होंने आर्थिक विपन्नता का जीवन करीब से से देखा है. उनका संपूर्ण बचपन अभावों में व्यतीत हुआ. लेकिन उन्होंने शिक्षा को अपना सबसे बड़ा संबल माना. कैम्ब्रिज युनिवेर्सिटी का कॉल लैटर हाथ में होने के बाद भी आर्थिक तंगी के कारण वे कैम्ब्रिज न जा सके. गली-गली पापड़ बेचने को मजबूर हुए. लेकिन आज वे इस मुकाम पर हैं, जहाँ वे समाज के आर्थिक रूप से कमज़ोर छात्रों के शैक्षिक उत्थान की दिशा सराहनीय कार्य कर रहे हैं.

आनंद कुमार के कार्यों को देश-विदेश में सराहना प्राप्त हुई है और उन्हें कई पुरुस्कारों से नवाज़ा गया है. वे विद्यार्थियों के लिए प्रेरणा श्रोत है. उनके प्रेरणादायक जीवन पर आधारित हिंदी फिल्म ‘सुपर ३०’ (Super 30) का निर्माण भी किया गया है. आइये विस्तार से जानते हैं आनंद कुमार (Anand Kumar) और उनके संस्थान  ‘सुपर ३०‘ (Super 30) के बारे में :      

Anand Kumar Super 30 Biography & Success Story In Hindi
Anand Kumar Super 30 Biography & Success Story In Hindi

 आनंद कुमार का संक्षिप्त परिचय (Short Biography Anand Kumar) 

नाम  आनंद कुमार  (Anand Kumar)
जन्म १ जनवरी १९७३ 
जन्म स्थान पटना. बिहार (Patna, Bihar, India)
माता जयंती देवी 
भाई प्रणव कुमार 
पत्नि ऋतु रश्मि 
बेटा जगत कुमार 
कार्य शिक्षक, गणितज्ञ
उपलब्धि सुपर ३० संस्थान के द्वारा आर्थिक रूप से कमज़ोर विद्यार्थियों को IIT की निशुल्क कोचिंग,  हर वर्ष २६ से ३० बच्चों का चयन. इस सराहनीय कार्य के लिए कई पुरुस्कार और सम्मान से नवाज़ा
Continue Reading