shayarisms4lovers mar18 38 - जब भी तेरे रुखसार की तामीर हम करते है

जब भी तेरे रुखसार की तामीर हम करते है

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

जब भी तेरे रुखसार की तामीर हम करते है

जब भी तेरे रुखसार की तामीर हम करते है
हम उस वक़्त खुदा का शुक्रगुजार करते है
पाया था तुझे इबादत में खुदा की रहमतों से
न कर सके मुकमल उस फ़रियाद को याद करते है

Jab Bhi Tere Rukhsar ki Tamir Hum Karte Hai

Jab bhi tere rukhsar ki tamir hum karte hai
hum us waqt khuda ka sukargujar karte hai
paya tha tujhe ibadat mein khuda ki rehmton se
na kar sake mukamal us fariyaad ko yaad karte hai..


दर -ओ -दीवार

अब कोई नहीं है इस शहर बिरने में
न कोई दर -ओ -दीवार है इस महखाने मैं
हर कोई अजनबी सा मिलता है
बीत गए वो दिन जब गुल थे गुलज़ार
अब तो जीना भी एक सवाल लगता है

Dar-o-Diwaar

Ab koi nahi hai is shehar birane mein
na koi dar-o-diwaar hai is mehkhane main
har koi ajnabi sa milta hai
beeat gaye wo din jab gul the gulzaar
ab to jina bhi ek sawal lagta hai..


दूर रह कर भी तुम दिल से जुदा न होंगे

न रहे कोई गम गिला इस क़दर वफ़ा देंगे
तेरी एक ख़ुशी की खातिर हम सब कुछ लूटा देंगे
कभी न भुलाएंगे तेरी मोहब्बत को हम
दूर रह कर भी तुम दिल से जुदा न होंगे

Door Reh Kar Bhi Tum Dil Se Judha Na Honge

Na rahe koi gila iss qadar wafa denge
teri ek khushi ki khatir hum sab khuch lutta denge
kabhie na bhulaenge teri mohabbat ko hum
door reh kar bhi tum dil se judha na honge..


तसव्वुर

तसव्वुर में ही सही एक चेहरा तो है
तू मेरे साथ नहीं पर ख्यालों में तेरा पहरा तो है

Tasabur

tasabur mein hi sahi ek chera tou hai
tu mere saath nahi per khayalon mein tera pehra tou hai…

Continue Reading