अभी कुछ शेयर बाकी है – By Jaun Elia Shayari

Jaun Elia Shayari - अभी कुछ शेयर बाकी है – By Jaun Elia Shayari


इरादा रोज़ करता हूँ , मगर कुछ कर नहीं सकता
मैं पेशेवर फरेबी हूँ , मोहब्बत कर नहीं सकता

यहाँ हर एक चेहरे पर अलग तहरीर लिखी है
मेरी आँखों में ऑंसू हैं , अभी कुछ पढ़ नहीं सकता

मैं उस घर का मुक़ीमी हूँ , जिसे औक़ात कहतें है
मैं अपनी हद में रहता हूँ , सो आगे बढ़ नहीं सकता

अभी कुछ शेयर बाकी है , मगर लिखने नहीं हरगिज़
किसी की लाज रखनी है , सो ज़ाहिर कर नहीं सकता

*************

Irada Roz Karta Hoon,Magar Kuch Kar Nahi Sakta
Main Paisewar Fraibi Hoon , Mohabbat Kar Nahi Sakta

Yahan Har Ek Chehre Par Alag Tehreer Likhi Hai
Meri Aankhon Mein Ansu Hain, Abhi Kuch Padh Nahi Sakta

Main Us Ghar Ka Muqeemi Hoon, Jisy Oqat Kehtein Hai
Main Apni Had Mein Rehta Hoon, So Agay Badh Nahi Sakta

Abhi Kuch Sher Baki Hai, Magar Likhnay Nahi Hargiz…

Continue Reading

मुहब्बत की जुबान

मुहब्बत की जुबान

यहां तक आये हो कुछ ज़ुबान से कह दो
लफ्ज़ मुहब्बत नहीं कह सकते सलाम तो कह दो

पलकें तो उठाओ अपनी इतनी भी हया कैसी
ज़ुबान से नहीं कुछ कहते निगाह से ही कह दो

दिल को यकीन आये कहदो आप हमारे हो
अपने लिखे खतों का जवाब साथ लाए हो

खत में तो तुम ने हर बात लिख दी
आये हो तो मुस्कुरा कर इक़रार भी कर दो

माना की तारीफ से बढ़ कर ग़ज़ल तुम हो
जुम्बिश लबों को कह अपनी तक़दीर हमें कह दो

Mohabbat ki Juban

ahan tak aaye ho kuch zuban se keh do
lafz muhabbat nahi keh saktay salam to keh do

palkain to uthao apni etni bhi haya kaisi
zuban se nahi kuch kehte nighah se hi keh do

dil ko yaqeen aaye keh aap hamare ho
apne likhe khaton ka jawab sath laye ho

khat mein to tum …

Continue Reading

दोस्तों में खुलूस न ढूँढो , वरना तुम दोस्त को खो दोगे – दोस्ती की शायरी

मेरा इक शौक था

बेरुखी के तीर खाना भी मेरा इक शौक था
दोस्तों को आज़माना भी मेरा इक शौक था
दर्द उन का अपने सीने से लगाया इस लिए
के चोट खा कर मुस्कराना भी मेरा इक शौक था

Mera Ek Shauk Tha

Berukhe Ke Teer Khana Be Mera Ik Shauk Tha
Dostoon Ko Azmana Be Mera Ik Shauk Tha
Dard Un Ka Apnay Senay Se Lagaya Is Leay
K Chot Kha Kar Muskrana Be Mera Ik Shauk Tha


दोस्तों में खुलूस न ढूँढो

दोस्तों में खुलूस न ढूँढो , वरना तुम दोस्त को खो दोगे
या ग़नीमत है साथ है इस ज़माने में और क्या लोगे ….

Doston Mein Khuloos Na Dhundo

Doston mein khuloos na dhundo, warna tum dost ko khodoge,
Ya ghanimath hai saath hai is zamane me aur kya loge…


हंसी आप की

अज़ीज़ है मुझे हर शह से दोस्ती आप की
उतर गयी मेरे …

Continue Reading

सुन्दर परिवारिक ज्ञान

पति सुख अकेला काट लेता है लेकिन दुःख में  वो अपनी पत्नी को जरूर याद करता है
पत्नी दुःख तो अकेले काट लेती है लेकिन सुख में अपने पति को जरूर याद करती है

pati sukh akeela kat leta hai lekin dukh main wo apni patni ko jaroor yaad karna hai
patni dukh to akele kat leti hai lekin sukh main apne pati ko jaroor yaad karti hai

