shayarisms4lovers mar18 32 - हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी – अल्लम इक़बाल शायरी

हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी – अल्लम इक़बाल शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

बड़ा बे-अदब हूँ

तेरे इश्क़ की इन्तहा चाहता हूँ
मेरी सादगी देख क्या चाहता हूँ
भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी
बड़ा बे-अदब हूँ , सज़ा चाहता हूँ

Bada be-Adab Hoon

Tairay ishq kii intehaa chahataa hoon
mairi saadagii daikh kyaa chahataa hoon
bharii bazm mein raaz ki baat kah di
bada bai-adab hoon, sazaa chahataa hoon….


इक़बाल दुनिया तुझ से नाखुश है

बड़े इसरार पोशीदा हैं इस तनहा पसंदी में .
यह मत समझो के दीवाने जहनदीदा नहीं होते .
ताजुब क्या अगर इक़बाल दुनिया तुझ से नाखुश है
बहुत से लोग दुनिया में पसंददीदा नहीं होते .

IQBAL dunia tujh se nakhush hai

Barray israr poshida hain is tanha pasnadi mein.
Ye mat samjho k dewanay jahan’deeda nahi hotay.
Tajub kya agar IQBAL duniya tujh se nakhush hai
Bohat se log duniya mein pasanddeeda nahi hotay….


दर्द में इज़ाफ़ा

और भी कर देता है दर्द में इज़ाफ़ा
तेरे होते हुए गैरों का दिलासा देना

Dard mein Izaafa

Or bhi kar daita hai Dard mein Izaafa
Tere hote huwe Gairoon ka Dilasa daina….


ज़ख्मो से भर दिया सीना

किसी की याद ने ज़ख्मो से भर दिया सीना
हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी

Zakhmoon se bhar Diya Seena

Kisi Ki Yaad ne Zakhmoon se bhar Diya Seena
Har aik Saans Par Shak hai k Aakhri Hogi…

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 269 - ज़ख्म-ऐ जिगर

ज़ख्म-ऐ जिगर

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

सज़ा

डूबी हैं मेरी उंगलियां खुद अपने ही लहू में ,
यह कांच के टुकड़ों को उठने की सज़ा है ..

Sazaa

Doobi hain meri ungliyaan khud apne hi lahuu main,
Yeh kaanch ke tukrron ko uthaney ki sazaa hai..


गुज़रे हुए वक़्त की यादें

सजा बन जाती है गुज़रे हुए वक़्त की यादें ,
न जाने क्यों छोड़ जाने के लिए मेहरबान होते हैं लोग …

Guzre Hue Waqt Ki Yaadein

Saza Ban Jati Hai Guzre Hue Waqt Ki Yaadein,
Najaane Kyun ChoOr Jaane K Liye Meharban Hote Hein LoOg…


तेरी एक निगाह

मेरे पास इतने सवाल थे मेरी उम्र में न सिमट सके
तेरे पास जितने जवाब थे तेरी एक निगाह में आ गए

Teri ek nigaah

Mere paas itnay sawaal thay meri umar se na simat sakay
Tere paas jitnay jawaab thay teri ek nigaah main aa gaye!!


ज़ख्म-ऐ जिगर

दर्द क्या होता है बताएंगे किसी रोज़
कमाल की ग़ज़ल है तुम को सुनाएंगे किसी रोज़

थी उन की जिद के मैं जाऊँ उन को मनाने
मुझ को यह बेहम था वो बुलाएंगे किसी रोज़

कभी भी मैंने तो सोचा भी नहीं था
वो इतना मेरे दिल को दुखाएंगे किसी रोज़

हर रोज़ शीशे से यही पूछता हूँ मैं
क्या रुख पे तबस्सुम सजाएंगे किसी रोज़

उड़ने दो इन परिंदों को आज़ाद फ़िज़ाओं में
तुम्हारे हों अगर तो लौट आएंगे किसी रोज़

