आरजू-ऐ-गुफ़्तगू – आतिश हैदर अली की शायरी

मुझ को इस इश्क़ के बीमार ने सोने न दिया

यार को मैंने मुझे यार ने सोने न दिया
रात भर ताली -ऐ -बेदार ने सोने न दिया

एक शब बुल _बुल -ऐ -बेताब के जागे न नसीब
पहलू -ऐ -गुल में कभी खार ने सोने न दिया

रात भर की दिल -ऐ -बेताब ने बातें मुझ से
मुझ को इस इश्क़ के बीमार ने सोने न दिया

Mujh Ko Is Ishq Ke Biimaar Ne Sone Na Diyaa

Yaar Ko maine Mujhe Yaar Ne Sone Na Diyaa
Raat Bhar Taali-AE-Bedaar Ne Sone Na Diyaa

Ek Shab Bul_Bul-E-Betaab Ke Jaage Na Nasiib
Pahaluu-E-Gul Mein Kabhii Khaar Ne Sone Na Diyaa

Raat Bhar Ki Dil-AE-Betaab Ne Baatein Mujh Se
Mujh Ko Is Ishq Ke Biimaar Ne Sone Na Diyaa


तेरा फ़साना

सुन तो सही जहां में है तेरा फ़साना क्या
कहती है तुझ से ख़ल्क़ -ऐ -खुदा गैबाना क्या

जीना सबा का ढूँढती है अपनी मुश्त -ऐ -ख़ाक
बाम -ऐ -बलंद यार का है आस्ताना क्या

आती है किस तरह से मेरी कब्ज़ -ऐ -रूह को
देखूँ तो मौत ढूँढ रही है बहाना क्या

बेताब है कमाल हमारा दिल-ऐ -अज़ीम
मेहमान सराय -ऐ -जिस्म का होगा रवाना क्या

Teraa Fasaanaa

Sun To Sahii Jahaain Main Hai Teraa Fasaanaa Kyaa
Kehti Hai Tujh Se Khalq-E-Khudaa Gaibaanaa Kyaa

Zenaa Sabaa Kaa Dhuundhati Hai Apani Musht-AE-Khaak
Baam-AE-Baland Yaar Ka Hai Aastaanaa Kyaa

Aati Hai Kis Tarah Se Meri Kabz-AE-Ruuh Ko
Dekhuuin To Maut Dhuundh Rahi Hai Bahaanaa Kyaa

Betaab Hai Kamaal Hamaaraa Dil-AE-Aziim
Mahamaan Saaraay-AE-Jism Kaa Hogaa Ravanaa Kyaaa


यह आरज़ू थी

यह आरज़ू थी तुझे गुल के रू -बा -रू करते
हम और बुल बुल -ऐ -बेताब गुफ्तगू करते

पयामबार न मयस्सर हुआ तो खूब हुआ
ज़बान -ऐ -गैर से क्या शर की आरज़ू करते

मेरी तरह से माह-ओ-महार भी हैं आवारा
किसी हबीब को यह भी हैं जुस्तजू करते

जो देखते तेरी ज़ंजीर -ऐ -ज़ुल्फ़ का आलम
असर होने के आज़ाद आरज़ू करते

न पूछ आलम -ऐ -बरगश्ता ताली -ऐ – “आतिश”
बरसाती आग मैं जो बहाराँ की आरज़ू करते

Yeah Aarazu

Yeah Aarazuu Thi Tujhe Gul Ke Ruu-Ba-Ruu Karate
Ham Aur Bul Bul-AE-Betaab Guftaguu Karte

Payaam Bar Na Mayassar Huaa To Khuub Huaa
Zabaan-AE-Gair Se Kyaa Shar Kii Aarazuu Karate

Meri Tarah Se Maah-O-Mahar Bhi Hain Avara
Kisi Habiib Ko Yeh Bhi Hain Justajuu Karate

Jo Dekhate Teri Zanjeer-AE-Zulf Ka Aalam
Asar Hone Ke Aazaad Aarazuu Karate

Na Puuchh Aalam-AE-Baragashtaa Taali-AE-Aatish
Barasatii Aag Main Jo Baaraan Ki Aarazuu Karate

Leave a Reply