अभी कुछ शेयर बाकी है – By Jaun Elia Shayari


इरादा रोज़ करता हूँ , मगर कुछ कर नहीं सकता
मैं पेशेवर फरेबी हूँ , मोहब्बत कर नहीं सकता

यहाँ हर एक चेहरे पर अलग तहरीर लिखी है
मेरी आँखों में ऑंसू हैं , अभी कुछ पढ़ नहीं सकता

मैं उस घर का मुक़ीमी हूँ , जिसे औक़ात कहतें है
मैं अपनी हद में रहता हूँ , सो आगे बढ़ नहीं सकता

अभी कुछ शेयर बाकी है , मगर लिखने नहीं हरगिज़
किसी की लाज रखनी है , सो ज़ाहिर कर नहीं सकता

*************

Irada Roz Karta Hoon,Magar Kuch Kar Nahi Sakta
Main Paisewar Fraibi Hoon , Mohabbat Kar Nahi Sakta

Yahan Har Ek Chehre Par Alag Tehreer Likhi Hai
Meri Aankhon Mein Ansu Hain, Abhi Kuch Padh Nahi Sakta

Main Us Ghar Ka Muqeemi Hoon, Jisy Oqat Kehtein Hai
Main Apni Had Mein Rehta Hoon, So Agay Badh Nahi Sakta

Abhi Kuch Sher Baki Hai, Magar Likhnay Nahi Hargiz
Kisi Ki Laaj Rakhni Hai, So Zahir Kar Nahi Sakta


नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
बिछड़ना है तो झगड़ा क्यों करें हम

ख़ामोशी से अदा हो रास-ऐ-दूरी
कोई हंगामा बरपा क्यों करें हम

यह काफी है की दुश्मन नहीं है हम
वफादारी का दावा फिर क्यों करें हम

*************

Naya Ek Rishta Paida Kyun Karein Hum
Bichhadna Hai To Jhagda Kyun Karien Hum

Khamoshi Se Ada Ho Ras-Ae-Duri
Koi Hungama Barpa Kyun Karein Hum

Yeh Kaafi Hai Ki Dushman Nahi Hai Hum
Wafadari Ka Daava Kyun Karein Hum


कितनी दिलकश हो तुम, कितना दिल-जू हूँ मैं
क्या सितम है की हम लोग मर जाएंगे

*************

Kitni Dilkash Ho Tum , Kitna Dil-Ju Hoon Main
Kya Sitam Hai Ji Hum Log Mar Jaayenge

Leave a Reply