Family Value and Gyan – Husband and wife relationship quote

अच्छा  इंसान  बनने  के  लिए  अच्छे   कर्म  करने  पड़ते  है ,
जो  लोग  दिखावे  की  बजाए   अच्छे   काम  करते  है  दुनिया  उन  को खुद  ढूंढ  लेती  है 

Accha insan banne ke liye achhe karm karne padte hai,
jo log dekhawe ki bajaye ache karm karte hai duniya unn ko khud hi doond leti hai

Family Value and Gyan -Humanity and morality quote 

इंसान हमेशा कोशिश करता है वो एक आदर्श

Continue Reading

hai jindagi ke do jhan

फूल को उड़ा ले गयी हवा

जब एक एक फूल को उड़ा ले गयी हवा
उस दिन बहार को मेरे घर का पता चला
जब उठा ले चले हमें चार लोग
उस दिन मेरे यार को मेरे प्यार का पता चला

PHOOL KO UDAA LE GAYI HAWA

JAB EK EK PHOOL KO UDAA LE GAYI HAWA,
US DIN BAHAAR KO MERE GHAR KA PATA CHALA.
JAB UTHA LE CHALE HAME CHAAR LOG,
US DIN MERE YAAR KO MERE PYAAR KA PATA CHALA ….


आसमान से दिल लगा बैठे

हुई हम से ये नादानी  के तेरी महफ़िल में आ बैठे
हो के ज़मीन की खाक आसमान से दिल लगा बैठे

Aasman Se Dil Lagaa Baithe

Hui hum se yeh nadani, Kay teri mehfil mein aa baithe
Ho kay zameen ki khakh aasman se dil laga baithe ….


दो जहाँ

है ज़िन्दगी के दो जहाँ
एक यह जहाँ एक वो जहाँ
इन दोनों …

Continue Reading

मेरी सोचें भी परेशान मेरे ख़्यालो जैसी

मेरी सोचें भी परेशान मेरे ख़्यालो जैसी

ज़ुल्फ़ रातों सी है रंगत है उजालों जैसी ,
पर तबियत है वही भूलने वालों जैसी ….

ढूंढ़ता फिरता हूँ यूँ लोगों में शबाहत उसकी ,
के “वो ” ख़्वाबों में भी लगती है ख्यालों जैसी ….

उसकी बातें भी दिल फरेब हैं सूरत की तरह ,
मेरी सोचें भी परेशान मेरे ख़्यालो जैसी ..

उसकी “आँखों ” को कभी गौर से देखा है “फ़राज़ ”
सोने वालों की तरह जागने वालों जैसी …

Meri Sochein Bhi Preshan Mere khyaloon Jaisi

Zulf Raaton si Hai Rangat Hai ujaloon jaisi,
Par Tabiyaat Hai Wohi Bhoolney Waloon jaisi….

Dhoondta Phirta Hoon Yun Logon mein Shabahat Uski,
Ke “WO” Khawabon mein Bhi Lagti Hai Khyaaloon Jaisi….

Uski Baatein Bhi diL faraib hain Surat Ki Tarah,
Meri Sochein Bhi Preshan Mere khyaloon Jaisi..

Uski “AANKHON” Ko Kabhi gaur Se Dekha Hai “FARAZ”
Soney Walon Ki Tarah Jagney …

Continue Reading

पंजाबी और उर्दू शायरी – हीर राँझा शायरी

जेल बिच बंद ग़ुलाम रह जाँदै न
किताबां बिच लिखे पैग़ाम रह जाँदै न
पहली मुलाकात किसी नु याद रवे न रवे
याद सब नू आखरी सलाम रह जाँदै न ​

jailaan ch band ghulaam reh janday ne
kitaabaan ch likhay paighaam reh janday ne
pehli mulakaat kissi nu yaad raway na raway
yaad sab nu akhari SALAAM reh janday ne​


वेख के उदास चेहरा यार दा , जिदी आँख भर आवे .
रब्ब ऐसे सजना नु कदे भी न तड़फावे ….
अस्सी रब्ब तक पहुँच बनायीं होई है …
मेरे हुंदियां न डरीं मौत कोलों …
तेरी मौत अस्सी अपनी लक़ीरां च लिखाई होई है …

vekh k udass chehra yaar da, jeedi akhh par aave.
Rabb aise sajna nu kade vi na tarpave….
Assi rabb tak pohach banayi hoyi hai…
Mere hundiyaa na darrin maut kolon…
Teri maut assi apni lakeran ch likhayi hoyi hai…


तू मेरी जिंद …

Continue Reading

दिल जले तो दीवाने बने – Funny वाह वाह शायरी

खुदा की कसम

खुदा ने मुझे बहुत वफादार दोस्तों से नवाज़ा है
याद मैं न करूँ तो खुदा की कसम ज़हमत वो भी नहीं करते ..

