shayarisms4lovers June18 292 - यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

2 Lines Shayari Barsaat Shayari Dard Bhari Shayari Emotional Shayari Hindi Shayari Inspirational Shayari Intzaar Shayari Ishq Shayari Life shayari Love Shayari Romantic Shayari Sad Shayari Shayari SMS Status Urdu Shayari Whatsapp Status Yaadein Shayari Yaar Shayari Zindagi Shayari

शाम-ऐ-तन्हाई

शाम से है मुझ को सुबह-ऐ-ग़म की फ़िक्र
सुबह से ग़म शाम-ऐ-तन्हाई का है

Shaam-ae-Tanhai

Sham se hai mujh ko subha-ae-gham ki fikar
Subha se gham shaam-ae-tanhai ka hai


शाम के बाद

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दर्द
तू किसी रोज़ मेरे घर में उतर शाम के बाद
लौट आये न किसी रोज़ वो आवारा मिज़ाज
खोल रखते हैं इसी आस पर दर शाम के बाद

Shaam ke Baad

Tu hai suraj tujhe maloom kahan raat ka dard
Tu kisi roz mere ghar mein utar sham ke baad
Laut aaye na kisi roz wo aavara mizaaj
Khol rakhte hain isi aas par dar shaam ke baad


शाम की दहलीज़

भीगी हुई एक शाम की दहलीज़ पे बैठा हूँ
मैं दिल के सुलगने का सबब सोच रहा हूँ
दुनिया की तो आदत है बदल लेती है आंखें
में उस के बदलने का सबब सोच रहा हूँ

Shaam Ki Dehleez

Bheegi hui ek Shaam Ki Dehleez Pe Baitha hoon
Main dil Ke Sulagne Ka Sabab Soch Raha Hoon
Duniya Ki to Aadat Hai Badal leeti Hai Ankhain
Mein us Ke Badlaney Ka Sabab Soch Raha Hoon


ज़रा सी शाम होने दो

अभी सूरज नहीं डूबा ज़रा सी शाम होने दो
मैं खुद ही लौट जाऊंगा मुझे नाकाम होने दो
मुझे बदनाम करने के बहाने ढूँढ़ते हो क्यों
मैं खुद ही हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम तो होने दो

Zara si Shaam Hone Do

Abhi suraj nahi dooba zara si shaam hone do
Main khud hi laut jaounga mujhe nakaam hone do
Mujhe badnaam karne ke bahane dhoondte ho kyon
Main khud hi ho jaunga badnaam pehle naam to hone do


हमें मालूम था उस शाम भी

जुस्तुजू ख्वावों की उम्र भर करते रहे
चाँद के हमराह हम हर शब् सफर करते रहे
वो न आएगा हमें मालूम था उस शाम भी
इंतज़ार उसका मगर कुछ सोच कर करते रहे

Humein Maaloom Tha us Shaam Bhi

Justuju khwawon ki umar bhar karte rahe
Chand ke humraah hum har shab safar karte rahay
Wo na aayega Humein maaloom tha us shaam bhi
Intezaar uska magar kuch soch kar karte rahay


शाम की पलकों पे लरज़ते रहना

आंसुओं शाम की पलकों पे लरज़ते रहना
डूब जाये जो यह मंज़र तो बरसते रहना
उस की आदत न बदली हर बात अधूरी करना
और फिर बात का मफ़हूम बदलते रहना

Shaam Ki Palkon Pe Larazty Rehna

Ansuoon Shaam Ki Palkon Pe Larazty Rehna
Doob Jaye Jo Yeh Manzar to Baraste Rehna
Us Ki Aadat na badli Har Baat Adhori Karna
Or Phir Baat Ka Mafhoom Badalte Rehna


शाम सूरज को ढलना सिखाती है

शाम सूरज को ढलना सिखाती है
शमा परवाने को जलाना सिखाती है
गिरने वाले को होती तो है तकलीफ
पर ठोकर इंसान को चलना सिखाती है

Shaam Suraj ko Dhalna Sikhati Hai

Shaam suraj ko dhalna sikhati hai
Shaama parwane ko jalana sikhati hai
Girne wale ko hoti to hai taqleef
Par thokar insaan ko chalna sikhati hai


बीती हुई शामों की याद

बिताई एक शाम फिर से तुम्हारे साथ जो हमने
तो वो बीती हुई शामों की याद आ गयी
लिया हाथों में जो तुम्हारा हाथ मैंने आज
तो यादों मैं मेरे वो पहली मुलाकात आ गयी

Bete Hui Shamoon Ki Yaad

bitaie ek Shaam Phir Se Tumhare sath jo humne
To wo Bete Hui Shamoon Ki Yaad Aa Gayi
Liya Haathon Mein Jo Tumhaaraa Haath Maine aaj
To yaadon Mein Mere Wo Pehli Mulaquaat Aa Gayi