shayarisms4lovers mar18 52 - तेरी खुशबू का एहसास – अक्स-ऐ-खुशबू हूँ उर्दू शायरी

तेरी खुशबू का एहसास – अक्स-ऐ-खुशबू हूँ उर्दू शायरी

अक्स -ऐ -खुशबू हूँ अक्स -ऐ -खुशबू हूँ बिखरने से न रोके कोई और बिखर जाऊं तो मुझे न समेटे कोई काँप उठती हूँ मैं इस तन्हाई में मेरे चेहरे पे तेरा नाम न पढ़ ले कोई जिस तरह ख्वाब मेरे हो गए रेज़ा-रेज़ा इस तरह से न कभी टूट के बिखरे कोई मैं तो […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 18 - दिल की तलाशियाँ

दिल की तलाशियाँ

ज़हर बड़ा अजीब सा ज़हर था उसकी यादों में सारी उम्र गुज़र गयी मुझे मरते मरते Zehar Bada Ajeeb sa Zehar tha uski Yaadon Mein Saari Umar Guzar Gayi Mujhe Marte Marte!!! दिल की तलाशियाँ अपने सिवा बताओ और कुछ मिला है तुम्हे  फ़राज़ ‘ हज़ार बार ली है तुमने इस दिल की तलाशियाँ Dil […]

Continue Reading