अपने सितम को देख लेना खुद ही साक़ी तुम
ज़ख्म-ऐ -जिगर तुमको दिखायेगें किसी रोज़

Zakham-AE-Jigar

Dard Kya Hota Hai Batayein Gay Kisi Roz
Kamal Ki Ghazal Tum Ko Sunayein Gay Kisi Roz

Thi Un Ki Zid Ki Main Jaaoun Un Ko Manane
Mujh Ko Ye Veham Tha Wo Bulayein Gay Kisi Roz

Kabi Bhi Maine To Socha Bhi Nahi Tha
Wo Itna Mere Dil Ko Dukhayein Gay Kisi Roz

Har Roz Sheshay Se Yehi Poochta Hoon Main
Kya Rukh Pe Tabassum Sajayein Gay Kisi Roz

Urney Do In Parindon Ko Azaad Fizaon Mein
Tumhare Hon Agar To Lout Aayein Gay Kisi Roz

Apne Sitam Ko Dekh Lena Khud Hi Saqi Tum
Zakhm-AE-Jigar Tumko Dekhein Gay Kisi Roz…

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 228 - खुद ही तो की थी उसने मुहब्बत की इब्तदा – एक बेवफा

खुद ही तो की थी उसने मुहब्बत की इब्तदा – एक बेवफा

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

हमे बेवफा का इल्जाम दे गया

ज़िंदा थे जिसकी आस पर वो भी रुला गया
बंधन वफ़ा के तोड़ के सारे चला गया
खुद ही तो की थी उसने मुहब्बत की इब्तदा
हाथों में हाथ दे के खुद ही छुड़ा गया
कर दी जिसके लिए हमने तबाह ज़िन्दगी
उल्टा वो हमे बेवफा का इल्जाम दे गया

Wo Bewafa ka ilzam de Gaya

Zinda thi jiski aas pe Wo bhi rula gaya
Bandhan Wafa ke tood ke Sare chala gaya
Khud hi to ki thi usne MUHABBAT ki IBTADA
Hathon main hath de ke khud hi chuda gaya
Kardi jiske liye humne Tabah zindagi
Ulta wo BEWAFA ka ilzam de gaya…


तमाशा बन दिया मेरा

क़तरा अब एहतजा करे भी तो किया मिले
दरिया जो लग रहे थे समंदर से जा मिले

हर शख्स दौड़ता है यहां भीड़ की तरफ
फिर यह भी चाहता है उसे रास्ता भी मिले

उस आरज़ू ने और तमाशा बन दिया मेरा
जो भी मिले हमारी तरफ देखता मिले

दुनिया को दूसरों की नज़र से न देखिये
चेहरे न पढ़ सके तो किताबों में किया मिले

Tamasha Bna Diya Mera

Qatra ab ehtjaaj karey bhi to kiya miley
Darya jo lag rahe they samandar se ja miley

Har shakhs dodta hai yahaan bhid ki taraf
Phir yeh bhi chahta hai usay raasta miley

Us aarzu ne aur tamasha bana diya mera
Jo bhi miley hamaari taraf dekhta miley

Duniya ko doosron ki nazar se na dekhiye
Chehre na pad sakey to kitaabon mein kiya miley…


तुझे देखने के बाद

सोचा था के किसी से प्यार न करेंगे हम
बदल गया इरादा तुझे देखने के बाद

चैन से सो जाते थे हम सुहानी रातों में
नींदें उड़ गयी मेरी तुझे देखने के बाद

बहुत नाज़ था चाँद को अपनी चांदनी पर
छुप गया बादलोँ में वो भी तुझे देखने के बाद

क्यूँ करूं मैं रिश्ता तेरी ज़ात के साथ
उठ रहे है सवाल तुझे देखने के बाद

अपने चेहरे को छुपा के रखो खुदा के वास्ते
दिल हो जाता है बेकाबू तुझे देखने के बाद

Tujhe Dekhne ke Baad

Socha tha Ke kisi se Piyar Na karain gay hum
badal gaya Irada tujhe Dekhne ke baad

Chain se So jati The Main In Suhani Ratoon mein
Neendain Urh gayi Meri tujhe Dekhne ke Baad

