इक आंसू भी गिरा तो सुनाई देगा

Dard Bhari Shayari Dard Shayari Dard-E-Dil Dil Shayari Emotional Shayari

कहाँ जाएंगे तेरे शहर से

कहाँ जाएंगे तेरे शहर से गम जदा हो कर
अभी तो जीना बाकी है अभी तो मरना बाकी है

राजदार न रहा कोई किसको  सुनाए हाल -ऐ -दिल अपना
जिसका जीकर हम करते वो रूहे-यार रहा न अपना

अब कश्मकश यह की न बसते  बने न चलते बने
कुछ यूं हुए बेवफा इस शहर के लोग की बस चलते बने .

Kahan jayinge tere shehar se

kahan jayinge tere shehar se gam jda ho kar
abhi to jina baki hai abhi to marna baki hai

rajdar na raha koi kiso sunaye haal-ae-dil apna
Jiska jikar hum karte wo rohe-yaar raha na apna

Ab kashmkas yeah ki na baste bane na chalte bane
kush yoon hue bewafa is shere ke log ki bas chalte bane.


इक आंसू भी गिरा तो सुनाई देगा

यह मोहबत है जरा सोच के करना
रात होगी तो चाँद भी दिखाई देगा ,
ख्वाबों में तुम्हे वो चेहरा भी दिखाई देगा ;
यह मोहबत है जरा सोच के करना ,
क्योंकि इक आंसू भी गिरा तो सुनाई देगा

Ek AANSU bhi gira to sunai dega

Raat hogi to chand bhi dikhai dega,
khabho me tumhe vo chehra bhi dikhai dega;
ye mohabat hai jara soch ke karna,
kyonki ik AANSU bhi gira to sunai dega.

Leave a Reply