shayarisms4lovers mar18 190 - शायरी – एक मुसाफिर अजनबी

शायरी – एक मुसाफिर अजनबी

मुसाफिर के रास्ते बदलते रहे मुसाफिर के रास्ते बदलते रहे , मुक़द्दर में चलना था चलते रहे मेरे रास्तों में उजाला रहा , दीये उसकी आँखों में जलते रहे कोई फूल सा हाथ कंधे पे था , मेरे पाओं शोलों पे चलते रहे सुना है उन्हें भी हवा लग गयी , हवाओं के जो रुख […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान

उम्मीद  उस   ख़ुशी  का  नाम  है  जिस  के  इंतज़ार  में  ग़म  के  अय्याम  कट  जाते  हैं  रिश्ते आजकल उंगलिया ही निभा रही है रिश्ते आजकल, जुबां से निभाने का वक़्त कहाँ है सब टच में बिजी है पर टच में कोई नहीं है एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – उंगलिया ही निभा […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 140 - ज़िन्दगी की किताब उर्दू शायरी – मुनीर नियाज़ी

ज़िन्दगी की किताब उर्दू शायरी – मुनीर नियाज़ी

ज़िन्दगी की किताब यह जो ज़िन्दगी की किताब है यह किताब भी क्या किताब है कहीं एक हसीं सा ख्वाब है कहीं जान लेवा अज़ाब है मुनीर नियाज़ी – ज़िन्दगी की किताब उर्दू शायरी – यह जो ज़िन्दगी की किताब है Zindgi ki Kitab Yeh jo Zindgi ki kitab hai Yeh kitab bhi kya kitab […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 77 - शायरी जो दिल में उतर जाये – लफ़्ज़ों की दास्ताँ

शायरी जो दिल में उतर जाये – लफ़्ज़ों की दास्ताँ

न किया कर अपने दर्द-ऐ-दिल को शायरी में बयान “मोहसिन” लोग और टूट जाते हैं हर लफ़ज़ को अपनी दास्ताँ समझ कर तुम नहीं , गम नहीं , शराब नहीं तुम नहीं , गम नहीं , शराब नहीं ऐसी तन्हाई का जवाब नहीं कभी कभी इसे पढ़ा कीजिये दिल से बेहतर कोई किताब नहीं जाने […]

Continue Reading