Bahut Naaz tha Chand ko Apni Chandni Par
Chup gaya Badloun mein wo Bhi tujhe Dekhne Ke Baad

Kyon karo main rishta teri …

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 87 - जो सुनाई अंजुमन में शब-ऐ-ग़म की आपबीती

जो सुनाई अंजुमन में शब-ऐ-ग़म की आपबीती

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

पहली नज़र

उस से कहो इक बार और देख कर आज़ाद कर दे मुझे
के मैं आज भी उस की पहली नज़र की क़ैद में हूँ

Pehli Nazar

Us se kaho ik baar aur dekh kar AAZAAD kar de mujhe
Ke main aaj bhi us ki pehli nazar ki qaid main hoon..


तेरी बेवफ़ाइयों पर

मुझे अजमाने वाले मुझे अजमा के रोये
मेरी दस्ताने हसरत सुना सुना के रोये

तेरी बेवफ़ाइयों पर , तेरी कज आदइयों पर
कभी सर छुपा के रोये , कभी मुँह छुपा के रोये

जो सुनाई अंजुमन में शब -ऐ -ग़म की आपबीती
कभी रो के मुस्कराए , कभी मुस्करा के रोये!!

मैं हूँ बे -वतन मुसाफिर , मेरा नाम बेकसी है
मेरा कोई भी नहीं है जो गले लगा के रोये

मेरे पास से गुज़र कर मेरा हाल तक न पुछा
मैं यह कैसे मान जाऊं के वो दूर जा के रोये

Teri Bewafaiyon Par

Mujhe Azmane Wale Mujhe Azmaa ke Roye
Meri Dastane Hasrat Suna Suna ke Roye

Teri Bewafaiyon Par, Teri Kaj Adaiyon Par
Kabhi Sar chupa Ke Roye, Kabi Munh Chupa Ke Roye

Jo Sunai Anjuman Men Shab-ae-Gham Ki Apbiti
Kabhi Ro ke Muskaraye, Kabhi Muskara Ke Roye

Main Hoon Be-Watan Musafir, Mera Naam Bekasi Hai
Mera Koi Bhi Nahin Hai Jo Gale Laga Ke Roye

Mere Paas Se Guzar Kar Mera Haal Tak Na Poocha
Main Yeah Kaise Maan Jaun Ke Wo Door Ja KE Roye…


ज़िंदगी क्या है

ज़िंदगी कुछ भी नहीं फिर भी जीये जाते हैं
तुझपे ऐ वक़्त एहसान किये जाते हैं .

कुछ तो हालात ने मुजरिम हमें ठहराया है
और कुछ आप भी इलज़ाम दिए जाते हैं .

छीन ली वक़्त ने उल्फ़त के ग़मों की दौलत
खाली दामन है वही साथ लिए जाते हैं .

ज़िंदगी क्या है कोई जाने कफ़न है ‘फ़क़ीर’
उम्र के हाथों हम जिसको सिये जाते हैं .

Zindgi kya hai

Zindgi kuch bhi nahin phir bhi jiye jaate hain
Tujhpe ae waqt ehsaan kiye jaate hain.

Kuch to halaat ne mujrim hamain thehraya hai
Auar kuch aap bhi ilzaam diye jaate hain.

Cheen li waqt ne ulfet ke gamon ki daulet
Khaali daaman hai wahi saath liye jaate hain.

Zindgi kya hai koi jaane kafan hai ‘Faaqir’
Umra ke haathon hum jisko siye jaaate hain.…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 184 - ज़ख़्म-ऐ -जिगर तुमको दिखाएगें किसी रोज़ – परवीन शाकिर उर्दू शायरी

ज़ख़्म-ऐ -जिगर तुमको दिखाएगें किसी रोज़ – परवीन शाकिर उर्दू शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

इश्क़ में सच्चा चाँद

पूरा दुःख और आधा चाँद हिजर की शब और ऐसा चाँद
इतने घने बादल के पीछे कितना तनहा होगा चाँद
मेरी करवट पर जाग उठे नींद का कितना कच्चा चाँद
सेहरा सेहरा भटक रहा है अपने इश्क़ में सच्चा चाँद