Khuda ki kasam

Khuda Ne Mujhe Boht WaFadar Dostoon se Nawaza hai
Yaad Main Na Kron to khuda ki kasam Zehmat wo b nahi karte…


दिल जले तो दीवाने बने

दिल जले तो दीवाने बने
शमा जली तो परवाने बने
शराब बनी तो महखाने बने
ऐ दोस्त अपनी बर्थ -डेट तो बता
पता तो चले किस दिन पागल खाने बने

Dil Jaly To Diwany Bane

Dil jaly To Diwany Bane
Shama Jali To Parwane Bane
Sharab Bani To Me’Khane Bane
Ay Dost Apni Birth-Date To Bata.?
Pata To Chale Kis Din Pagal Khane Bane…


दफा करो उसको

वो बेवफा है तो क्या हुआ …मत बुरा कहो उसको ,
तुम मुझ से सेट हो जाओ …दफा करो उसको ..

Dafa Karo Usko

Woh Bewafa Hy …

Continue Reading

मेरे दामन में तो काँटों के सिवा कुछ भी नहीं

मेरे दामन में तो काँटों के सिवा कुछ भी नहीं

मेरे दामन में तो काँटों के सिवा कुछ भी नहीं ..
आप फूलों के खरीदार नज़र आते हैं .

कल जिन्हें छु नहीं सकती थी फरिश्तों की नज़र ..
आज वो रौनक -ऐ -बाजार नज़र आते हैं ..

हशर मैं कौन गवाही मेरी दे ग “साग़र ”
सब तुम्हारे हे तरफदार नज़र आते हैं …

 

Mere Daaman Main To Kanton Ke Siwa Kuch Bhee Nahin

Mere Daaman Main To Kanton Ke Siwa Kuch Bhee Nahin..
Aap Phoolon Ke Kharidaar Nazar Aate Hain.

Kal Jinhein Choo Nahin Sakti Thee Farishton Ki Nazar..
Aaj Wo Ronaq-e-Bazaar Nazar Aate Hain..

Hashr Main Kon Gawahi Meri De Ga “SAGHAR”
Sab Tumhare He Tarafdaar Nazar Aate Hain…


शमा और परवाना 

लोग लेते हैं यूं ही शमा और परवाने का नाम ,
कुछ नहीं है इस जहाँ में गम के अफ़साने का नाम

Shamma or

Continue Reading

हिंदी और उर्दू शायरी – हुस्न -ऐ -अदा – शायरी

सांवली सी सूरत

हुस्न -ऐ-मुजसिम हो या सांवली सी सूरत …!!
इश्क़ अगर रूह से हो तो हर रूप बा-कमाल दिखता है …!!

Saanwali si Surat

Hussn AE Mujasim ho ya Saanwali si Surat…!!
Ishq Agar Rooh say ho to har Roop Ba_ Kamaal Dikhta Hai…!!


हटा कर जुल्फें चेहरे से

हटा कर जुल्फें चेहरे से न छत पर शाम को जाना
कहीं कोई ईद न कर ले अभी रमजान बाकी है ..

Hata Kar Zulfien Chehre Se

Hata Kar Zulfien Chehre Se Na chaat Par Sham Ko Jana
Kahin Koi Eid Na Kar Le Abhi Ramzan Baki Hai…


हुस्न भी लाजवाब है 

तेरी सादगी का हुस्न भी लाजवाब है
मुझे नाज़ है के तू मेरा इंतखाब हाय

Husan Bhi LaaJawab Hai

Teri sadgi ka husan bhi laa jawab hai
Mujhe naaz hai ke tu mera intkhaab hai


हसरत हैं सिर्फ

हसरत हैं सिर्फ तुम्हे पाने की ,
और कोई ख़्वाहिश नहीं …

Continue Reading