shayarisms4lovers mar18 125 - नए कवियों की शायरी पढ़िए

नए कवियों की शायरी पढ़िए

Poet – Kautilya Gaurav कहती सुनती बातों सी… जैसे गहरी मेरी रातों सी… ख़ामोशी से भरी भरी… ख़ाली मेरे हाथों सी… कभी कभी कहीं जो मिलती थी… ख़ामोशी सी रातों में… जाने कहाँ मुझसे गुम हुई… कुछ बातें तेरी बातों सी… Poet – Kautilya Gaurav दरिया सा एक सब्र का… बहता रहा मुझमें कहीं… बहोत […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - यादों का इक झोंका – तेरी यादें शायरी

यादों का इक झोंका – तेरी यादें शायरी

सजा बन जाती है गुज़रे हुए वक़्त की यादें न जाने क्यों छोड़ जाने के लिए मेहरबान होते हैं लोग यादों का इक झोंका यादों का इक झोंका आया हम से मिलने बरसों बाद पहले इतना रोये न थे जितना रोये बरसों बाद लम्हा लम्हा उजड़ा तो ही हम को एहसास हुआ पत्थर आये बरसों […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - इश्क़ में यह दूरियां – दूरियाँ शायरी

इश्क़ में यह दूरियां – दूरियाँ शायरी

इन राहों की दूरियां निगाहों की दूरियां हम राहों की दूरियां फनाह हो सभी दूरियां तेरी नज़रों से ओझल हो जायेंगे तेरी नज़रों से ओझल हो जायेंगे हम दूर फ़िज़ाओं में कहीं खो जायेंगे हम हमारी यादों से लिपट कर रोते रहोगे जब ज़मीन की मट्टी में सो जायेंगे हम Teri Nazron Se Ozhal Ho […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - फिर यही ग़ज़ल लिखोगे तुम

फिर यही ग़ज़ल लिखोगे तुम

बहुत याद आते है न जाने वो क्यों इतना याद आते है , उसकी सूरत आँखों से क्यों नहीं निकल पाती है , जितना भुलाऊँ उसको उतना याद आती है .. Bahut Yaad aate hai na jane wo kyu itna yaad aate hai, uski surat aankho se kyo nahi nikal paati hai, jitna bhulau usko […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 72 - यादों का आईना – Unique Collection of Pakistani Urdu Shayari and Poetry

यादों का आईना – Unique Collection of Pakistani Urdu Shayari and Poetry

तेरे शोख तासुबर में ख़ामोश थे लव और मैं गुफ़्तार में गुम थी पलके न झमकती थी के मैं दीदार में गुम थी तन मन ने सजाये है तेरे शोख तासुबर में यादों का आईना था मैं सिंगार में गुम थी   Tere Shokh Tasubur Mein khamosh the luv aur main guftar mein gum thi […]

Continue Reading