Ishq mein Sachcha chaand

Pura dukh aur Aadha Chaand Hijr ki shab aur Aisa Chaand
Itne ghane Badal ke piche Kitna tanha Hoga chaand
Meri karavat par Jag uthe Neend ka kitna Kachcha chaand
Sehra sehra Bhatak raha hai Apne ishq mein Sachcha chaand


मिन्नत -ऐ -सैयाद

बहुत रोया वो हम को याद कर के
हमारी ज़िन्दगी बर्बाद कर के

पलट कर फिर यहीं आ जायेंगे हम
वो देखे तो हमें आज़ाद करके

रिहाई की कोई सूरत नहीं है
मगर हाँ मिन्नत -ऐ -सैयाद कर के

बदन मेरा छुआ था उसने लेकिन
गया है रूह को आबाद कर के

हर आमिर तोल देना चाहता है
मुकर्रर-ऐ-ज़ुल्म की मीआद कर के

Minnat-ae-Saiyaad

Bahut roya wo hum ko yaad kar ke
Hamaari zindagi barbaad kar ke

Palat kar phir yahiN aajayenge hum
Wo dekhe to hamain aazaad karke

Rihaayi ki koi soorat nahi hai
Magar haaN minnat-ae-saiyaad kar ke

Badan mera chhuaa tha usne lekin
Gaya hai rooh ko aabaad kar ke

Har amir tool dena chaahta hai
Muqarrar-ae-zulm ki meeaad kar ke..


ज़ख़्म-ऐ -जिगर

उड़ने दो इन परिंदों को आज़ाद फ़िज़ाओं में
तुम्हारे होंगे अगर तो लौट आएंगे किसी रोज़
अपने सितम को देख लेना खुद ही साक़ी तुम
ज़ख़्म-ऐ -जिगर तुमको दिखाएगें किसी रोज़

Zakham-AE-Jigar

Udne do In Parindon Ko Azaad Fizaon Mein
Tumhare Honge Agar To Lout Aayein Gay Kisi Roz
Apne Sitam Ko Dekh Lena Khud Hi Saqi Tum
Zakham-AE-Jigar Tumko Dekhein Gaye Kisi Roz……

Continue Reading

फिर एक बेवफा की कहानी याद आई – Love Break up Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

बेवफा की कहानी

बरसात की भीगी रातों में फिर उनकी याद आई
कुछ अपने जमाना याद आया कुछ उनकी जवानी याद आई
फिर यादों के दौर चले फिर एक बेवफा की कहानी याद आई

Bewafa Ki Kahani

Barsaat ki bheegi raaton mein phir unki yaad aayi
Kuch apne jamana yaad aaya kuch unki jawani yaad aayi
phir yadon ke daur chale phir ek bewafa ki kahani yaad aayi


जब तक रहेंगी साँसे

आप को भूल जाएँ यह नामुमकिन सी बात है
आप को न हो यकीं यह और बात है
जब तक रहेंगी यह साँसे तब तक याद रहोगे
यह साँस ही साथ छोड़ जाएँ तो फिर और बात है

Jab Tak Rahenge Saanse

Aap ko bhool jaye yeh namumkin si baat hai
Aap ko na ho yakin yeh aur baat hai
Jab tak rahenge yeh saanse tab tak yaad rahoge
Yeh Saans hi sath chood jaye toh aur baat hai


कसम हैं हमे

बदलो के बीच यह कैसी साज़िश हुई है आज
मेरा घर था मिटटी का ,मेरे ही घर बारिश हुई
जिद है अगर उन्हें हम पर बिजलियाँ गिराने की
तो कसम हैं हमे भी वही आशियाना बसाने की .

