shayarisms4lovers mar18 32 - हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी – अल्लम इक़बाल शायरी

हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी – अल्लम इक़बाल शायरी

बड़ा बे-अदब हूँ तेरे इश्क़ की इन्तहा चाहता हूँ मेरी सादगी देख क्या चाहता हूँ भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी बड़ा बे-अदब हूँ , सज़ा चाहता हूँ Bada be-Adab Hoon Tairay ishq kii intehaa chahataa hoon mairi saadagii daikh kyaa chahataa hoon bharii bazm mein raaz ki baat kah di bada bai-adab […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 269 - ज़ख्म-ऐ जिगर

ज़ख्म-ऐ जिगर

सज़ा डूबी हैं मेरी उंगलियां खुद अपने ही लहू में , यह कांच के टुकड़ों को उठने की सज़ा है .. Sazaa Doobi hain meri ungliyaan khud apne hi lahuu main, Yeh kaanch ke tukrron ko uthaney ki sazaa hai.. गुज़रे हुए वक़्त की यादें सजा बन जाती है गुज़रे हुए वक़्त की यादें , […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 228 - खुद ही तो की थी उसने मुहब्बत की इब्तदा – एक बेवफा

खुद ही तो की थी उसने मुहब्बत की इब्तदा – एक बेवफा

हमे बेवफा का इल्जाम दे गया ज़िंदा थे जिसकी आस पर वो भी रुला गया बंधन वफ़ा के तोड़ के सारे चला गया खुद ही तो की थी उसने मुहब्बत की इब्तदा हाथों में हाथ दे के खुद ही छुड़ा गया कर दी जिसके लिए हमने तबाह ज़िन्दगी उल्टा वो हमे बेवफा का इल्जाम दे […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 87 - जो सुनाई अंजुमन में शब-ऐ-ग़म की आपबीती

जो सुनाई अंजुमन में शब-ऐ-ग़म की आपबीती

पहली नज़र उस से कहो इक बार और देख कर आज़ाद कर दे मुझे के मैं आज भी उस की पहली नज़र की क़ैद में हूँ Pehli Nazar Us se kaho ik baar aur dekh kar AAZAAD kar de mujhe Ke main aaj bhi us ki pehli nazar ki qaid main hoon.. तेरी बेवफ़ाइयों पर […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 184 - ज़ख़्म-ऐ -जिगर तुमको दिखाएगें किसी रोज़ – परवीन शाकिर उर्दू शायरी

ज़ख़्म-ऐ -जिगर तुमको दिखाएगें किसी रोज़ – परवीन शाकिर उर्दू शायरी

इश्क़ में सच्चा चाँद पूरा दुःख और आधा चाँद हिजर की शब और ऐसा चाँद इतने घने बादल के पीछे कितना तनहा होगा चाँद मेरी करवट पर जाग उठे नींद का कितना कच्चा चाँद सेहरा सेहरा भटक रहा है अपने इश्क़ में सच्चा चाँद Ishq mein Sachcha chaand Pura dukh aur Aadha Chaand Hijr ki […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - फिर एक बेवफा की कहानी याद आई – Love Break up Shayari

फिर एक बेवफा की कहानी याद आई – Love Break up Shayari

बेवफा की कहानी बरसात की भीगी रातों में फिर उनकी याद आई कुछ अपने जमाना याद आया कुछ उनकी जवानी याद आई फिर यादों के दौर चले फिर एक बेवफा की कहानी याद आई Bewafa Ki Kahani Barsaat ki bheegi raaton mein phir unki yaad aayi Kuch apne jamana yaad aaya kuch unki jawani yaad […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 69 - ज़ख़्मी दिल की शायरी

ज़ख़्मी दिल की शायरी

इश्क़ में दिल टूट जाता है मयखाने में जाम  टूट जाता है इश्क़ में दिल टूट जाता है न जाने क्या रिश्ता है दोनों में जाम टूटे तो इश्क़ याद आता है दिल टूटे तो जाम याद आता है Ishq Mein Dil Toot Jata Hai Mayekhane Mein Jam Tut Jata Hai Ishq Mein Dil Toot […]

Continue Reading