Kasam Hain Hume

Badalo ke beech kaisi sazish hui
Mera ghar tha mitti ka ,mere hi ghar barish hui
Jid hai agar unhe bijiliya girane ki
To kasam hain hume bhi wahi aasiyana banane ki


इश्क़ में फ़ना

प्यार में वो हमको बेपनाह कर गए
फिर ज़िन्दगी में हमको वो तनहा कर गए
चाहत थी उनके इश्क़ में फ़ना होने की
मगर वो लौट के आने को मना कर गए

Ishq Mein Fana

Pyar Humko Bepanah Kar Gaye
Phir Zindagi Mai Humko Tanha Kar Gaye
Chahat Thi Un K Ishq Mai Fana Hone Ki
Magar Wo Laut K Aane Ko Mana Kar Gaye…

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 69 - ज़ख़्मी दिल की शायरी

ज़ख़्मी दिल की शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

इश्क़ में दिल टूट जाता है

मयखाने में जाम  टूट जाता है
इश्क़ में दिल टूट जाता है
न जाने क्या रिश्ता है दोनों में
जाम टूटे तो इश्क़ याद आता है
दिल टूटे तो जाम याद आता है

Ishq Mein Dil Toot Jata Hai

Mayekhane Mein Jam Tut Jata Hai
Ishq Mein Dil Toot Jata Hai
Na Jane Kya Rishta Hai Dono Me
Jaam Tute To Ishq Yaad Aata Hai
Dil Tute To Jaam Yaad Aata Hai


कोई मौजूद है इस क़दर मुझ मैं

ख़ाक उड़ती है रात भर मुझ मैं
कौन फिरता है दर-ब-दर मुझ मैं
मुझ को मुझ मैं जगह नहीं मिलती
कोई मौजूद है इस क़दर मुझ मैं …

Koi mauzood Hai is Qadar mujh main

Khaak udthi hai raat bhar mujh main
Kaun firta hai Dar-b-Dar mujh main
Mujh ko mujh main jagah hahi milti
Koi mauzood Hai is Qadar mujh main

 


ज़र्द आंसुओं की तहरीरें

फ़िज़ा में  बिखरी ज़र्द आंसुओं की तहरीरें
दाग़ -ऐ -गुल में  दरख्तों के दाग़ मिलते हैं
गलत गुमान न कर मेरी इन खुश्क आँखों पे
समंदर में  जज़ीरे ज़रूर मिलते हैं

Zard Ansuoon ki Tehrerein

Fiza mien bikhri zard ansuoon ki tehrerein
daagh-ae-gul mien darakhton ke daagh milte hain
ghallat gumaan na kar meri in khushk aankhon pe
samandar mien jazeere zarur milte hain

 


बेवफ़ा ज़िन्दगी

यह  बेवफ़ा ज़िन्दगी भी तुम्हारे नाम करते हैं ‘ फ़राज़ ‘
सुना है खूब बनती है बेवफा से बेवफा की

Bewafa Zindagi

Yeh Bewafa Zindagi Bhi Tumhare Naam karte hain ‘Faraz’
Suna hai Khoob Banti hai Bewafa Se Bewafa Ki

 


एहद -ऐ-वफ़ा

कोई रिश्ता टूट जाए दुःख तो होता है
अपने हो जाएँ पराये दुःख तो होता है …..
हम मर जाएं एहद -ऐ-वफ़ा निभाते निभाते और उनको यकीन न आए दुःख तो है ….
माना हम नहीं प्यार के क़ाबिल , मगर इस तरह कोई ठुकराये दुःख तो होता है

Ehd-AE-Wafa

Koi rishtaa toot jaaye Dukh to hota hai
Apney ho jayain paraye dukh toh hota hai
hum marjaayein Ehd-e-wafa nibhaate nibhate aur unko yakeen na aaye dukh to hai
maana hum nahi pyaar ke qaabil magar is tarah koi thukraaye dukh to hota hai

 


खिलौना सा एक शख्स

हाथों में तेरे था जो खिलौना सा एक शख्स
एक रोज़ गिर के टूट जायेगा रख राखाओ में ………

Khilona sa ek Shakhs

Haathon mein Tere tha jo Khilona sa ek Shakhs
ek roz gir ke toot gaya rakh …

Continue Reading